Delhi Government lays foundation for Ashram underpass, flyover extension and DND connectivity; 4-lane 410 m underpass to divert 41% traffic and 6-lanes from Ashram to DND with ramps and subways of ease of mobility #DelhiGovernance #AAPatWork

मुख्यमंत्री कार्यालय

दिल्ली सरकार, दिल्ली

दिल्ली को जाम मुक्त आश्रम का सीएम ने दिया तोहफा, डीएनडी तक फ्लाईओवर व अंडरपास का शिलान्यास

– डीएनडी को आश्रम फ्लाईओवर से जोड़ा जाएगा, एक साल में हो जाएगा तैयार : श्री अरविंद केजरीवाल
– लोगों के समय और ईंधन की होगी बचत, प्रदूषण पर भी लगेगा लगाम : श्री अरविंद केजरीवाल

24 दिसंबर 2019

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को दिल्ली को बड़ा तोहफा दिया। उन्होंने आश्रम फ्लाई ओवर विस्तार व अंडरपास योजना का शिलान्यास किया। इस फ्लाई ओवर के बन जाने से नोएडा व गाजियाबाद के साथ दिल्ली के अन्य हिस्सों से दक्षिणी दिल्ली के लिए आने-जाने वाले लाखों लोगों को जाम से मुक्ति मिल सकेगी। योजना के तहत रिंग रोड पर आश्रम फ्लाई ओवर को डीएनडी फ्लाई ओवर तक विस्तार दिया जाएगा। छह लेन के इस फ्लाई ओवर में तीन लेन आश्रम से डीएनडी जाने के लिए होगी और तीन लेन डीएनडी से आश्रम आने के लिए बनाई जाएगी। इसके अलावा, आश्रम फ्लाई ओवर से सरायं काले खां जाने के लिए तीन लेन का डाउन रैंप और आइटीओ व सराय काले खां से दक्षिणी दिल्ली जाने वाले वाहनों के लिए तीन लेन का अप रैंप डीएनडी लूप से इस फ्लाई ओवर के लिए बनाया जाएगा। करीब 128.25 कोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले इस फ्लाई ओवर का काम एक साल के अंदर पूरा कर लिया जाएगा।

हमारी सरकार ने पूरी दिल्ली में 24 फ्लाई ओवर बनाया – श्री अरविंद केजरीवाल

अंगूरी मार्ग के किलोकरी चौक पर आश्रम फ्लाई ओवर विस्तार योजना के शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आफिस आवर्स के दौरान आश्रम चैक पर प्रतिदिन भीषण जाम लगता है। यहां पर रोज लोगों को 30 से 45 मिनट तक रूकना पड़ता है। इसीलिए जनता की सुविधा और उन्हें जाम से मुक्ति दिलाने के लिए सरकार ने आश्रम फ्लाई ओवर विस्तार योजना बनाई है। आश्रम फ्लाई ओवर से डीएनडी तक सीधे एक फ्लाई ओवर बनाया जाएगा। इससे नोएडा से आने वाले लोगों को कोई रेड लाइट नहीं मिलेगी और वे लोग सीधे लाजपत नगर की तरफ जा पाएंगे। इसी तरह, लाजपत नगर की ओर से लोग नोएडा और सराय काले खां की तरफ जा सकेंगे। यह काफी लंबा फ्लाई ओवर होगा। इसलिए बीच में एक अंडरपास भी बनाया जाएगा। इस चौक के उपर रोजाना होने वाले ट्रैफिक जाम से लोगों को मुक्ति मिलेगी। पिछले पांच साल के अंदर हमारी सरकार ने पूरी दिल्ली में 24 फ्लाई ओवर बनाया है। हमारी कोशिश है कि जगह-जगह लगने वाले जाम से लोगों को मुक्ति मिले।

दिल्ली की ट्रैफिक व्यवस्था की प्लानिंग करेगी एक एजेंसी : श्री अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली देश की राजधानी है। अपनी राजधानी के अंदर सबसे अच्छी सुविधा होनी चाहिए। सारी चीजें अच्छी होनी चाहिए। हमने स्कूल अच्छे कर दिए। अस्पताल अच्छे कर दिए। महिलाओं के लिए डीटीसी का किराया फ्री कर दिया। अब हमें पूरी दिल्ली का ट्रैफिक भी ठीक करना है। उसके लिए हमारी सरकार ने योजना बनाई है। हम पूरी दिल्ली में ट्रैफिक व्यवस्था की प्लानिंग करने की जिम्मेदारी एक एक एजेंसी को दे रहे हैं। वह एजेंसी पूरी दिल्ली के अंदर जहां-जहां पर प्रतिदिन ट्रैफिक जाम लगते है, उन सभी प्वाइंटों की लिस्ट बनाएगी। दिल्ली में सड़के बहुत चौड़ी हैं, लेकिन फिर भी टैफिक जाम होता है। कहीं चार लेन की सड़क है। वह अचानक तीन लेन की हो जाती है और फिर अचानक वह छह लेन की हो जाती हैै। कई जगह सड़क का डिजाइन ठीक नहीं है। सड़क में कई जगह छोटे-छोटे बदलाव करने से ट्रैफिक जाम खत्म किए जा सकते हैं। इसलिए पूरी दिल्ली के ट्रैफिक जाम पर काम करने के लिए एजेंसी को जिम्मेदारी दी जा रही है। दिल्ली में जहां-जहां भी जाम लगता है, एजेंसी उसकी लिस्ट बना कर देगी। एजेंसी हमे बताएगी कि इस प्वांइट पर ट्रैफिक जाम को दूर करने के लिए क्या काम करना होगा। उसके बाद हम एजेंसी की प्लानिंग को लागू करेंगे। हमारी कोशिश रहेगी कि दिल्ली में ज्यादा से ज्यादा लोग जाम से मुक्ति दिला सकें। ट्रैफिक जाम जहां पर भी होता है, वहां लोगों का समय बर्बाद होता है। भारी मात्रा में पेटोल व डीजल फूंकता है और प्रदूषण बढ़ता है। अगर टैफिक जाम से लोगों को मुक्ति मिलेगी, तो उनका समय बचेगा। जहां अभी लोगों को जाने में एक घंटा का समय लगता है, वहां आधे घंटे में पहुंच जाएंगे। इसकी पूरी प्लानिंग हम लोग कर रहे हैं। हम लोगों ने पिछले पांच साल में खूब काम किए। दिल्ली के लोग काम से काफी खुख है। अब दिल्ली की विकास की गाड़ी 100 की स्पीड से चल पड़ी है। आने वाले चुनाव में अब इस गाड़ी को रूकने मत देना।
——
आश्रम अंडरपास निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रिया संपन्न

लोक निर्माण विभाग के प्रमुख अभियंता पीके वत्स ने बताया कि आश्रम फ्लाई ओवर विस्तार योजना के अंतर्गत प्रस्तावित अंडरपास की टेंडर प्रक्रिया संपन्न हो गई है। यह अंडरपास आश्रम चौके पर बनाया जाएगा। अंडरपास के निर्माण में करीब 78 करोड़ रुपये खर्च आएगा। यह अंडरपास अगले एक साल में बना दिया जाएगा। करीब 410 मीटर लंबा अंडरपास चार लेन का होगा। करीब 41 प्रतिशत ट्रैफिक इस अंडरपास का इस्तेमाल करेगी। वहीं, फ्लाई ओवर के निर्माण पर करीब 128.95 करोड़ रुपये खर्च आएगा। इसका निर्माण भी अगले एक साल में पूरा कर लिया जाएगा। यह फ्लाई ओवर आश्रम से डीएनडी तक छह लेन का होगा। सराय काले खां के लिए रैंप बनाया जाएगा। इसी तरह आइटीओ से आश्रम के लिए भी रैंप बनाया जाएगा। यह रैंप करीब 1400 मीटर लंबा होगा। इसके अलावा, पैदल यात्रियों के लिए सब-वे बनाया जाएगा।
———–

सर्वोदय कन्या विद्यालय में नए क्लास रूम का शिलान्यास

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को हरी नगर स्थित सर्वोदय कन्या विद्यालय में नए क्लास रूम बनाए जाने का शिलान्यास किया। इस विद्यालय में सरकार 84 नए क्लास रूम बनाएगी। इससे विद्यालय में पढ़ रहे विद्यार्थियों की शिक्षा में आ रही समस्या दूर हो सकेगी।
——————————————————–

इनका होगा निर्माण
—————————————————————
– 6 लेन का आश्रम विस्तार फ्लाईओवर
– 3 लेन रैंप साउथ दिल्ली से सराय कालेखां जाने के लिए रैंप
– 3 लेन रैंप आईटीओ व सराय कालेखां से साउथ दिल्ली जाने के लिए
– महारानी बाग रेड लाईट पर पैदल यात्रियों के लिए सब वे
– फ्लाईओवर पर एलईडी लाईट
– पिलर पर आर्ट वर्क
– रैंप समेत कुल लंबाई 1425 मीटर
——————————————————————-
पीक आवर में प्रति घंटे इतने वाहनों को होगा फायदा
—————————————————————
कुल वाहन – लगभग 13500

नोएडा व गाजियाबाद से आने वाले वाहन – लगभग 7500

दिल्ली के अन्य हिस्से से साउथ दिल्ली जाने वाले वाहन – लगभग 6000
—————————————————————
डीएनडी लूप से आश्रम चौराहे तक रिंग रोड पर लगता है लंबा जाम

अभी नोएडा व गाजियाबाद से साउथ दिल्ली आने-जाने वाले वाहनों को डीएनडी लूप से आश्रम चौराहे तक जाने के लिए जाम से जूझना पड़ता है। साथ ही आईटीओ व सराय कालेखां से साउथ दिल्ली जाने वालों को जाम से दो-चार होना पड़ता है। लोगों को कई बार दफ्तर आने-जाने में देर हो जाती है। साथ ही देश का ईंधन बर्बाद होता है। कई बार लोगों को इस चौराहे तक जाने में आधे घंटे का समय भी लग जाता है। इससे लाखों लोगों को परेशानी होती थी। अब आश्रम विस्तार फ्लाईओवर योजना से लाखों लोगों को फायदा होगा।

———————————————————————-

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर तैयार हुआ प्लान

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने आश्रम फ्लाईओवर के पास लगने वाले जाम से निपटने के लिए प्लान बनाने का निर्देश लोक निर्माण विभाग को दिया था। जिसके बाद लोक निर्माण विभाग ने फिजिब्लिटी रिपोर्ट तैयार कराई। जिसमें आश्रम फ्लाईओवर को विस्तार देने की बात सामने आई। इससे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को अवगत कराया गया। उन्होंने तत्काल फ्लाईओवर को विस्तार देने की योजना बनाने को कहा। जिसके बाद बृहस्तपतिवार को लोक निर्माण विभाग ने कैबिनेट में फ्लाईओवर विस्तार की योजना रखी। जिसे कैबिनेट ने पिछले दिनों मंजूरी दे दी थी।

————————————————————————
किलोकरी से सड़क पार करने के लिए नहीं लगाना होगा 4 किलोमीटर का चक्कर
———————————————————————–
आश्रम विस्तार फ्लाईओवर के निर्माण के बाद किलोकरी से सड़क पार करने के लिए चार किलोमीटर का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। अब किलोकरी से रिंग रोड पर केवल डेढ़ सौ मीटर चलने के बाद यू टर्न लेकर वाहन चालक सड़क पार कर सकेंगे। साथ ही वह महारानी बाग या साउथ दिल्ली की ओर जा सकेेंगे।
इसी तरह महारानी बाग से सराय कालेखां, नोएडा, आईटीओ व गाजियाबाद जाने के लिए एक किलोमीटर का चक्कर नहीं लगाना होगा। अब रिंग रोड पर डेढ़ सौ मीटर चलकर यू टर्न लेकर गंतव्य की ओर वाहन चालक जा सकेंगे।

———————————————————————————–
रिंग रोड पर सड़क पार करने के लिए हजारों पैदल यात्रियों को जान जोखिम में डालना नहीं पड़ेगा
——————————————————————————

अभी रिंग रोड पर सड़क पार करने के लिए महारानी बाग रेड लाईट का पैदल यात्री सहारा लेते हैं। इस योजना के बाद रेड लाईट को खत्म कर दिया जाएगा। साथ ही वहां पैदल यात्रियों के लिए सब वे का निर्माण होगा। जिसके सहारे पैदल यात्री बगैर रूके सुरक्षित रूप से आ-जा सकेंगे।

————————————————————————————-
यह भी होगा फायदा
———————————————————————————

– नोएडा व गाजियाबाद से एम्स, सफदरजंग, एस्कार्ट, अपोलो अस्पताल आने-जाने वाले यात्रियों को अभी जाम में जूझना पड़ता है। इस योजना के बाद लोग बगैर जाम में फंसे आ-जा सकेंगे।
– आईटीओ व सराय काले खां से साउथ दिल्ली आने-जाने वाले लोगों को भी जाम में नहीं जूझना होगा।
– प्रति दिन हजारों लीटर ईंधन की बचत होगी।
– लोग समय से दफ्तर जा सकेंगे।
——————————————-

मौर्या/-
Office Of the Chief Minister
*Government of NCT of Delhi*
24th December 2019
*Delhi Chief Minister, Shri Arvind Kejriwal lays foundation stone of Ashram flyover extension and underpass*
– *DND to be connected with Ashram flyover, to be ready in a year: CM Shri Arvind Kejriwal*
– *Flyover extension project to save time and fuel, will also reduce pollution: CM Shri Arvind Kejriwal*
: Chief Minister, Shri Arvind Kejriwal laid the foundation stone of the extended Ashram flyover and underpass on Tuesday. To provide relief to the daily commuters from the traffic congestion, the Delhi government had decided to extend the Ashram flyover up to DND flyway and construct an underpass on the Ashram flyover.
Addressing a public gathering at the foundation ceremony, CM Shri Arvind Kejriwal said, “There is heavy traffic congestion on Ashram Chowk during office hours. People are stuck on one signal for at least 45 minutes, which creates a ruckus and long jams on a single road. To provide relief to the daily commuters from traffic congestion, we have decided to extend Ashram flyover up to the DND flyway, which will decrease the travel time between Noida and Ashram due to no extended signals. Commuters traveling from Lajpat Nagar to Noida and Sarai Kale Khan will have to face no diversions or signals.”
Construction of an underpass on the existing Ashram flyover is also underway. This has been done to decongest the Ashram flyover which is one of the busiest roads in the city, especially during peak hours.
CM Shri Arvind Kejriwal said, “In the last five years, the Delhi government has constructed 24 flyovers across the city. We are constantly working to address and eliminate the issue of traffic congestion across various locations. Delhi is the national capital of India, and the national capital needs to have technically improved and advanced infrastructure as well as policies for the welfare of the people. We have improved school infrastructure and health infrastructure. We have provided free bus-rides for women, and people are receiving zero bills because of free electricity. Now, we have to improve the transportation sector in Delhi. The responsibility of identifying and creating a list of all the congested spots which lead to traffic jams in the city will be handed over to an agency.”
“The wide roads in Delhi turn into a narrow lane or three or four-lane roads after a few miles which create a bottleneck situation and heavy traffic at some particular locations. There is a problem in designing roads and changes in the infrastructure can bring about a big change. The designated agency will provide us with a roadmap on how to solve the problem of traffic congestion at various locations across Delhi. Traffic jams lead to wastage of resources and increased pollution. Our motive is to provide convenience to the people and to reduce their traveling time. People of Delhi are very happy with the work that we have in the last five years. And we aim to keep developing Delhi at a rapid pace,” said Chief Minister Arvind Kejriwal.
*Tender process for construction of Ashram underpass completed*
The chief engineer of PWD PK Vats said that the tendering process of the proposed underpass under the Ashram flyover expansion scheme has been completed. The construction of underpass will cost about Rs. 78 crores and will be completed within the next year. The 410 meters long underpass will be four lanes, and after its completion, 41 percent of the traffic will use this underpass. The construction of flyovers will cost around Rs 128.95 crore and will be completed within the next year. It will be a six-lane flyover from Ashram to DND. Ramps will be built for the Sarai Kale Khan. Similarly, ramps will also be built for the Ashram from the ITO. The ramp will be about 1400 metres long. In addition, a subway will be constructed for the convenience of pedestrians.
*Foundation stone of new classroom laid at Sarvodaya Kanya Vidyalaya*
Chief Minister, Shri Arvind Kejriwal laid the foundation stone for the new classroom at Sarvodaya Kanya Vidyalaya in Hari Nagar on Tuesday. The government will build 84 new classrooms in this school to address the problems of quality education and increase capacity building of the schools.
*These roads to be revamped and constructed*
– Six-lane Ashram flyover extension
– Three-lane ramp from South Delhi to Sarai Kale khan
– Three-lane ramp from ITO and Sarai Kalkhan to South Delhi
– Subway for pedestrians on Maharani Bagh red light
– Installation of LED light on flyovers
– Artwork on pillars
– Construction of ramps of total length of 1425 m
****
Maurya/

Dy CM @msisodia launches Akshay Patra kitchen for students in Mohan Cooperative Industrial Area #DelhiGovernance #AAPatWork #MidDayMeal

Office of the Deputy Chief Minister

Govt. of NCT of Delhi
Deputy CM Shri Manish Sisodia launches 51st Kitchen in Mohna Cooperative Industrial Area by Akshay Patra Foundation
24-12-2019
Deputy Chief Minister and Education Minister of Delhi, Shri Manish Sisodia addressed the audience at the launch of the 51st kitchen by Akshaya Patra Foundation in Delhi here on Tuesday, “In our efforts to encourage more students to attend school and our serious commitment towards providing best quality meals to the students, we are collaborating with the Akshaya Patra Foundation by launching this kitchen. It is five minutes walking distance from the school, which is also Akshaya Patra’s 51st kitchen in this country.”
“Shri Arvind kejriwal, our Hon’ble CM of Delhi , flew to Bangalore to inspect the quality of food services provided by Akshaya Patra Foundation and, after being satisfied by the food standards, invited them to come over to Delhi to provide meals for our students of Delhi government schools. The goal is to provide best quality food to our children, and today we have achieved that goal by collaborating with Akshaya Patra Foundation,” he added.
Talking about the noble purpose with which meals are cooked by the Foundation, Shri Manish Sisodia said,
“The quality of food is important, but the intent of cooking and feeding is also important. When we cook food (like our mothers at home) with love and affection, it gets transferred to the food,and the food will be delicious. Likewise, Akshaya Patra Foundation thinks that serving food is a noble goal, and they have come a long way from starting with a few children to now serving meals to lakhs of them all across the country.”
The Deputy CM of Delhi also spoke about the need to meet minimum food quality standards and its importance. “How can we think about the progress of this country if the quality of food that we serve to children is stale and not up to the mark? Food is a basic essential and good quality food is a must. He praised the efforts of the founders of the Akshaya Patra Foundation and went on to congratulate them for devoting their time and money for such a noble cause.
Shri Chanchalapathi Dasa-(vice chairman , the Akshaya Patra foundation) left his engineering career to do something for the country, for the children of this country. Today he has succeeded in providing excellent meals to lakhs of students all over India. We think about earning well after passing out from college, we have great ambitions, but here’s a noble thought that Shri Chanchalapathi Dasa and Shri Mandhu Pandit Dasa (Chairman, the Akshaya Patra Foundation) believed in. They devoted their lives for the greater good, towards bringing a positive change in our country. We should applaud and respect the founding members and the great minds behind the success of Akshaya Patra Foundation.”
The Akshaya Patra Foundation (TAPF) is a public, charitable, secular Trust, registered in Bengaluru. The Board of Trustees comprise missionaries of ISKCON Bengaluru, corporate professionals, and entrepreneurs.
In the year 2000 in Bangalore , the Akshaya Patra Foundation started setting up kitchens, in their commitment to see that children in India get access to nutritious, good quality meals in their schools. The greatest asset of India is the children, if all the children do well in their studies and become successful, the purpose of this foundation will be served is what the foundation believes in . Today, the foundation feeds 18 lakh children every day in India.
***
Maurya/

Delhi’s 2020 calendar dedicated to the children who will make our future and the transformation of Delhi Government schools #AAPatWork #EducationRevolution #DelhiGovernance

Office of the Deputy Chief Minister
Govt. of NCT of Delhi
26-12-2019
– Narrating the “Incredible Story of Delhi Government Schools” through Calendar 2020
– “Education is crucial in our lives”- Dy CM Sisodia
Deputy Chief Minister and Education Minister of Delhi, Shri Manish Sisodia released the Delhi Government’s calendar for the year 2020 which has a special focus on the major endeavours of Delhi Govt. for infrastructural improvement of schools. The theme of the calendar is “Incredible Story of Delhi Government Schools”.
Shri Manish Sisodia said, “When I ask people about the development work brought about by the Delhi Government in the last five years, they always speak about the progress this city has made in the domain of Education. To keep education in the minds of the people and the revolution brought about in the government schools of Delhi, we are releasing this calendar today.”
“The Incredible Story of Delhi Government Schools” focusses on the huge infrastructural transformation brought about by the dedicated efforts of the Delhi Government in collaboration with DTTDC. The idea behind choosing this theme is to emphasize on the importance and vitality of education in our lives.
From establishing a conductive atmosphere for the students by providing access to well-furnished classrooms, well-equipped labs, clean and hygienic toilets along with constructing well-lit auditoriums and clean swimming pools for the students, the Delhi school system has come a long way.
Like every year, Delhi Tourism and Transportation Development Corporation (DTTDC) has brought out this theme-based calendar on behalf of Government of Delhi, bringing to fore the infrastructural transformation of Delhi Government Schools and quality upgradation in the overall experience of its students.
“ People should know that the Delhi Tourism and Transport Development Corporation (DTTDC) has played a very important role in developing infrastructure of Delhi Government schools and carrying out their overall renovation. Delhi Government Schools are crucial spaces wherein a child learns to imbibe the best possible aspects of their surroundings,” said Shri Manish Sisodia.
World Class Infrastructure developed by Delhi Tourism & Transportation Development Corporation and made available to students by the Govt. of Delhi for enabling holistic wellbeing amongst children at school.
The Calendar was launched in a special ceremony by Hon’ble Dy CM, Shri Manish Sisodia along with other senior Government officials.
“Each teacher of the Delhi Government School will be given this calendar,” said Shri Manish Sisodia.
Delhi Tourism has been publishing the theme -calendar every year on behalf of Delhi Govt. for over past three decades. Last year the theme commemorated the 150th birth anniversary of Mahatma Gandhi and was conceptualized on his many visits to Delhi between 1915 and 1948. The Calendar became very popular amidst the industry and also won a prize.
****
2020 के कैलेंडर के माध्यम से “दिल्ली सरकार के स्कूलों की अतुल्य कहानी” का वर्णन
“शिक्षा हमारे जीवन में महत्वपूर्ण है” – उपमुख्यमंत्री सिसोदिया
*नई दिल्ली:* दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री, श्री मनीष सिसोदिया ने वर्ष 2020 के लिए दिल्ली सरकार का कैलेंडर जारी किया। जिसमें दिल्ली सरकार द्वारा, स्कूलों के ढांचागत सुधार के लिए उठाए गए प्रमुख प्रयासों पर विशेष ध्यान दिया गया है। कैलेंडर का विषय “दिल्ली सरकार के स्कूलों की अविश्वसनीय कहानी” है।
श्री मनीष सिसोदिया ने कहा, “जब मैं पिछले पांच वर्षों में लोगों से दिल्ली सरकार द्वारा कराए गये विकास कार्यों के बारे में पूछता हूं, तो वे हमेशा इस शहर में शिक्षा के क्षेत्र में हुई प्रगति के बारे में बोलते हैं। दिल्ली के लोगों को दिल्ली के सरकारी स्कूलों और शिक्षा में आयी क्रांति से जोड़ने के लिए, हम आज इस कैलेंडर को जारी कर रहे हैं। ”
DTTDC के सहयोग से दिल्ली सरकार के समर्पित प्रयासों के द्वारा लाये गए विशाल व संरचनात्मक परिवर्तन पर जारी कैलेंडर “दिल्ली सरकार के स्कूलों की अतुल्य कहानी” पर केंद्रित है। इस विषय को किसी अन्य विषय से ऊपर चुनने के पीछे का विचार हमारे जीवन में शिक्षा के महत्व और जीवन शक्ति पर जोर देना था।
दिल्ली सरकार ने शहर में शिक्षा की व्यवस्था में क्रांतिकारी बदलाव लाने के लिए जो कदम उठाए हैं, उसमें ढांचागत विकास एक अभिन्न भूमिका निभाता है। अच्छी तरह से सुसज्जित सभागारों और छात्रों के लिए स्वच्छ स्विमिंग पूल के निर्माण के साथ-साथ अच्छी तरह से सुसज्जित कक्षाओं, और स्वच्छ शौचालयों तक प्रदान करके, छात्रों के लिए एक बेहतरीन वातावरण स्थापित करना।
“लोगों को पता होना चाहिए कि दिल्ली पर्यटन और परिवहन विकास निगम (DTTDC) की दिल्ली सरकार के स्कूलों के बुनियादी ढांचे को विकसित करने और उनके समग्र नवीनीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका है। दिल्ली सरकार के स्कूल महत्वपूर्ण स्थान हैं जहाँ आने वाल हर एक बच्चा अपने आसपास के सर्वोत्तम संभावित पहलुओं की जानकारी लेना सीखता है” श्री मनीष सिसोदिया ने कहा।
दिल्ली पर्यटन और परिवहन विकास निगम द्वारा विकसित यह कैलेंडर दिल्ली सरकार द्वारा उपलब्ध कराये गये वर्ल्ड क्लास इन्फ्रास्ट्रक्चर पर आधारित है इस विकास का लक्ष्य दिल्ली में स्कूल में बच्चों का समग्र विकास है।
माननीय उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने अन्य वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के साथ एक विशेष समारोह में कैलेंडर का शुभारंभ किया। इस अवसर पर श्री सिसोदिया ने बताया कि “दिल्ली सरकार के स्कूल के प्रत्येक शिक्षक को यह कैलेंडर दिया जाएगा।”
दिल्ली पर्यटन विभाग, दिल्ली सरकार की ओर से हर साल विशेष कैलेंडर का प्रकाशन करता रहा है। पिछले साल की थीम में पूज्य महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाई गई और 1915 और 1948 के बीच दिल्ली की उनकी कई यात्राओं पर संकल्पित किया गया कैलेंडर उद्योग के बीच बहुत लोकप्रिय हुआ और पुरस्कार भी जीता।
****
मौर्या

65,000 families in Ambedkar receive Slum survey certificates; Delhi Government and DUSIB to ensure minimum dignity and service provision of Roti Kapda Makaan to every citizen #DelhiGovernance #AAPatWork

 मुख्यमंत्री कार्यालय

दिल्ली सरकारदिल्ली

 

नई दिल्ली : 24/12/2019

 

 

65  हजार झुग्गी परिवारों को सीएम की सौगात, मिला सर्टिफिकेट

– अब कोई भी नहीं तोड़ पाएगा झुग्गियां

–  मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अंबेडकर नगर में आयोजित सर्टिफिकेट वितरण समारोह में झुग्गी में रहने वालों को दिए सर्टिफिकेट

– झुग्गी के पड़ोस में पक्का मकान बनाकर दिया जाएगा, तब तक झुग्गी नहीं टूटेगी – श्री अरविंद केजरीवाल

– दिल्ली के हर नागरिक को मिले इज्जत की जिंदगी, इसलिए कर रहा हूं सभी प्रयास –  श्री  अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली – 24 दिसंबर 2019

दिल्ली के 65  हजार झुग्गी परिवारों को सीएम अरविंद केजरीवाल ने नव वर्ष से पहले बड़ी सौगात दी है। मंगलवार को दिल्ली सरकार की तरफ से इन 65 हजार झुग्गी परिवार को सर्वे सर्टिफिकेट दिया गया। जिसके बाद अब कोई भी इनकी झुग्गियों को तोड़ नहीं सकेगा।  मुख्यमंत्री  अरविंद केजरीवाल ने अंबेडकर नगर में आयोजित सर्टिफिकेट वितरण समारोह में झुग्गी में रहने वालों को सर्टिफिकेट दिए। जिन्हें सर्टिफिकेट दिया गया है, उन्हें झुग्गी के पड़ोस में पक्का मकान बनाकर भी दिया जाएगा, तब तक झुग्गी को तोड़ा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि शेष रह गए लोगों को भी सर्वे करा कर सर्टिफिकेट दिए जाएंगे। अभी तक आपको झुग्गी के टूटने का डर लगा रहता था। अब इस सर्टिफिकेट के मिलने के बाद आपकी झुग्गी को कोई तोड़ नहीं सकता है। यह सर्टिफिकेट आपके लिए सुरक्षा कवच का काम करेगा। उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली के हर नागरिक को इज्जत की जिंदगी मिले, इसलिए सभी प्रयास कर रहा हूं।  दिल्ली के अंबेडकर नगर में शहरी विकास विभाग व दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड की तरफ से आयोजित सर्टिफिकेट वितरण समारोह में शहरी विकास मंत्री सतेंद्र जैन और विधायक अजय दत्त भी मौजूद रहे।

पूरी दिल्ली में बांटे सर्टिफिकेट

समारोह में कुछ परिवारों को सर्टिफिकेट देने के बाद मुख्यमंत्री  अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज पूरी दिल्ली के साथ देश वासियों और व्यक्तिगत तौर पर मेरे लिए बहुत ही खुशी का दिन है। आज दिल्ली के झुग्गी वासियों को उनके सर्टिफिकेट मिल रहे हैं। जिस तरह से यहां कार्यक्रम चल रहा है। इसी तरह पूरी दिल्ली में कार्यक्रम चल रहे हैं और जिन लोगों का सर्वे हो गया है, उनको यह सर्टिफिकेट बांटे जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी सर्वे चल रहा है। काफी लोग अभी रहे गए हैं। उनका सर्वे चलता रहेगा और उन्हें सर्टिफिकेट देते रहेंगे। आज से हमने इसकी शुरूआत कर दी है। आज 65 हजार लोगों को सर्टिफिकेट दिए जा रहे हैं। अब यह सर्टिफिकेट मिलने के बाद आपकी झुग्गी कोई नहीं तोड़ सकता है। यह एक तरह से आपका सुरक्षा चक्र है।

मुझे पता है झुग्गी में रहने वालों का दर्द क्या होता है, कई बार बुल्डोजर के नीचे लेट बचाईं झुग्गियां:  अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पार्टी बना कर राजनीति में आने से पहले और मुख्यमंत्री बनने से पहले, मैं एक एनजीओ के जरिए दिल्ली की झुग्गियों में काम करता था। कई महीने मैं खुद झुग्गियों में रहा हूं। मुझे पता है कि एक झुग्गी वाले को क्या तकलीफ होती है। किस तरह से झुग्गी वालों के सिर पर तलवार लटकती रहती है। उन्हें हमेशा डर लगा रहा है कि पता नहीं कब कोई आकर झुग्गी तोड़ देगा। हमेशा डर लगा रहता है कि कब डीडीए वाले और सरकारी अफसर बुल्डोजर लेकर आएंगे और झग्गियां तोड़ देंगे। जब मैं समाजसेवी एनजीओ के जरिए झुग्गियों में काम किया करता था, तब कई बार मैं खुद झुग्गी वालों को बचाने के लिए बुल्डोजर के नीचे लेटा हूं। उन दिनों, मैने और मनीष सिसोदिया जी ने कई बार झुग्गियां टूटने से बचाई थी। उन दिनों मुूझे बहुत गुस्सा आता था कि सरकार में कैसे निर्दयी लोग बैठे हैं। इनको जरा सी भी दया नहीं आती है। इतने गरीब लोग हैं। बड़ी मुश्किल से एक आदमी अपनी झुग्गी बनाता है या किराए पर झुग्गी लेता है और यह लोग बुल्डोजर चला कर तोड़ देते हैं। तब मैने सोचा था कि अगर कभी भगवान ने मुझे मौका दिया, तो झुग्गी वालों को इज्जत की जिंदगी देंगे। उन्हें पक्के मकान बना कर देंगे। मैं छोटा सा आदमी हूं। आज से 10 साल पहले कोई जानता नहीं था कि केजरीवाल कौन है। झुग्गी बस्तियों में काम किया करता था। यह तो पता नहीं कैसे उपर वाले की कृपा हुई। आप लोगों की कृपा हुई और एकदम से इस कुर्सी पर बैठा कर मुझे इतनी बड़ी जिम्मेदारी दे दी। जब से कुर्सी पर बैठा हूं। मेरी हमेशा से कोशिश रही है कि सरकार किस तरह से गरीबों के लिए सबसे ज्यादा काम करे।

दूसरी पार्टियां वोट मांगने झुग्गी बस्ती में आती रही हैं और बाद में बुल्डोजर भेजती रही हैं:  श्री  अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री श्री  अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले 70 साल में पूरे देश में कोई ऐसी सरकार नहीं आई है, जिसने झुग्गी वालों के लिए काम किया हो। चाहे वह सरकार किसी भी पार्टी की रही हो। सभी वोट लेने के लिए झुग्गी वालों के पास आते हैं और जीतने के बाद झुग्गियां तोड़ने के लिए बुल्डोजर भेजते हैं। पहली बार एक सरकार आई है कि जिसने पिछले पांच साल में कोई भी झुग्गी तोड़ने नहीं दी। केंद्र सरकार वाले भी जहां झुग्गी तोड़ने पहुंचे, मैं मुख्यमंत्री होते हुए भी बुल्डोजर के सामने खडा हो गया। पहली बार एक सरकार आई है, जिसने गरीबों के बच्चों को अच्छी शिक्षा देने का काम किया है। मुख्यमंत्री ने उपस्थित जन समूह से सवाल किया कि क्या आज तक कोई सरकार आई थी, जिसने सरकारी स्कूल ठीक किए। पहली बार एक सरकार आई है, जो गरीबों के बच्चों को अच्छी षिक्षा दे रही है। आपके परिवार का अच्छा इलाज कराने की कोशिश कर रही है। आपके लिए मोहल्ला क्लीनिक बना रही है। पूरी दिल्ली के अंदर अस्पताल बना रहे हैं। अस्पतालों में सारा इलाज इलाज मुफत कर दिया है। झुग्गियों के अंदर सड़कें और गलियां बना रही है। झुग्गी वालों को शुद्ध पानी दे रही है और फ्री में बिजली दे रही है।

हमारी सरकार झुग्गी में रहने वालों को दी इज्जत की जिंदगी, छोटा भाई देगा पक्का मकान : श्री  अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री श्री  अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुझे पता है कि झुग्गी में कोई मजबूरी व गरीबी में ही रहता है। पैसे होते को ग्रेटर कैलाश जैसे इलाके में बंगला ले लेते। हर आदमी की इच्छा होती है कि उसका भी एक सुंदर सा घर हो। आपके रिश्तेदार आते हैं, तो बताने में शर्म आती है कि आप झुग्गी में रहते हैं। आपके बच्चे काॅलेज जाते हैं, तो उन्हें अपने दोस्तों को बताने में शर्म आती है कि वे झुग्गी में रहते हैं। अब आपका यह छोटा भाई यह जिम्मेदारी लेता है कि आपको पक्का मकान बनवा कर दूंगा। आपको इज्जत की जिंदगी दूंगा। ऐसी जिंदगी दंगा कि आपको फक्र होगा। इससे पहले हमारी सरकार ने 5 हजार लोगों को शिफ्ट कर दिया। पटपड़गंज और कई इलाकों में झुग्गियां थी, उन लोगों को पक्के मकान बना कर दे दिए। जैसे आज हमने सर्टिफिकेट दिए हैं, उसी तरह कार्यक्रम आयोजित कर हमने फ्लैट की चाभी उनके हाथों में दी थी। उनके आंखों में खुशी के आंसू थे। उन्होंने कहा कि इतनी इज्जत आज तक किसी ने नहीं दी। वे लोग खुद अपनी-अपनी झुग्गियां तोड कर अपने फलैट में गए। दो माह बाद मैं खुद उनके पास जाकर पूछा कि कोई दिक्कत तो नहीं है। अब वहां सब खुश हैं। उनको इज्जत की जिंदगी मिली है और अब आप लोगों को भी इज्जत की जिंदगी देंगे। आज सर्टिफिटेक मिल रहे हैं। इसके बाद अब कोई भी आपकी झुग्गी तोडने नहीं आ सकता। अब आप लोगों को दिल्ली सरकार पक्के मकान बना कर देगी। जब पक्के मकान बन जाएं, तब खुद आप अपनी झुग्गी तोड़ कर जाना। कोई दूसरा आपकी झुग्गी नहीं तोड़ेगा।

दिल्ली के विकास की गति रूकने मत देना : श्री  अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आपके लिए स्कूल, पानी, शौचालय, सड़क और दवा का इंतजाम कर दिया और अब सीवर लाइन भी पड़ रही है। महिलाओं के लिए डीटीसी बस का सफर फ्री कर दी है। आपको तीर्थ यात्रा भी लेकर जा रहे हैं। जो बुजुर्ग अभी तक तीर्थ यात्रा पर नहीं गए हैं, वे लोग जरूरत अपने विधायक के पास अपना नाम लिखवा देगा। विकास की गाड़ी बहुत तेजी से चल पड़ी है। अब इसे रूकने मत देना। अभी 100 की स्पीड से चल रही है। अब आने वाले चुनाव में ऐसा धक्का मारना कि 200 की स्पीड से दिल्ली चल पड़े। पिछली बार आपने 70 में से 67 सीटें दी थी। इस बार 70 में से 70 सीटें दे देना। मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्टिफिकेट को लेकर किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है। जिनका सर्वे हो गया है उन सभी लोगों केा सर्टिफिकेट मिल जाएंगे। जिनका अभी तक सर्वे नहीं हुआ है, उनका सर्वे करा दिया जाएगा। जब तब मैं हूं, किसी बात की चिंता मत करना।

इन्हें मुख्यमंत्री ने अपने हाथों से दिया सर्टिफिकेट

मुख्यमंत्री अविंद केजरीवाल ने शीला देवी, गीता, प्रीति, आरती, साहिदा, सरजाना बानो, सोना, जमीर अहमद मुन्नी बेगम, सुमित, राजकुमार, संतोष, मधु व मंदो आदि को अपने हाथों से सर्टिफिकेट दिया। शेष लोगों को विभाग की तरफ से सर्टिफिकेट दिया गया।

————————

इससे पहले शहरी विकास मंत्री सतेंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली की झुग्गियों में रहने वाले लोगों का सर्वे चल रहा है। आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी 65 हजार झुग्गी वालों को सर्टिफिकेट दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने अभी तक बिजली, पानी और महिलाओं का बस सफर मुफत कर दिया है। गुजरात के मुख्यमंत्री ने अपने लिए 191 करोड़ रुपये का अपने लिए हैलीकाॅप्टर खरीदा है, जबकि दिल्ली के मुख्यमंत्री ने 140 करोड़ रुपये खर्च कर महिलाओं का बस में सफर मुक्त कर दिया है।

————————-

इस तरह का होगा सर्टिफिकेट

दिल्ली सरकार मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत जिन झुग्गी बस्ती वालों को सर्वे सर्टिफिकेट देगी, उसमें कई बातों का उल्लेख होगा। 2019-20 में कराए गए सर्वे सर्टिफिकेट में झुग्गी का नंबर, झुग्गी में रहने वाले परिवार के मुखिया का नाम और परिवार के साथ फोटो, कोड संख्या, सर्वे कोड संख्या और लाभार्थी परिवार के वोटर आईडी कार्ड का नंबर दर्ज होगा।

मुख्यमंत्री आवास योजना के लिए ऐसे हुआ सर्वे का काम

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड (डीयूएसआईबी) गरीबों को पक्का आवास मुहैया कराने के लिए सर्वे का काम की।  झुग्गी झोपड़ी में रहने वालों के लिए आवास की कुल माँग का आकलन करने के लिए 675 झुग्गी बस्तियों में बड़े पैमाने पर सर्वेक्षण का काम हुआ। जिससे यह पता चला कि इनके लिए कितने आवास की आवश्यकता है। पूर्व में दिल्ली स्लम और झुग्गी झोपड़ी पुनर्वास और पुनर्वास नीति, 2015 के नाम से जानी जाने वाली मुख्यमंत्री आवास योजना (एमएमएवाई) के तहत झुग्गी समूहों के पुनर्वास के लिए यह एक अनिवार्य प्रक्रिया है। इसके आधार पर ही पात्र लोगों का चयन हुआ। जिसके बाद दिल्ली सरकार झुग्गी में रहने वाले प्रत्येक परिवार को सर्वेक्षण प्रमाण पत्र जारी की। जिसमें परिवार की तस्वीर के साथ स्थान, झुग्गी नंबर है। यह सर्वेक्षण आने वाले वर्षों में गरीबों के लिए घरों के निर्माण की मांग का आकलन करने में सरकार की मदद करेगा।

सर्वेक्षण प्रमाण पत्र में है परिवार की पूरी जानकारी

ऐप-आधारित इस डिजिटल सर्वेक्षण में परिवार के सदस्यों के चित्रों के साथ-साथ उनके व्यक्तिगत पहचान प्रमाण पत्र जैसे आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, बिजली बिल आदि की तस्वीरों के साथ झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले परिवारों के बारे में पूरी जानकारी है। इसमें यह पता लगेगा कि परिवार कितने वर्षों से झुग्गी झोपड़ी में रह रहा है और प्रत्येक घर में व्यक्तियों की संख्या कितनी है। इससे आवंटन प्रक्रिया के दौरान बाद में अनुचित दावों को रोकने में मदद मिलेगी।

DUSIB अधिकारियों की देखरेख में एक स्वतंत्र एजेंसी से सर्वेक्षण कराया गया। ऐप-आधारित सर्वेक्षण भू-निर्देशांक के साथ एक ऑनलाइन डेटाबेस पर सभी जानकारी जानकारी को एकत्र किया।  जिसे अधिकारियों की ओर से ऑनलाइन एक्सेस और सत्यापित किया गया। इससे सर्वे को त्रुटि मुक्त और फर्जीवाड़ा मुक्त बनाया गया।

इस योजना के तहत पात्रता मानदंडों को पूरा करने वाले झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले परिवारों को पक्के फ्लैट आवंटित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री आवास योजना – 2015 का प्राथमिक फोकस इन-सीटू मोड पर है। जिससे  मौजूदा झुग्गी के पांच किलोमीटर के दायरे में पुनर्वास की योजना है। जिससे पुनर्वास करने वाले लोगों के जीवन में न्यूनतम व्यवधान हो। केवल विशेष परिस्थितियों में दूर पुनर्वासित किया जाएगा। वह भी तब जब पांच  किलोमीटर के दायरे में आवास उपलब्ध कराना संभव न हो।  वर्तमान समय में दिल्ली सरकार शहर में प्रमुख स्थानों पर आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए 5500 नई आवास इकाइयों का निर्माण करा रही है।

एक नजर में DUSIB

दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड (DUSIB) दिल्ली सरकार का वह विभाग है जो दिल्ली की मलिन बस्तियों की देखभाल करता है और उनके पुनर्वास की दिशा में काम करता है। दिल्ली सरकार ने 2017 में मुख्यमंत्री आवास योजना को अधिसूचित किया, जो दिल्ली के झुग्गी निवासियों के पुनर्वास पर ध्यान केंद्रित करती है और पात्रता मानदंड, एजेंसियों को जिम्मेदार और प्रक्रिया को पूरा करती है।

 

————————————————-

मौर्या

Delhi Chief Minister @ArvindKejriwal administers oath to school students across Delhi to ensure safety and honour of women #AAPatWork #Nudge #EducationRevolution #DelhiGovernance

मुख्यमंत्री कार्यालय

दिल्ली सरकार, दिल्ली

नई दिल्ली : 23/12/2019

(Eng/Hindi release)

दिल्ली के छात्रों को मुख्यमंत्री ने महिला सम्मान की दिलाई शपथ

– छात्राओं से मुख्यमंत्री ने की अपील, अपने भाइयों को महिला सम्मान की दिलाएं शपथ

– सीएम की सभी शिक्षकों से अपील, 26 दिसंबर को छात्राओं से उनके परिवार की प्रतिक्रिया की लें जानकारी

– तीन-चार माह के अंतराल पर महिला सुरक्षा पर छात्र-छात्राओं से करते रहें चर्चा : श्री अरविंद केजरीवाल

23 दिसम्बर 2019

: दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने महिला सुरक्षा के मुद्दे पर दिल्ली के सभी स्कूलों में कक्षा 6 से 12वीं तक के करीब 22 लाख छात्र-छात्राओं के साथ सोमवार सुबह संवाद किया। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने सभी छात्रों को महिला सम्मान की शपथ दिलाई। साथ ही सभी छात्राओं से अपने भाइयों को महिला सम्मान की शपथ दिलाने की अपील की, ताकि महिलाओं के प्रति उनकी सोच बदली जा सके। मुख्यमंत्री ने सभी स्कूलों के शिक्षकों से कहा कि वे 26 दिसंबर को छात्राओं से उनके परिवार की प्रतिक्रिया की जानकारी लें और हर तीन-चार माह के अंतराल पर महिला सुरक्षा पर छात्र-छात्राओं से चर्चा करते रहें। मुख्यमंत्री ने अभियान के बारे में ट्वीट भी किया और कहा कि हमें ऐसी दिल्ली बनानी है, जहां रात को भी महिलाएं बिना किसी डर के घर से निकल सकें।

दिल्ली के मैथिली शरण मार्ग के शक्ति नगर स्थित स्कूल में आयोजित महिला सुरक्षा पर संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम लोग बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दे पर चर्चा करने के लिए एकत्र हुए हैं। किसी बच्ची ने बताया कि घर और स्कूल में इन बातों पर कभी चर्चा ही नहीं की जाती है। धीरे-धीरे यह सोच इतनी खराब हो गई है कि पिछले कुछ सालों से रोज कहीं न कहीं किसी तरह की गलत घटना सुनने को मिलती है। पूरे देश से इस तरह की घटनाएं सुनने को मिल रही हैं। छोटी-छोटी बच्चियों के साथ गलत काम किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे समझ नहीं आ रहा है कि हमारे समाज को हो क्या गया है। ऐसा नहीं है कि इसमें कोई युवा या बुजुर्ग ही शामिल है। बल्कि इसमें नाबालिग भी शामिल हैं। निर्भया कांड में एक आरोपी नाबालिग था। बहुत पढ़े-लिखे और बहुत अमीर और अनपढ़ लोग भी इसमें शामिल हैं। हम सब लोगों के साथ सरकार और पुलिस को भी कुछ करना होगा। जब तक समाज की सोच नहीं बदलेगी, तब तक सरकार और पुलिस इस समस्या के सामने बहुत छोटी पड़ जाएगी। अगर यह गंदी सोच बढ़ती गई, तो हमारे समाज का हश्र क्या होगा। इस सोच को हमें खत्म करना होगा।

छात्र-छात्राओं ने बेबाकी के साथ मुख्यमंत्री के सामने रखी अपनी बात

इस दौरान कई छात्र-छात्राओं ने बड़ी बेबाकी के साथ मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल के सामने अपनी बात भी रखी। मुख्यमंत्री के यह पूछने पर कि इस तरह की घटनाएं क्यों बढ़ रही हैं। हमें क्या करने की जरूरत है। इस पर एक छात्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री जी, आजकल लोग अपनी सभ्यता को भूल चुके हैं। एक छात्रा ने कहा कि क्योंकि लोगों के अंदर डर ही नहीं है। निर्भया कांड में आरोपियों को अभी तक सजा नहीं मिली है। उनकों डर ही नहीं है कि वे ऐसा कर रहे हैं, तो उनके साथ क्या होगा। एक छात्रा ने कहा कि आजकल पुलिस की इज्जत नहीं है। इसलिए यह सब हो रहा है। एक छात्रा ने कहा कि ऐसा करने वालों के लिए कड़े कानून बनने चाहिए। उन्हें डर हो कि वे ऐसा करते हैं, तो उनके साथ क्या हो सकता है। एक छात्रा ने कहा कि यदि सभी को प्राॅपर एजुकेशन मिले, तो उनके मन में ऐसी सोच बन सकती है कि वे लोग लड़कियों को सही नजरिए से देखें। एजुकेशन और माता-पिता के साथ बातचीत होना बहुत जरूरी है। स्कूल में भी इस पर बात होनी चाहिए। युवा अवस्था में बहुत से बदलाव होते हैं और उस पर बात होनी चाहिए, लेकिन यह सब हमें नहीं मिल पाता है। हम हिचकते हैं। कोई मिलता नहीं है, जिससे हम बात कर सकें। एक छात्र ने कि यह सब सोषल एजुकेशन की कमी से होता है। शिक्षित लोग भी ऐसा करते हैं। वे कभी नहीं सोचते हैं कि महिलाओं को कैसा महसूस होता होगा। लड़कों को सिखाना चाहिए कि अपने आप को उनकी जगह रख सोचा कि उन्हें कैसा महसूस होता होगा। एक छात्र ने कहा कि जो भी लड़की हमारे साथ या हमारे आगे चल रही है, उसे कोई छेड़ता है, तो उसका विरोध करना चाहिए। वह भी हमारी बहन ही है। ऐसा करने वाले यह भूल जाते हैं कि उनके घर में भी उनकी बहन व मां है। एक छात्रा ने कहा कि कुछ लड़कियां पुलिस को बता नहीं पाती हैं। पुलिस भी मदद नहीं करती है और रिश्वत लेकर छोड़ देती हैं। एक छात्र ने कहा कि लड़की को भी अपनी आवाज उठाने का हक है। हम पहले ही उसे इतना दबा देते हैं कि वह कुछ बोल ही नहीं पाती है। लड़की को डरना छोड़ देना चाहिए। लड़की को ही अपनी सोच बदलनी चाहिए और आत्मरक्षा करनी चाहिए। कभी-कभी घरवाले भी कहते हैं कि रहने दो। बड़ी बदनामी होगी। लेकिन उसे अपनी आवाज उठानी चाहिए, क्योंकि वह भी एक जिम्मेदार नागरिक है।

कानून को सख्त करना होगा और पुलिस को बदलना होगा : श्री अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने छात्र-छात्राओं की बात सुनने के बाद कहा कि आप सभी से बात कर के मोटे-मोटे तौर पर यह निकल कर आया कि लोगों के अंदर डर नहीं है। जो लोग भी यह गलत काम करते हैं। उन्हें कानून का डर नहीं है कि वे पकड़े जाएंगे और उनको सजा होगी। ऐसे लोगों को पुलिस का डर नहीं है। कई बार देखने को मिलता है कि जो पीड़िता है, उसकी पुलिस मदद नहीं करती है। गलत काम करने वाला या तो पावरफूल होता है या फिर पैसे दे देता है। इसलिए कानून में सख्ती लाने की जरूरत है। हमें ऐसी व्यवस्था लाने की जरूरत है कि जो दोषी हैं, उन्हें जल्द से जल्द और सख्त से सख्त सजा मिले। उन्हें फांसी तक की सजा मिल सके। यदि जल्द और सख्त सजा मिलेगी, तो लोगों के मन में एक डर पैदा होगा। पुलिस को ठीक होने की जरूरत है। आज हर कोई पुलिस के पास जाने से डरता है। उसे डर लगता है कि कहीं पुलिस उनके खिलाफ ही कार्रवाई न कर दे। इसलिए पुलिस को भी अपने आपको बदलना पड़ेगा। सरकार के स्तर पर हमें ऐसा सिस्टम बनाना पड़ेगा कि जो लोग भी गलत काम करे, तो उसे डर हो कि वह पकड़ा जाएगा।

सोच नहीं बदलेगी, तो कड़े कानून व व्यवस्थाएं बेकार हो जाएंगी: श्री अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जैसे दिल्ली में चारों तरफ सीसीटीवी कैमरे लग रहे हैं। इससे 5, 10 या 20 प्रतिशत की कमी तो आएगी। कुछ बच्चों ने बताया कि पहले उनके नुक्कड़ पर कुछ लड़के खड़े होते थे।, अब वे नहीं खड़े होते हैं। पहले शराब पीते थे। जुआ खेलते थे और ड्रग्स लेकर खड़े होते थे। अपराधी प्रवृत्ति के लोगों को इससे डर लगेगा कि कुछ किए, तो सीसीटीवी कैमरे हैं और पकड़े जाएंगे। हमने पूरी दिल्ली में इस समय 1 लाख 40 हजार सीसीटीवी कैमरे लगवा दिए हैं। अभी 1 लाख 40 हजार और सीसीटीवी कैमरे लगने चालू हो गए हैं। दिल्ली में कुल 2 लाख 80 हजार कैमरे लगेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह संख्या काफी नहीं है। हमारा मकसद दिल्ली के चप्पे-चप्पे पर कैमरा लगवाना है। उसके बाद कोई गलत काम करने पर बच नहीं पाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां पर रात में अंधेरा रहता है, वहां हम लोग स्ट्रीट लाइट लगवा रहे हैं। पूरी दिल्ली में एक-दो दिन में 2 लाख 10 हजार स्टीट लाइट लगनी शुरू हो जाएंगी। दिल्ली का कोई ऐसा कोना नहीं छोड़ेंगे, जहां अंधेरा रहेगा। इसके लिए चाहे जितना भी खर्च करना पड़े, हम करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन सब के बाद भी जब तक हमारी सोच नहीं बदलेगी, तो सारी व्यवस्थाएं बेकार हो जाएंगी। अगर कोई व्यक्ति गलत काम करता है और उसे पता है कि वो सीसीटीवी कैमरे में कैद हो रहा है और पकड़ा जाएगा। जब तक उसकी यह सोच नहीं बदलेगी, उसमें पकड़े जाने का डर भी छोटा पड़ जाएगा। जो लोग भी गलत काम करते हैं, उनके घर में भी महिलाएं होती हैं। वह किसी का पति, भाई, बेटा और किसी का बाप होता है। अगर उनके मन में यह सोच पैदा किया जाए कि अगर मेरी बेटी, बहन, बीबी या मां के साथ ऐसा हो गया, तो क्या होगा। तब उनमें कुछ बदलाव आ सकता है। जब कोई गलत काम करता है, तो उसका परिवार उसे बचाने में लग जाता है। अगर कोई लड़का गलत काम करके आया और उसकी मां कहती है कि कभी मुझे अपना चेहरा नहीं दिखाना। अगर उसकी बहन कह दे कि आज से तेरा-मेरा रिश्ता खत्म हो गया। अगर उसकी पत्नी कह दे कि मैं अब तुम्हारे साथ नहीं रहूंगी। उसे पता हो कि उसका परिवार उससे संबंध खत्म कर लेगा, तो वह गलत काम करने से पहले सोचेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे देश में इसका उल्टा होता है। हम अपने परिवार के व्यक्ति से इतने प्यार करते हैं कि वह 100 खून करके भी आ जाए, तो हम उसे अपना लेते हैं। यह भी सोच बदलनी पड़ेगी।

मुख्यमंत्री ने यह दिलाई शपथ

मुख्यमंत्री ने सभी स्कूलों के छात्रों को शपथ दिलाई कि मै शपथ लेता हूं कि मै हमेशा सभी महिलाओं की इज्जत करूंगा। कभी किसी लड़की से दुव्र्यवहार या दुराचार नहीं करूंगा। अगर कभी कोई महिला मुसीबत में होती है, तो अपनी पूरी क्षमता से उसकी मदद करूंगा। इसके आवा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी लड़कियों से घर जाकर अपने भाई से बात करने और उसे भी शपथ दिलाने की अपील की। छात्राओं ने भी मुख्यमंत्री को भरोसा दिया। मुख्यमंत्री ने सभी शिक्षकों से कहा कि वे लोग 26 दिसंबर को एक घंटा सबके साथ चर्चा करेंगे कि छात्र-छात्राओं के परिवार वालों की क्या प्रतिक्रिया रही।

हमें ऐसी दिल्ली बनानी है जहां रात को भी महिलायें बिना किसी डर के घर से निकल सकें – श्री अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कार्यक्रम के बाद ट्वीट कर कहा आज दिल्ली के सभी स्कूलों के 22 लाख बच्चों के साथ महिला सुरक्षा अभियान शुरू किया। पुलिस और क़ानून व्यवस्था तो ठीक करनी ही है। CCTV कैमरे और स्ट्रीट लाइट भी लगवा रहे हैं। पर समाज की सोच भी बदलनी होगी। हमें ऐसी दिल्ली बनानी है जहां रात को भी महिलायें बिना किसी डर के घर से निकल सकें। आज लड़कों ने शपथ ली कि वे महिलाओं का सम्मान करेंगे, किसी लड़की के साथ दुर्व्यवहार या दुराचार नहीं करेंगे। सभी लड़कियाँ अपने घर जाकर अपने भाई को यही शपथ दिलाएँगी और कहेंगी कि वो अपने भाई से बहुत प्यार करती हैं, लेकिन अगर वो ग़लत काम करेगा तो हमेशा के लिए भाई से रिश्ता तोड़ लेंगी।

कानून सख्त पालन करने के साथ सोच बदलने की भी जरूरत: श्री मनीष सिसोदिया

इससे पूर्व उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने छात्र-छात्राओं से संवाद करते हुए कहा कि जिस नजर से हम अपने घर की मां-बहनों को देखते हैं, वैसे ही सभी को अन्य लड़कियों को भी देखना चाहिए। कानून का सख्त पालन होना चाहिए। व्यवस्थाएं ठीक होनी चाहिए, लेकिन सिर्फ इससे ही काम नहीं चलने वाला है। इसे पूरी तरह रोकने के लिए हमें अपनी मानसिकता या सोच बदलनी चाहिए। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी गली या नुक्कड़ पर चार-पांच लड़के हैं और उनमें से एक भी लड़का किसी लड़की को कुछ गलत बोलता है, तो सभी लोग बदनाम होते हैं। सोच कर देखिए कि जब झुंड बना कर कोई हरकत करते हैं, तो वहां से गुजर रही लड़की पर क्या गुजरती होगी। हमें अपनी सोच बदलनी होगी। उस सोच को कानून से डराया जा सकता और शिक्षा से बदला जा सकता है। स्कूल स्तर से ही लड़के-लड़कियों से इस पर बात करनी चाहिए। बड़े होने के बाद उनकी सोच को बदलना आसान नहीं होता है।

OFFICE OF THE CHIEF MINISTER

GOVT OF NCT OF DELHI

23rd December 2019

Chief Minister Shri Arvind Kejriwal administers oath to school students across Delhi to ensure safety and honour of women

· Boys in schools in Delhi take a pledge to honour and respect women; girls to make their brothers take the same oaths at home

· We need to change the mindsets of people to stop crimes against women: Shri Arvind Kejriwal

 

Chief Minister Mr Arvind Kejriwal administered oath to students in a Delhi government school on Monday, to sensitize students on gender issues and crimes against women. The event was telecasted live in various government, private and aided schools across Delhi. Boys were made to take an oath to respect women and to never misbehave with women. Deputy Chief Minister Shri Manish Sisodia was also present at the oath ceremony.

The Chief Minister requested the girl students to talk to their brothers at home and take the same oath, and to warn them of the repercussions of such acts. He also requested the teachers to conduct a one-hour classroom discussion on the experiences of the students and the reactions of their family members on the oath.

“We launched the women’s safety campaign today along with 22 lakh children from all schools in Delhi. The police and the law and order have to be corrected. CCTV cameras and street lights are also being introduced. But the mindset of the society has to be changed. We have to create a Delhi where women can get out of the house without fear even at night,” the Chief Minister said in a tweet after the programme.

In another tweet, the Chief Minister said, “The boys took an oath to respect women, never abuse or misbehave with a girl. All girls will go home and make their brothers take the same oath and warn them of disowning them if they ever commit such a heinous act.”

We need to change the mindsets of the people to put an end to crimes: CM

Chief Minister Shri Arvind Kejriwal said, “We are gathered here today to address a very important issue, which is not generally discussed in homes or amongst friends and families. The issue has taken a worse form because of that and we end up hearing about horrifying incidents of crimes against our children every second day. People of all ages and backgrounds, educated or uneducated, rich or poor are involved in crimes. I agree that the government and the Police must act upon such incidents, but they will not be able to achieve anything until we change the mindset of the people. We have to change the thought process of the people to stop such incidents.”

CM asks students to suggest solutions to stop crimes against women

To encourage the participation of students in the discussion, CM Shri Arvind Kejriwal asked the students to address the reasons and devise solutions to stop crimes.

CM Kejriwal said, “I am sure that families of all the girls sitting here must be worried about their safety and security all the time. I want all of you to tell me what can be the reasons behind the increase in such brutal incidents and what should be the solution?” The students responded with legitimate reasons behind such crimes, like how there is no fear amongst the criminals, how no action is taken against the convicts and how there are no stringent laws against these crimes. Another student suggested quality education which would change the mindset of people and how conversations between the children and their parents, and teachers with their students can help bring change. Another significant reason that came from the students was the lack of social awareness and how people do not know the consequences of such crimes. A student also said that women often succumb to peer pressure and do not report such incidents to the Police because of the society and indifference of the Police against women.

Stringent laws and timely resolution of cases needed to decrease crime rate: CM Shri Arvind Kejriwal

CM Arvind Kejriwal said that the convicts are not scared of the consequences of their actions, they do not fear the law and the cases filed against them usually take a long time to get resolved. “It is often observed that instead of helping the victim, the Police favors the convicts. We need stringent laws and a proper judicial system to ensure that the convicts get the strictest punishment in a minimal time span. Strictest punishment in the least time will bring fear amongst people. We also often witness that the families of the victim dread going to the Police for they think that they will come under the scanner. The Police need to change their attitude toward the people,” added the Chief Minister.

A system needs to be developed on behalf of the government needed to ensure women safety: CM Shri Arvind Kejriwal

CM Shri Kejriwal said, “We need to develop a system on behalf of the government, to make sure that people realize that they will be caught if they commit such crimes. For instance, the installation of CCTV cameras across the city will ensure a decrease in the rate of such crimes. People are now scared of the repercussions of committing crimes as they will be caught through the CCTV cameras. We have installed 1,40,000 CCTV cameras and are further installing 1,40,000 cameras beginning tomorrow, which means an installation of a total of 2,80,000 CCTV cameras across Delhi. But these numbers are not significant, our only aim is to install CCTV cameras at every nook and corner of the city to make sure that the convicts are traced and arrested.”

“We are also installing 2,10,000 street lights across Delhi starting tomorrow to ensure that there are no dark spots in the city. But along with all these measures, the most important thing is to change the mindset of the people. If the crimes keep on increasing at a rapid pace, no policing or government system will be able to do anything about them,” added the CM.

Families should disown convicts, should not try to save them from punishment: CM Shri Arvind Kejriwal

CM Arvind Kejriwal said that people need to be sensitive about such issues and think about the repercussions of such incidents on their family members. Instead of saving the convicts from the punishment, families should disown the convicts to make them realize their faults. “People will not commit such crimes out of the fear of losing their families. Boys will take an oath today and pledge to respect women and never commit such acts, I am sure that this will change the mindset of the people for good.”

Girls should make their brothers take the oath, teachers should conduct one-hour discussion session in schools: CM Shri Arvind Kejriwal

CM Shri Arvind Kejriwal applauded the education provided in Delhi government schools and said he is sure that no student will event commit such a crime. “We also have to put across a point to intervene and stop such incidents even if our lives are at stake. I also want to request the girls to go home, talk to their brothers and make them take the same pledge. I also need you to warn them of the consequences if they ever indulge in such incidents,” added the CM.

CM Shri Arvind Kejriwal said, “I would also like to request the teachers to take a one-hour lecture to discuss the experiences of the students and the reactions of their family members on the oath. We need to start a dialogue on this in schools and homes. I am happy to initiate this program today, and we will repeat this discussion at regular intervals of 3-4 months. I hope that through this we continue to change the mindset of the people.”

Deputy Chief Minister Shri Manish Sisodia said, “It is very important to address this issue. Hon’ble CM believes that there should be stringent laws against and timely resolution of cases of crimes against women. Delhi is a bit unauthorized, but the Delhi government has installed CCTV cameras and street lights across the city for women safety. Whereas installation of CCTV cameras and street lights is important, it is also important to change the mindset of the people and society as a whole. This mindset and thought process can be changed through quality education. If we want our society to progress, we need to give equal opportunities to women. We need to treat them as equal citizens. We need to promise ourselves to make the city safer for women.”

***

Maurya/

Delhi’s MMAY to realistically find affordable housing for all through rental housing, PPP housing, DBO/contractor construction and policy/engineering innovations #DelhiGovernance #AAPatWork

 OFFICE OF THE CHIEF MINISTER

GOVERNMENT OF NCT OF DELHI

****

New Delhi: 24/12/2019

CM Shri Arvind Kejriwal ’s gift to over 65,000 families residing in slums of Delhi

  • Chief Minister Shri Arvind Kejriwal hands over ownership certificates to families residing in slum clusters, who will now get pucca houses
  • Certificates to ensure no demolition of slums and allotment of pucca houses to slum dwellers: Shri Arvind Kejriwal
  • I will continue to work for the rights of the poor: CM Shri Arvind Kejriwal

Launching the Mukhyamantri Aawas Yojana, Chief Minister Mr Arvind Kejriwal  on Tuesday personally handed over certificates to slum dwellers in Ambedkar Nagar area of Delhi, for the allotment of pucca houses and to ensure that their jhuggis will not be demolished by any authority now.
The launch of the ambitious programme marked the new year gift for 65,000 families of Delhi, residing in slum clusters, who have been covered in the survey conducted by the Delhi Urban Shelter Improvement Board (DUSIB), and following this survey, these families are being provided certificates for allotment of permanent houses to them under the Delhi government’s ambitious housing scheme.
Addressing the public on the occasion the Chief Minister said, “It is a matter of great pride and happiness for all of us today. The slum dwellers who have been covered under the Delhi government’s survey are getting pucca houses. Certificate distribution programs are happening at various locations in Delhi. The survey is underway in the entire city and certificates will be given to all slum dwellers as soon as the survey is completed. Around 65,000 who have already been covered under the survey across the city are being given certificates. The certificate ensures no encroachment or demolishing of slum areas.”
Mr Kejriwal said that he understands the problems faced by slum dwellers because he has lived in slums before forming the government in 2015. He said, “Before becoming the Chief Minister in 2015, I used to work in the slum areas of Seemapuri and Sundar Nagri. I understand the troubles faced by people living in slum areas because I have lived in slums for some time. The slum dwellers are constantly scared of encroachment and demolishing of their spaces by authorities such as DDA and other government officials. I have often put my life at stake while trying to save these slums, and Manish Ji and I have worked together towards ensuring security for the people. We used to be furious at the government for being inconsiderate and merciless for the problems faced by the people living in slum areas. It is then that we thought of working towards constructing legitimate dwelling spaces for them.”
“Just a few years back, no one even knew who Arvind Kejriwal was. I believe I have attained this position with your blessings and good wishes. Since the formation of the government, I have always thought of working towards the welfare of poor people. In the last 70 years, Has any other government worked towards the welfare of people living in slums? Every government visits slum dwellers for votes and encroaches their slums after coming to power. This is the first government to have worked for saving the slums from being demolished,” added the Chief Minister.
Mr Kejriwal said, “I have stopped encroachments and dismantling of slums on lands owned by both the Delhi government and Central government. We are the only government to have worked towards providing quality education to the children of the poor and towards providing quality healthcare to your families. We are constructing Mohalla Clinics and government hospitals, and providing free treatment to the people of Delhi. We are the first government in Delhi which is constructing roads in slum areas and providing free water and electricity to people living in slums.”
He also said that the people who have been allotted pucca houses are happy and satisfied because they are getting all the basic amenities. “We need to understand that people are living in slums against their wishes and desires. They fear humiliation in the outside world if they tell people they live in slums. I belong to your family, I am like your younger brother, and it is my responsibility to build a pucca house for my family. It is my duty to give them a life of respect and dignity. We have shifted 5000 people and built pucca houses for the people living in slums in Patparganj and other areas. They had tears of joy when I handed over the keys to them. They told me they have never been given this much respect ever and they are happy and satisfied. These certificates are a surety of non-destruction and non-encroachment of your slums, as well as a surety of getting pucca houses,” said the Chief Minister.

 What is the certificate and what does it mean ?

These certificates under the Mukhyamantri Aawas Yojana will have the following elements : According to the 2019-20 survey, the certificate bears the Jhuggi number, name of the head of the family along with a family photograph, code number, survey code number and the Voter identity card number of the beneficiary family.

How was the survey carried out ?

 

Delhi Urban Shelter Improvement Board (DUSIB) in its 22nd Board Meeting, held on 13/07/2018 had approved that DUSIB will conduct a demand survey of all JJ Basties in Delhi and will issue survey certificate to the JJ dwellers having photograph of the occupants of the surveyed units. Chief Minister Mr Arvind Kejriwal in the meeting held on 15/12/2017 had decided that  DUSIB will carry out the demand survey of all JJ basties of Delhi.

The work of conducting the survey was assigned to M/s Society for Promotion of Youth & Masses (SPYM). The Delhi cabinet in is meeting on 29/01/2019  renamed the Delhi Slum & JJ Rehabilitation and Relocation Policy, 2015 as Mukhya Mantri Awas Yojna.

The DUSIB survey was started on 12thJune this year and the Demand survey of 69684 jhuggis of these JJ bastis have been completed.  Survey certificates of 67459 JJ dwellers having photograph of the occupants of the surveyed units of 156 JJ Basties have been printed and are now being distributed.

Delhi Government adds buses every month to its fleet; 525 buses added to city fleet since August with monthly augmentation on low floor buses and tendering on EV buses #DelhiGovernance #AAPatWork

OFFICE OF THE CHIEF MINISTER

GOVERNMENT OF NCT OF DELHI

****

New Delhi: 26/12/2019

CM Shri Arvind Kejriwal flags-off 100 new ultra modern buses for Delhi roads

· CM says Delhiites getting happy news from the govt every week now

· Arvind Kejriwal says modernisation of Delhi’s transport sector is his dream

· Transport Minister, Shri Kailash Gahlot says 525 new ultra modern buses are on Delhi roads since August

Chief Minister Mr Arvind Kejriwal on Thursday flagged-off 100 new ultra modern buses equipped with state of the art features including CTTVs, panic buttons on every seat, hydraulic lifts for differently abled passengers and GPS tracking systems.

The buses were flagged-off from the Rajghat Depot, at a ceremony attended by the Transport Minister Mr Kailash Gahlot, senior officers of the Transport Department, DTC and DIMTS.

Speaking on the occasion, the Chief Minister said :“ We have added 100 new buses to the fleet today, and now Delhiites are getting happy news every week. Hundreds of new buses will be added within the next five to six months. The shortage of buses since many years is now being addressed with these new additional buses. We aim to transform and modernize the transport sector in Delhi. I want to congratulate the people of Delhi.”

Mr Kejriwal stated :“ It is my dream to modernize Delhi’s public transport infrastructure so that it becomes a comfortable option for every citizen. One thousand electric buses will also be inducted very soon.”

Transport Minister Mr Kailash Gahlot said the government has succeeded in getting new buses after a lot of hard work and after having battled on many fronts.

The Minister gave the break-up of new buses which have been inducted in the fleet since the month of August :

20th August : 25 new buses

25th Oct : 100

07th Nov : 100

28th Nov : 100

10th Dec : 100

26th Dec : 100

A total of 525 new buses with ultra modern facilities have been put on Delhi roads since the Month of August.

Salient features of the buses

Hydraulic lifts for the differently-abled to facilitate boarding and aligning of wheelchairs

CCTV cameras for female safety

Panic button with hooter

GPS for bus tracking

Comfortable seats

Details of the buses

 

These buses are 37 seater buses. All buses have hydraulic lifts for the convenience of differently-abled. Also, 14 panic buttons have been installed inside the bus. Each side has 7-7 panic buttons. At the same time, three CCTV cameras have been installed inside the bus.

New 100 buses flagged-off today to ply on following routes :

Tilak Nagar to Bakkargarh Border – 12

Tilak Nagar to Jaffarpur Kalan – 3

Auchandi Border to Azadpur – 12

Sultanpur Dabas to Old Delhi Railway Station – 6

Old Delhi Railway Station to Ramzanpur Village – 9

Singhu Border to Tikri Border – 9

Old Delhi Railway Station to Jhingola Village – 8

Inderlok Metro Station to Dhansa Border – 11

Nilothi Extension to Mori Gate Terminal – 8

Narela to Najafgarh – 6

Singhu Border to Kamla Market – 8

Azadpur to Narela Terminal – 8

1000 Low floor AC buses

In addition to the above buses, 1000 Low floor AC buses are also being inducted in the scheme. These buses will be suitable for boarding and alighting of differently-abled persons, elderly persons, children, and women. The contract of 650 Low Floor buses has already been awarded by the Department of Transport for three clusters and these buses will start coming from January 2020. The tender for balance 350 buses is being floated.

Further, the Delhi government is also inducting 1000 Electric buses in phases. In the 1st phase, the tender for 300 Electric Buses (Low Floor, 12 meters) was floated on 15th October. The last date for the submission of bids was 13th November 2019. The financial bid for 1,000 low-floor, air-conditioned, CNG-run buses has also been opened.

The tender process for 300 electric buses begins

Delhi Transport Corporation (DTC) has floated tenders for the purchase of 300 electric buses. These buses will be in addition to 1,000 cluster e-buses, which are already scheduled to be added to the existing fleet. The tendering process is likely to be completed by 15th December 2019. Financial bids for 1,000 low-floor, air-conditioned, CNG-run cluster buses have also been opened. As per the Delhi government’s budget for 2019-20, the e-bus procurement project was delayed by more than one year due to the Lok Sabha elections this year. Earlier, the Delhi government had approved tenders for the first fleet of 385 electric buses on 2nd March this year. The tenders were floated on 10 March, but the process was disrupted due to elections.

Number of buses to be inducted into the DTC

January 2020 – 60

February 2020 – 104

March 2020 – 130

April 2020 – 160

May 2020 – 196

____________________________________________________

मुख्यमंत्री कार्यालय

दिल्ली सरकार, दिल्ली

 

नई दिल्ली : 26/12/2019

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने राजघाट से 100 नई बसों को दिखाई हरी झंडी
पिछले चार माह में बेड़े में शामिल हो गई 529 अल्टा माॅर्डन बसें, 12 रूटों पर चलेंगी नई बसें

बसों में हाइड्रोलिक लिफ्ट, पैनिक बटन, सीसीटीवी कैमरे, जीपीएस समेत अन्य आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध: मुख्यमंत्री

अगले तीन-चार महीने में और बसों के आ जाने से दूर हो जाएगी लोगों की परिवहन की समस्या: श्री अरविंद केजरीवाल

: मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को राजघाट क्लस्टर बस डिपो से 100 नई अल्ट्रा माॅर्डन बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह नई बसें दिल्ली के 12 रूटों पर संचालित की जाएंगी। इन बसों में हाइड्रोलिक लिफ्ट, पैनिक बटन, सीसीटीवी कैमरे व जीपीएस समेत सभी आधुनिकतम सुविधाएं उपलब्ध हैं। इससे पहले, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 25 अक्टूबर 2019 को भी 104 नई बसों को द्वारका सेक्टर-22 डिपो से हरी झंडी दिखाए थे। उसके बाद 7 नवंबर 2019 को राजघाट डिपो से 100 बसों को रवाना किए थे। नवंबर के अंत में भी राजघाट डिपो से ही 100 और बसों को रवाना किए थे। दिसंबर के प्रारंभ में परिवहन मंत्री ने सौ बसों को हरी झंडी दिखाई थी। इस तरह, पिछले चार माह में बेडे में अब 529 नई बसें शामिल हो गई हैं। इससे दिल्ली की सार्वजनिक यातायात व्यवस्था को सुदृढ करने में बहुत मदद मिल रही है।

अब दिल्ली के लोगों को हर जगह कम समय में बसें मिला करेंगी – श्री अरविंद केजरीवाल

राजघाट क्लस्टर बस डिपो से 100 नई बसों को हरी झंडी दिखाने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज 100 और बसों को डीटीसी के बेड़े में शामिल कर लिया गया है। दिल्ली के निवासियों को सरकार की तरफ से हर सप्ताह खुश-खबरी मिल रही है। लोगों की सहूलियत के मद्देनजर बहुत सारी बसें खरीदी जा रही हैं। अगले तीन-चार महीने में और बसें आने वाली हैं। कई सालों से दिल्ली में बसों की जो कमी महसूस की जा रही थी। वह कमी अब पूरी हो जाएगी। अब लोगों को बस की किल्लत नहीं झेलनी पड़ेगी। अब लोगों को हर जगह कम समय में बसें मिला करेंगी। हमारा मकसद है कि दिल्ली की यातायात व्यवस्था को बहुत ही आधुनिक बनाया जाए। लोगों के लिए बस का सफर आरामदेह बनाया जाए। उसी दिशा में यह सारी बसें खरीदी जा रही हैं। दिल्ली के लोगों को इसके लिए आज मैं बधाई देता हूं।
———————————————

अब दिल्ली को नियमित रूप से नई बसें मिलती रहेंगी: श्री कैलाश गहलोत

इस दौरान परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि आज हमें 100 नई अल्ट्रा मॉडर्न बसें मिली हैं, जो सीसीटीवी कैमरे, जीपीएस, पैनिक बटन और हाइड्रोलिक लिफ्ट के साथ अन्य सुविधाओं से सुसज्जित हैं। नई बसों में तीन सीसीटीवी कैमरे हैं। हर वैकल्पिक सीट पर एक पैनिक बटन है और अगर एक पैनिक बटन दबाया जाता है, तो एक बड़ा हूटर कमांड सेंटर को सक्रिय करता है। अब दिल्ली की हर बस में मार्शल हैं। दिल्ली को नियमित रूप से नई बसें मिलती रहेंगी। सरकार सार्वजनिक परिवहन के पर्याप्त साधन उपलब्ध कराने की अपनी प्रतिबद्धता का पालन कर रही है।
——————————————-

बसों में इस तरह की हैं सुविधाएं-

आँरेंज कलर की ये नई बसें 37 सीटों वाली हैं। सभी बसों में हाइड्रोलिक लिफ्ट है। जिससे दिव्यांग जनों को बस में सवार होने में सहूलियत होगी। इसके अलावा, बस में 14 पैनिक बटन लगाए गए हैं। हर साइड में 7-7 पैनिक बटन हैं। इसके साथ ही तीन सीसीसीटीवी कैमरे अंदर लगाए गए हैं।
———————————————–

बसों की मुख्य विशेषताएं
———————————————-
व्हील चेयर से चलने वाले सवारियों के बोर्डिंग और अलाइटिंग की सुविधा के लिए अलग-अलग एबल्ड पर्सन के लिए हाइड्रोलिक लिफ्ट्स


महिला सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे


हूटर के साथ पैनिक बटन


बस की ट्रैकिंग के लिए जीपीएस सिस्टम


आरामदेह सीटें


जीपीएस ट्रैकर


———————————————-

पैनिक बटन-
——

हर बस में यात्री केबिन में विभिन्न प्वाइंट पर यह पैनिक बटन होंगे। एक बार जब कोई यात्री पैनिक बटन दबाएगा, तो बस का सीसीटीवी फुटेज सीधे सेंट्रल कमांड सेंटर पर चला जाएगा और पुलिस हॉटलाइन तुरंत सक्रिय हो जाएगी। बस का जीपीएस लोकेशन स्वत बैकएंड तक पहुंच जाएगा। पैनिक बटन हर बस में सीसीटीवी और जीपीएस के ज्वाइंट सेट के साथ हैं।
———————————————

इन रूटों पर चलेंगी यह बसें
———————————————
तिलक नगर से बक्करगढ़ बाॅर्डर – 12


तिलक नगर से जाफरपुर कलान – 3


औचंदी बाॅर्डर से आजादपुर – 12


सुल्तानपुर डबास से पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन – 6


पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से रमजानपुर गांव – 9


सिंघु बाॅर्डर से तिकरी बाॅर्डर – 9


पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से झिंगोला गांव – 8


इन्दरलोक मेटो स्टेशन से धन्सा बाॅर्डर – 11


निलोठी एक्सटेंशन से मोरी गेट टर्मिनल – 8


नरेला से नजफगढ़ – 6


सिंघु बाॅर्डर से कमला मार्केट – 8


आजादपुर से नरेला टर्मिनल – 8

———————————————-
300 इलेक्ट्रिक बसों के लिए टेंडर प्रक्रिया प्रारंभ

दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) 300 इलेक्ट्रिक बसों की खरीद के लिए टेंडर जारी कर चुका है। ये बसें 1,000 क्लस्टर ई-बसों के अतिरिक्त होंगी, जिन्हें पहले से ही मौजूदा बेड़े में जोड़ा जाना तय है। टेंडर प्रक्रिया जारी है। 1,000 लो-फ्लोर, वातानुकूलित, सीएनजी-रन क्लस्टर बसों के लिए वित्तीय बोली भी खोली गई है। 2019-20 के लिए दिल्ली सरकार के बजट के अनुसार, इस वर्ष लोकसभा चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता सहित विभिन्न कारणों से ई-बस खरीद परियोजना में एक वर्ष से अधिक की देरी हुई। इससे पहले, दिल्ली सरकार ने इस साल 2 मार्च को 385 पूर्ण-इलेक्ट्रिक बसों के पहले बेड़े के लिए निविदाओं को मंजूरी दी थी। निविदाएं 10 मार्च को मंगाई गई थीं, लेकिन मतदान के कारण प्रक्रिया बाधित हो गई थी। अब प्रक्रिया चल रही है।
——————————————————

एक हजार बसों से ग्रामीण क्षेत्र में परिवहन व्यवस्था होगी सुदृढ
एक हजार नई बसें से दिल्ली के ग्रामीण क्षेत्र में परिवहन व्यवस्था सुदृढ़ होंगी। यह क्षेत्र अब तक बसों की कमी का सामना कर रहा था। मेट्रो स्टेशनों, अस्पतालों और ट्रैफिक इंटरचेंज हब के लिए कश्मीरी गेट, आनंद विहार टर्मिनल और सराय कालेखां में मेट्रो स्टेशनों, कनेक्टिविटी प्रदान करने वाले अतिरिक्त मार्गों को इन बसों द्वारा सेवा दी जाएगी।
——————————————————–

इस तरह डीटीसी बेड़ में शामिल होंगी बसें
जनवरी, 2020 – 60
फरवरी, 2020 – 104
मार्च, 2020 – 130
अप्रैल, 2020 – 160
मई, 2020 – 196
————————————-

इस तरह बेड़े में शामिल हुई क्लस्टर बसें
————————————-

अगस्त 2019 – 25
सितंबर 2019 – 100
अक्टूबर 2019 – 104
नवंबर 2019 – 100
नवंबर 2019 – 100
दिसंबर 2019 – 100

****
मौर्या