*Around 9 lakh students attended online or SMS/IVR enabled learning programmes during last two months – Manish Sisodia* #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Office of the Deputy CMGovt of NCT of Delhi****

*Shri Manish Sisodia reviews online and SMS/IVR supported learning for Delhi Govt. school children*
*From regular classrooms to virtual experience, Delhi government responds with comprehensive set of activities to beat the lockdown*
*Delhi Govt. introduced and implemented 5 key programmes to support the learning of students across all classes during lockdown- Manish Sisodia*
*Around 9 lakh students attended online or SMS/IVR enabled learning programmes during last two months – Manish Sisodia*
New Delhi: *31-05-2020*
The Chief Minister of Delhi, Shri. Arvind Kejriwal launched ‘Parenting in the time of Corona’ on 4th April, 2020 giving a call of “Every home a school, every parent a teacher”. As a result, over the next few weeks, Delhi Government introduced 5 different interventions for children across different grades between KG to Class 12. These interventions impacted nearly 9 lakh children of Delhi Government schools. 
Today, on the concluding day of these interventions, Deputy Chief Minister and Education Minister Shri Manish Sisodia, along with Director Education, Shri Binay Bhushan, Education Advisor, Shri Shailendra Sharma & Dr.Saroj Sain, Addl. Director (School) conducted final review with Key stakeholders. The stakeholders included children who attended these classes, their parents, teachers, officers and external partners. 
“This is perhaps the first time in our country that new academic session started during lockdown. It was challenging, at first, to conduct online classes with the help of digital technologies in these extraordinary times. We had never used such technologies at this scale before. But now as we have reached the concluding session of ‘Parenting in times of Corona’, it is important for all of us to review our learning and experiences,” said Shri Manish Sisodia
“We plan to track the students on a weekly basis from now onwards till they are back in school fully”, added the Director Education, Shri. Binay Bhushan
Shri Shailendra Sharma, Principal Advisor to Director, Education explained about these five programmes which are:
1. Live online classes for Class 11 students, 2. Everyday English and personality development for classes 10 and 12 students3. Online maths classes for class 9 students 4. Digital Entrepreneurship Mindset classes for students of 9 to 125. SMS/IVR enabled activity classes for KG to 8 through parents.
Apart from these programs for children, 15 sessions of “Online Happiness class for family” was also organized during the same period viewed on an average by 40,000 people every day.”
The details of each program are:
*Live Online Classes- for students of Class 11*
Launched on 6th April in partnership with the Career Launcher, for class 11 students, 85% students registering this class. The maximum attendance recorded was for English class with 60,500 students logging in, as per the data recorded by the DoE. These classes concluded on 30th May 2020. Through these classes, the Education department claims to have secured more than 10 hours of extra teaching learning activities than it would would do in normal classroom setting.
“Earlier in our regular classes, we did not have the option to go back to the topics already covered but now in online classes these topics are recorded and can be watched again for a better understanding of the chapters/topics,” said Diya Jain, a student of RPVV Gandhi Nagar.
Annie, another student of Govt. Senior Secondary School, Najafgarh added that there are two teachers in every online class and the medium of teaching is both Hindi and English. “We easily get our doubts cleared as we raise it in the chat boxes and I would like the online classrooms to continue,” she said.
*Everyday English and personality development classes in partnership with British Council for students of Class 10 and 12*
Maximum attendance recorded on any particular day of this online class was 83,545. These classes were launched on May 4, 2020 by the Delhi Govt. in partnership with British Council and MacMillian Education to provide an opportunity to acquire new skills for the students waiting to complete their board exams. The cycle of 30 sessions will conclude on June 2, 2020.
Most popular activities among children in these online classes were Sunday grammar games & worksheets, Sports and hobbies activities, Making Friends and Media literacy.
Between first and second assessment, conducted at an interval of 10 days, the proportion of students scoring more than 70% increased from 29% to 41%. 

*Online Maths classes in collaboration with Khan Academy*
Around 1.75 lakh students of Class 9 accessed the Maths lessons assisted by 1015 teachers who were oriented by Khan Academy to guide the students of their respective schools. The online maths classes were launched on 27th April, 2020 and concluded on 29th May, 2020. 
These 90 minutes class spread over three days a week for new and old batch of class 9 students. 7 topics on foundational maths for new batch and 4 topics of practice for old batch were offered in a month long cycle.
Asked whether online class is his preference or learning, Rajat, a student of RPVV Yamuna Vihar, replied that “school has its own charm” but online is “good support”.
*Digit Entrepreneurship Mindset class for Std 9 to 12 students*
Around 45,000 students have participated in the 10 activities on 5 themes- creativity, self awareness, managing fear, dream big and decision making shared. Besides, two live interactions with accomplished entrepreneurs have also been organized and two more scheduled for 3rd and 10th June 2020
*Mission Buniyaad, Happiness and inputs to parents through SMS & IVR to parents of classes KG to 8*
Launched on 2nd April and concluded on 31st May, 25 IVR based activities each for Mission Buniyaad and Happiness and 52 inputs to parents shared with nearly 5.7 lakh students. These activities ranged from building reading, writing and numeracy skills to self reflection, critical thinking and responding to lockdown situation.  
Shri. Manish Sisodia also spoked with children and their parents over phone and asked about their favorite activities and how they conducted these activities.***
Maurya/***

उपमुख्यमंत्री कार्यालय, एनसीटी, दिल्ली सरकार…………………………

श्री मनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा की
लाॅकडाउन के बावजूद दिल्ली सरकार ने आॅनलाइन शिक्षा जारी रखी
हर कक्षा के छात्रों के लिए पांच शैक्षणिक कार्यक्रम लागू हुए: मनीष सिसोदिया
लाॅकडाउन के दौरान आॅनलाइन शिक्षा का प्रयोग सार्थक रहा: उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया
नौ लाख बच्चों ने आॅनलाइन शिक्षा का लाभ उठाया: सिसोदिया
मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने ’कोरोना काल में पैरेंटिंग’ तथा “हर घर एक स्कूल, हर माता-पिता एक शिक्षक” पर बल दिया
नई दिल्ली, 31 मई 2020 
लाॅकडाउन के दौरान दिल्ली सरकार के स्कूलों में आॅनलाइन शिक्षा का आज समापन हुआ। इस मौके पर उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने विभागीय अधिकारियों के साथ इसकी समीक्षा की। श्री सिसोदिया ने कहा कि यह प्रयोग सार्थक रहा।
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने 4 अप्रैल को ’कोरोना काल में पैरेंटिंग’ तथा “हर घर एक स्कूल, हर माता-पिता एक शिक्षक” का आह्वान किया था। इसके आलोक में दिल्ली सरकार ने केजी से कक्षा 12 तक हर कक्षा के बच्चों के लिए पांच अलग-अलग हस्तक्षेप शुरू किए। दिल्ली सरकार के स्कूलों के लगभग 9 लाख बच्चों को इसका लाभ मिला।
उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने आज इस कार्यøम की समीक्षा की। उन्होंने शिक्षा निदेशक विनय भूषण, शिक्षा सलाहकार शैलेन्द्र शर्मा और अतिरिक्त निदेशक (स्कूल) डॉ. सरोज सेन आडल के अलावा मुख्य हितधारकों के साथ समीक्षा की। हितधारकों में स्टूडेंट्स, उनके माता-पिता, शिक्षक, अधिकारी और सहयोगी संस्थाओं के प्रतिनिधि शामिल थे।
समीक्षा के दौरान श्री सिसोदिया ने कहा कि लाॅकडाउन के  बावजूद नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत करना अनोखा प्रयोग है। इस संकट के दौर में डिजिटल तकनीकों की मदद से ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन करना, काफी चुनौतीपूर्ण था। हमने पहले कभी ऐसी तकनीक का इस्तेमाल नहीं किया था। लेकिन अब हम कोरोना के समय में पेरेंटिंग के समापन सत्र में पहुंच गए हैं। हमारे लिए अपनी शिक्षा और अनुभवों की समीक्षा आवश्यक है।
निदेशक शिक्षा विनय भूषण ने कहा कि छात्रों के पूरी तरह स्कूल में वापस आने तक उनकी प्रति सप्ताह ट्रैकिंग करने की योजना है।शिक्षा निदेशक के प्रमुख सलाहकार शैलेन्द्र शर्मा ने इन पाँच कार्यक्रमों की जानकारी दी-
1. कक्षा 11 के छात्रों के लिए लाइव ऑनलाइन कक्षाएं,2. कक्षा 10 और 12 के छात्रों के लिए हर दिन अंग्रेजी और व्यक्तित्व विकास3. कक्षा 9 के छात्रों के लिए ऑनलाइन गणित की कक्षाएं4. 9 से 12 के छात्रों के लिए डिजिटल उद्यमशीलता कक्षाएं5. केजी से कक्षा 8 तक बच्चों के लिए माता-पिता के माध्यम से एसएमएस और आईवीआर आधारित गतिविधियां
इनके अलावा, परिवार की खुशी के लिए ऑनलाइन क्लास के 15 सत्र आयोजित हुए। इनमें प्रतिदिन औसतन 40,000 लोग शामिल हुए।लाइव ऑनलाइन कक्षाओं का प्रयोग काफी सार्थक रहा। कक्षा 11 के छात्रों के लिए कैरियर लॉन्चर के सहयोग से 6 अप्रैल आॅनलाइन कक्षाएं प्रारंभ हुईं। 85 फीसदी छात्रों ने इसमें पंजीयन किया। अंग्रेजी कक्षाओं में सर्वाधिक 60,500 छात्रों की उपस्थिति हुई। ये कक्षाएं 30 मई 2020 को संपन्न हुईं। 
शिक्षा विभाग के अनुसार इन कक्षाओं के माध्यम से सामान्य कक्षाओं की अपेक्षा 10 घंटे से भी अधिक अतिरिक्त पढ़ाई हुई।
आरपीवीवी, गांधीनगर की छात्रा दीया जैन ने अनुभव साझा करते हुए कहा कि पहले नियमित कक्षाओं में हमारे पास किसी विषय को दुबारा पढ़ना मुश्किल था। लेकिन अब ऑनलाइन कक्षाओं में विषय रिकॉर्ड होने के कारण बेहतर समझ के लिए दुबारा देखे जा सकते हैं।
सीनियर सेकेंडरी स्कूल, नजफगढ़ की स्टूडेंट एनी ने कहा कि प्रत्येक ऑनलाइन कक्षा में दो शिक्षक होते हैं। एक हिंदी और दूसरे अंग्रेजी के लिए। हमें आसानी से अपनी शंका दूर करने का अवसर मिलता है। हम चैट बॉक्स के जरिए कुछ भी पूछ सकते हैं। एनी ने ऑनलाइन क्लासरूम जारी रखने का सुझाव दिया।
इसी तरह, कक्षा 10 और 12 के छात्रों के लिए प्रतिदिन अंग्रेजी और व्यक्तित्व विकास कक्षाएं भी काफी सफल रहीं। इन कक्षाओं में किसी एक दिन अधिकतम उपस्थिति 83545 दर्ज की गई। इसे ब्रिटिश काउंसिल और मैकमिलियन एजुकेशन के सहयोग से 4 मई, 2020 को लॉन्च किया गया था। इसका मकसद बोर्ड परीक्षा का इंतजार कर रहे छात्रों को नए कौशल का अवसर प्रदान करना था। इसके 30 सत्र की अंतिम कक्षा 2 जून को होगी।
इन ऑनलाइन कक्षाओं में बच्चों के बीच सबसे लोकप्रिय गतिविधियांे में व्याकरण संबंधी खेल और अभ्यास, खेल और शौक गतिविधियाँ, दोस्त बनाओ और मीडिया साक्षरता प्रमुख थीं। दस दिनों के अंतराल पर दो बार मूल्यांकन किया गया। 70 फीसदी से अधिक अंक लाने वाले छात्रों की संख्या 29 फीसदी से बढ़कर 41 फीसदी हो गई।
इसके अलावा, कक्षा 9 के छात्रों के लिए 1015 शिक्षकों की मदद से ऑनलाइन मैथ्स कक्षाएं खान अकादमी की साझेदारी में शुरू हुईं। यह 27 अप्रैल से 29 मई तक चलीं। सप्ताह में तीन दिन 90 मिनट की क्लास हुई। नए बैच के लिए बुनियादी गणित पर 7 विषय और पुराने बैच के लिए अभ्यास के 4 विषय रखे गए। लगभग 1.75 लाख छात्रों ने इन कक्षाओं का लाभ उठाया। यह कुल नामांकन का 36 फीसदी है। 56 शिक्षकों ने शिक्षण सामग्री तैयार करने और हेल्पलाइन प्रबंधन का दायित्व संभाला। 1015 शिक्षकों ने अपने स्कूलों के छात्रों का मार्गदर्शन करने के लिए खान अकादमी के ऑनलाइन प्रशिक्षण में भाग लिया।
ऑनलाइन क्लास के बारे में अनुभव पूछने पर आरपीवीवी यमुना विहार के छात्र रजत ने कहा कि स्कूल का अपना आकर्षण है, लेकिन ऑनलाइन क्लासेस भी अच्छा प्रयोग है।
लाॅकडाउन के दौरान कक्षा 9 से 12 के छात्र के लिए उद्यमी मानसिकता क्लासेस भी चलाई गईं। दिल्ली सरकार की ईएमसी टीम द्वारा 16 अप्रैल को शुरू हुआ यह प्रयोग 4 जून तक चलेगा। इसमें सोशल मीडिया के विभिन्न मंच फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर, व्हाट्सएप, यूट्यूब और एसएमएस के जरिए ऐसी क्लासेस हुईं। इस दौरान विषयों पर छात्रों के लिए 10 गतिविधियाँ हुईं- रचनात्मकता, आत्म जागरूकता, भय का प्रबंधन, बड़ा सपना और निर्णय-क्षमता। उद्यमियों के साथ दो लाइव संवाद आयोजित किए गए। 3 जून और 10 जून को दो और संवाद होंगे। इन क्लासेस में लगभग 45,000 छात्रों ने भाग लिया।
इनके अलावा, केजी से कक्षा 8 तक हैप्पीपेस क्लासेस, मिशन बुनियाद का प्रयोग भी सकारात्मक रहा। केजी से 8 तक बच्चों के 5.7 लाख अभिभावकों के साथ एसएमएस के माध्यम से सामान्य गतिविधियां चलाई गई। स्वास्थ्य और स्वच्छता, कला और शिल्प, कोरोना जागरूकता सहित 52 सामान्य गतिविधियाँ हुईं। प्रत्येक वैकल्पिक दिनों में माता-पिता के साथ कुल 25 कहानियाँ अथवा गतिविधियां साझा की गईं।
मिशन बुनियाद के तहत कक्षा 3 से 8 तक के 5.2 लाख अभिभावकों को मिस्ड कॉल के माध्यम से जोड़ा गया। प्रत्येक वैकल्पिक दिन में अभिभावकों के साथ कुल 25 कहानियाँ, गतिविधियां साझा की गई। कक्षा तीन से आठ तक के बच्चों के लिए एसएमएस, आईवीआर के जरिए मिशन बुनियाद और कहानियों पर आधारित शिक्षा 13 मई से 31 मई तक चलाई गईं। साथ ही, दिल्ली में नगर निगम स्कूलों के प्राथमिक कक्षाओं के लगभग 4 लाख बच्चों के अभिभावकों के साथ एसएमएस और आइवीआर के माध्यम से 4 मई को शिक्षण प्रारंभ हुआ।
उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने बच्चों और उनके माता-पिता के साथ फोन पर भी बात की और उनकी पसंदीदा गतिविधियों के बारे में पूछा और कैसे उन्होंने इन गतिविधियों का संचालन किया। श्री सिसोदिया ने कहा कि आॅनलाइन शिक्षा के इन प्रयोगों से सबक लेते हुए सामान्य दिनों की शिक्षा में डिजिटल तकनीक के सार्थक उपयोग के प्रयास किए ***Maurya/

*Dy CM Sisodia seeks an aid of Rs 5000 crore in his letter addressed to the Union Finance Minister* #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Office of the Deputy Chief MinisterGovt. Of NCT of Delhi*****

*Need help of Rs 5000 crore from Central Govt. to pay employees: Dy CM Sisodia*
*Dy CM Sisodia seeks an aid of Rs 5000 crore in his letter addressed to the Union Finance Minister*
*Other states have received financial help from Disaster relief funds, Delhi should get it too-  Dy CM Sisodia*

New Delhi :31-05-2020*
Delhi Government has sought an aid of Rs 5000 crore from the Centre. Hon’ble Deputy Chief Minister and Finance Minister of Delhi, Shri Manish Sisodia has written a letter to the Hon’ble Union Finance Minister in this regard.  He highlighted how the lockdown induced by the COVID 19 pandemic has impacted the country’s economy (and also Delhi) while addressing a digital press conference here on Sunday.  

“We have reviewed Delhi Government’s minimum expenses.  According to that, we would need around Rs 3,500 crore every month to pay salaries to our employees and to meet other office expenses. The GST collections in the past two months have only been Rs 500 crore, and after combining it with other sources, we have managed to collect Rs 1,735 crore. But we actually need at least Rs 7000 crore,” said Shri Manish Sisodia.
“I have written a letter to the Hon’ble Union Finance Minister in this regard seeking an immediate aid of Rs 5000 crore to help us pay off salaries of the Delhi Govt. employees. Other states have received financial assistance from the Disaster Relief fund, but Delhi Govt. has not received any such aid yet. Even during usual times, Delhi does not receive any sort of aid from the Centre. But now as Delhi Govts revenue is severely affected due to the COVID 19 induced lockdown, it is about time we received some financial relief from the Centre to be able to pay salaries of our employees-  teachers, doctors, engineers, civil defence personnel,  and people involved in coronavirus relief work,” he said.

In his letter dated 26th May 2020, Shri Manish Sisodia addressing the Union Finance Minister has written that “the Govt. of NCT of Delhi has been managing all its development and infrastructure expenditure within its means. For the financial year 2020-21, the Delhi Legislative Assembly has passed the budget of Rs 65,000 crore. Out of which, Rs 35,500 crore constitutes committed expenditure towards establishment, devolution to Local Bodies and interest & loan repayment liability to Government of India. In the normal course, Delhi is not only confident in managing its budgetary requirement but also results in budgetary surplus. However, due to the extraordinary situation prevailing in the country as well as the world, due to COVID 19 pandemic, there is a valid need for immediate help from the Centre. The one time grant of Rs 5000 crore will thereby help Delhi tide over the immediate crisis. This will also facilitate the Delhi Govt. in releasing the grants to the Municipal Corporation of Delhi who largely depend on the Delhi Govt to pay salary and other establishment.”
According to the Deputy Chief Minister of Delhi, the Delhi Govt has also upgraded its hospitals to tackle COVID 19. PPEs, ventilators, testing kits, N 95  masks and sanitizers have been made available. Apart from providing cooked food, free ration and shelter to the needy, the Delhi Govt has also been working tirelessly to send migrant workers back to their homes through Special Shramik trains. Delhi Govt. is also bearing the cost of their tickets and traveling expenses. 
Deputy CM of Delhi has therefore requested the Centre to come to Delhi Govts aid with a sum of Rs 5000 crore in these unusual times.****
Maurya/***
उपमुख्यमंत्री कार्यालयएनसीटी, दिल्ली सरकार***

दिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार : उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया
केंद्रीय वित्तमंत्री को पत्र लिखकर 5000 करोड़ की सहायता मांगी, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके : सिसोदिया
आपदा राहत कोष से अन्य राज्यों को सहायता मिली, दिल्ली को भी मिले : डिप्टी सीएम
राजस्व संग्रह गत वर्ष की तुलना में 78% कम हुआ : सिसोदिया
नई दिल्ली, 31 मई 2020
दिल्ली ने केंद्र सरकार से 5000 करोड़ की आर्थिक सहायता मांगी है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 26 मई को केंद्रीय वित्तमंत्री को पत्र लिखा है। आज ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए सिसोदिया ने यह जानकारी दी।
श्री सिसोदिया ने बताया कि लॉकडाउन के कारण पूरे देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ा है। दिल्ली पर भी इसका काफी असर हुआ है। दिल्ली सरकार ने अपने न्यूनतम खर्च की समीक्षा की है। इसके अनुसार केवल सैलरी तथा ऑफिस खर्च पर न्यूनतम 3500 करोड़ का मासिक खर्च है। विगत दो माह में जीएसटी से मात्र 500 करोड़ मासिक का संग्रह हुआ है। जीएसटी तथा अन्य स्रोत मिलाकर प्रथम तिमाही में कुल 1735 करोड़ रुपये मात्र का संग्रह हुआ है।पिछले साल इस अवधि में 7799 करोड़ का राजस्व संग्रह हुआ था। इस साल राजस्व में 78 फीसदी की गिरावट आई है। श्री सिसोदिया के अनुसार वर्तमान में दिल्ली को न्यूनतम 5000 करोड़ की आवश्यकता है।
श्री सिसोदिया ने कहा कि आपदा राहत कोष से अन्य राज्यों को केंद्र सरकार से मदद मिली है। लेकिन दिल्ली सरकार को कोई मदद नहीं मिली। सामान्य तौर पर भी केंद्र द्वारा दिल्ली सरकार को कोई आर्थिक सहायता नहीं दी जाती है। लेकिन अभी जब दिल्ली में राजस्व संग्रह नहीं हो रहा, तब केंद्र से मदद मिलना जरूरी है। इससे हम कर्मचारियों, शिक्षकों, डॉक्टर, इंजीनियर, सिविल डिफेंस के लोग तथा कोरोना राहत में जुटे अन्य कर्मियों को सैलरी का भुगतान कर पाएंगे।
श्री सिसोदिया ने 26 मई को केंद्रीय वित्तमंत्री के नाम पत्र में लिखा है कि कोरोना नियंत्रण में दिल्ली देश के अग्रणी राज्यों में है। दिल्ली अपना समस्त खर्च अपने संसाधनों से उठाती है। वित्त वर्ष 2020-21 में दिल्ली विधानसभा ने 65000 करोड़ का बजट पास किया है। इसमें 35500 करोड़ का खर्च स्थापना, लोकल बॉडीज को योगदान तथा ब्याज इत्यादि में होता है। सामान्य स्थिति में दिल्ली अपने संसाधनों से अपना खर्च उठाने में सक्षम है। लेकिन मौजूदा संकट में केंद्र की मदद आवश्यक है। केंद्र से 5000 करोड़ अनुदान मिलने पर दिल्ली नगर निगम को वेतन तथा स्थापना व्यय देने में भी सुविधा होगी।
श्री सिसोदिया के अनुसार दिल्ली सरकार ने कोरोना से लड़ने के लिए अस्पतालों को अपग्रेड किया है। पीपीई, वेंटीलेटर, टेस्टिंग किट, सैनिटाइजर, एन-95 मास्क इत्यादि का समुचित प्रबंध किया है। जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन तथा राशन वितरण के अलावा प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने संबंधी रेलवे का किराया भी दिल्ली सरकार भुगतान कर रही है। उक्त आलोक में श्री सिसोदिया ने केंद्र सरकार से 5000 करोड़ के अनुदान की मांग की है।****
Maurya/

Virus-free. www.avast.com

*Delhi government to explain Home Isolation process with a special video telecast on news channels on 29th May 2020 #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Delhi Government***

*Delhi government to explain Home Isolation process with a special video telecast on news channels today evening*
– *15-minute video presentation to explain important information about the precautions and guidelines to follow during home isolation*
– *More than 80% of Corona positive patients either have no symptoms at all or show very mild symptoms: CM Arvind Kejriwal*
– *In a first of its kind instructional video in the country on home isolation, the Delhi government will explain Home Isolation process to patients*
New Delhi: 29th May 2020
With the rising number of Coronavirus cases in Delhi, it is important to observe that more than 80% of the cases are either asymptomatic and show mild symptoms of COVID-19. For such patients, Home Isolation protocol has been announced by the Health and Family Welfare Department, GNCTD of Delhi. To raise awareness about the procedures and instructions involved under the Home Isolation protocol of the Delhi government, a short 15-minute video on Home Isolation will be telecasted on all major news channels at 6:40 PM on Friday. 
Depicting the importance of the Home Isolation process, CM Arvind Kejriwal said, “More than 80% of Corona positive patients either have no symptoms at all or show mild symptoms like mild fever or cough. Such patients do not need to get admitted into the hospital. They can stay home and look after themselves. We have made these guidelines to explain to patients what to do during home isolation and what precautions to take. One thing to keep in mind is – do not panic. Most people recover from Corona easily.”
Tweeting the guidelines of the home isolation process, CM Arvind Kejriwal wrote, “Over 80% of Corona patients have either no symptoms or very mild symptoms. Such patients can recover in the comfort of their home In the center pages of today’s newspapers, we have published detailed guidelines on #HomeIsolation. Pl keep these pages safely and share them with others.”
In another tweet, he said, “Please do not panic if you have Corona. Most of you can be treated under #HomeIsolation. But if you need to be hospitalized, we are also fully prepared for that. I pray to God for your good health and happiness.”
The Home Isolation, as laid down under the health department of the GNCTD of Delhi, includes advising the patients to remain isolated at their homes in case of no or mild symptoms. Their treatment is then monitored by a team of health workers and doctors appointed by CM Arvind Kejriwal, who stay in constant contact with the patient. A caregiver/attendant shall also be available 24×7 for the care of the patient.
In the first of its kind instructional video in the country on home isolation, the Delhi government will briefly explain the directions laid down under the Home Isolation protocol. Special instructions for the patients, caregivers/attendants, and neighbours of the patient under home isolation, along with directions for the patient to self-monitor, testing and recovery process, daily tracker, and following a nutrition diet are some of the procedures included in the Home Isolation protocol, which will also be explained in the video. The video will explain how more than 80% of patients who have no symptoms or minor symptoms can be treated in their own homes, how such patients can be taken care of and recover at their own homes. 
Apart from introducing a special video telecast, the guidelines for Home Isolation under the Delhi government have been included on the center pages of all the major newspapers today. The Delhi government requests everyone to keep these pages in place and put it on the notice board of their commercial/residential buildings.
The video will also be displayed on the corona website of Delhi government – www.delhifightscorona.in and a letter of instructions would also be issued.****
Maurya/

  दिल्ली सरकार  
***

प्रेस विज्ञप्ति

आज शाम टीवी पर खास प्रस्तुति से होम आइसोलेशन के बारे में बताएगी दिल्ली सरकार
– होम आइसोलेशन के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों और गाइड लाइन के बारे में 15 मिनट के वीडियो से दी जाएगी जानकारी

– 80% से ज्यादा मामलों में कोरोना के मरीज़ को या तो कोई लक्षण ही नहीं होते या बहुत ही मामूली से लक्षण होते हैं – अरविंद केजरीवाल
– देश में पहला मौका, जब दिल्ली सरकार कोरोना मरीजों को होम आइसोलेशन को समझाने के लिए खास प्रस्तुति देने जा रही 

नई दिल्ली, 29 मई, 2020
दिल्ली सरकार आज शाम 6ः40 बजे सभी प्रमुख चैनलों पर खास प्रस्तुति से होम आइसोलेशन के बारे में दिल्ली के लोगों को जानकारी देगी। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 80% से ज्यादा मामलों में कोरोना के मरीज़ को या तो कोई सिम्पटम्स ही नहीं होते या बहुत ही मामूली से सिम्पटम्स होते हैं जैसे मामूली बुखार, मामूली खांसी। ऐसे लोगों को अस्पतालों में भर्ती होने की बिलकुल जरुरत नहीं है। आप अपने घर में ही अपनी देखभाल कर सकते हैं। घर में रहकर क्या करना है, क्या – क्या एहतियात बरतनी है, इसके लिए हमने यह गाइडलाइंस बनाई है। बस एक बात का ख्याल रखना – घबराना नहीं है। ज्यादातर लोग आराम से ठीक हो जाते है। ऐसे मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है और वे अपना इलाज अपने घर पर ही रह कर सकते हैं। यह मरीज घर पर रह कर अपना इलाज और देखभाल कैसे करेंगे, उन्हें घर पर क्या करना चाहिए। इसके लिए दिल्ली सरकार ने 15 मिनट की वीडियो जारी कर उसमें दिशा-निर्देश दिया है। इस 15 मिनट के वीडियो में मरीज के साथ-साथ देखभाल कर्ता और पड़ोसियों के लिए भी निर्देश दिए गए हैं। देश में पहला मौका है, जब दिल्ली सरकार कोरोना मरीजों को होम आइसोलेशन कैसे करते हैं, यह समझाने के लिए खास प्रस्तुति देने जा रही है।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, “मेरे दिल्लीवासियों, अगर आपको कोरोना हो जाए, तो घबराना मत। आप में से ज्यादातर लोगों का इलाज होम आइसोलेशन में ही हो सकता है। लेकिन अगर आपको अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत हो, तो हमारी उसके लिए भी पूरी तैयारी है। आपके अच्छी सेहत और खुशहाली के लिए मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक अन्य ट्वीट कर कहा कि कोरोना मरीज, जिनमें कोई लक्षण नहीं या मामूली लक्षण है, वो अपने अपने घर पर ही ठीक हो सकते हैं। उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है। होम आइसोलेशन में मरीजों की देखभाल कैसे करते हैं? जानने के लिए दिल्ली सरकार की खास प्रस्तुति देखिए, आज शाम 6:40 बजे, सभी प्रमुख न्यूज चैनलों पर। 

देश में कोरोना को दस्तक दिए करीब तीन महीने हो गए हैं। लाॅकडाउन के बाद भी देश भर में कोरोना मरीजों की संख्या बढती जा रही है, जो चिंता का विषय है। दिल्ली में अब तक 16 हजार से अधिक कोरोना के केस आ चुके हैं। इसमें 8 हजार से अधिक केस एक्टिव हैं। जांच में यह सामने आया है कि काफी लोगों में कोरोना का कोई लक्षण नहीं है, फिर भी वे कोरोना पाॅजिटिव हैं। ऐसे 80 प्रतिशत से अधिक मरीज हैं, जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं दिखाई दिए या उनमें मामूली लक्षण ही दिखे। डाॅक्टरों का मानना है कि जिन मरीजों में कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे हैं या उनमें मामूली लक्षण हैं, ऐसे मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने की कोई जरूरत नहीं है। इन मरीजों का इलाज घर पर ही संभव है। लिहाजा, दिल्ली सरकार ने बिना लक्षण या मामूली लक्षण वाले कोरोना मरीजों को होम आइसोलेशन में रखने की छूट प्रदान की है।

दिल्ली सरकार का कहना है कि होम आइसोलेशन में रहने के दौरान मरीज और उनके देखभाल कर्ता को कई सावधानियों और निर्देशों का पालन करना आवश्यक है, ताकि मरीज भी स्वस्थ्य हो जाए और किसी दूसरे में भी कोरोना का संक्रमण न फैले। इसके लिए दिल्ली सरकार ने दिल्ली के लोगों को होम आइसोलेशन के प्रति जागरूक करने का फैसला किया है। दिल्ली सरकार ने प्रमुख न्यूज चैनलों पर आज शाम 6ः40 बजे एक खास प्रस्तुति देने जा रही है। इस खास प्रस्तुति में होम आइसोलेशन के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाएगी। लोगों को बताया जाएगा कि वे होम आइसोलेशन के दौरान किन-किन बातों का ध्यान रखें। मरीज और देखभाल कर्ता के साथ पड़ोसियों को भी किन-किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है, इसकी जानकारी दी जाएगी। होम आइसोलेशन के दौरान दिल्ली सरकार की हेल्थकेयर टीम भी मरीज और देखभाल कर्ता से प्रतिदिन संपर्क में रहेगी और मरीज की वर्तमान स्थिति की अपडेट लेती रहेगी। साथ ही जरूरत पड़ने पर देखभाल कर्ता भी टीम से संपर्क कर सकता है। इसके साथ ही 15 मिनट की एक वीडियो भी जारी की जा रही है। इस वीडियो में होम आइसोलेशन के संबंध में सभी जानकारियां और दिशा-निर्देश दिए गए हैं।
इसके अलावा, दिल्ली सरकार ने आज सभी प्रमुख अखबारों में विज्ञापन के माध्यम से होम आइसोलेशन के बारे दिशा निर्देश जारी किया है। दिल्ली सरकार सभी से अनुरोध करती है कि इन पन्नों को अपने पास संभाल कर रखें। अपने अपने बिल्डिंग में इसे नोटिस बोर्ड पर लगाएं। दिल्ली सरकार की कोरोना वेबसाइट www.delhifightscorona.in पर ये वीडियो भी आएगी और निर्देश पत्र भी जारी किया जाएगा। साथ ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी की एक टीम सभी होम आइसोलेशन के मरीजों से प्रतिदिन फोन पर बात करती हैं और उनके सेहत पर निगरानी रखती हैं।
दिल्ली सरकार का मानना है कि होम आइसोलेशन के लिए जारी दिशा-निर्देश और सावधानियों का शत प्रतिशत पालन किया जाए, तो 80 प्रतिशत लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं होगी और वे घर पर ही अपना इलाज करके ठीक हो जाएंगे। इससे अस्पतालों पर भी बोझ नहीं बढ़ेगा।

*Delhi govt has issued advisory for spraying pesticides to deal with locust attack: Gopal Rai* #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Office of the Minister of Labour, Employment & Environment Govt. of NCT of Delhi*** 
*Delhi govt has issued advisory for spraying pesticides to deal with locust attack: Gopal Rai*
*Delhi govt to run awareness campaigns to make the people and farmers aware of locust attack: Gopal Rai*
*Agriculture department will work proactively and ensure the preparedness of Delhi against locust attack: Gopal Rai*
NEW DELHI: May 28, 2020

To deal with the attack of locusts in the national capital, the Delhi government has issued an advisory for spraying pesticides, Cabinet Minister Mr Gopal Rai said on Thursday. Mr Rai said that in view of the increasing threat of locusts in north India, the Agriculture Department of the Delhi government will run awareness programmes to make the people and farmers of Delhi aware of this new threat.
“To deal with the attack of locusts in the national capital, the Delhi government has issued an advisory for spraying pesticides. There are many north Indian states which are witnessing a massive locust attack and keeping in mind the situation the Delhi government has issued this advisory. Alerts and directions have been sent to the revenue commissioners, DMs and MCD commissioners regarding the matter,” said Mr Rai.
He said, “Not only the agriculture sector but also the horticulture sector (crops, vegetation, plants, gardens, orchard etc) gets affected by the locust attack. I have met the senior officials of both the department and I am personally monitoring the preparedness. The officials have been instructed to work proactively to ensure Delhi’s preparedness to deal with locust attack.” 
“The Delhi government will also run awareness programmes to make the people and farmers of Delhi aware of this new threat,” he said. 
Mr Gopal Rai also tweeted the circular copy of the Delhi government which noted, “All concerned authorities are hereby advised to take preventive measures to control and eradicate the locusts to avoid devastating effect on standing agricultural and horticultural crops, vegetation, plants, gardens, orchard etc. in Delhi.”
It directed that awareness programmes be organised for the public and farmers to prevent and control any such invasion by locusts in Delhi.
“As the swarm usually fly in day time, and rest during night time therefore the locusts should not be allowed to rest especially during night,” it said.
The circular added that the authorities may carry out spraying of insecticides or pesticides during the night.
The chemicals suggested for spraying were Malathion 50% EC; Malathion 25% WP; Chlorpyrifos 20 % EC; and Chlorpyrifos 50 % EC.***
Maurya/-***

प्रेस विज्ञप्ति
टिड्डियों के संभावित हमले की आशंका के मद्देनजर दिल्ली सरकार अलर्ट- गोपाल राय
– सभी राजस्व कमिश्नर, जिलाधिकारियों, तीनों एमसीडी व एनडीएमसी को एडवाइजरी जारी कर तत्कालिक कदम उठाने के निर्देश दिए- गोपाल राय
– हाॅर्टिकल्चर व कृषि विभाग को दवाओं के छिड़काव के साथ-साथ किसानों को भी जागरूक करने का निर्देश दिया गया- गोपाल राय
नई दिल्ली, 28 मई, 2020
दिल्ली सरकार ने टिड्डियों के दल की संभावित हमले की आशंका के मद्देनजर सभी ऐहतियाती कदम उठाना शुरू कर दिया है। दिल्ली के कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने सभी राजस्व कमिश्नर, जिलाधिकारियों, तीनों एमसीडी और एनडीएमसी को एडवाइजरी जारी कर अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कृषि और हाॅर्टिकल्चर विभाग को दवाओं के छिड़काव के साथ किसानों को ट्ड्डिियों के संभावित हमले से होने वाले नुकसान की आशंका के प्रति जागरूक करने का निर्देश दिया है।दिल्ली के कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने एक बयान जारी कर कहा कि देश के कई राज्यों में ट्ड्डिियों के दल का आतंक फैला हुआ है। इसे देखते हुए हमने दो दिन पहले ही सभी तत्कालिक कदम उठाने के लिए दिल्ली के सभी राजस्व कमिश्नर, जिलाधिकारी, तीनों एमसीडी और एनडीएमसी को एडवाइजरी जारी कर दिया है। हमने संबंधित सभी विभागों को अलर्ट कर दिया है। जिसमें दवाओं के छिड़काव के लिए उन्हें निर्देशित किया गया है। किसानों के साथ-साथ पूरी दिल्ली में हाॅर्टिकल्चर है। टिड्डियों का दल पेड़-पौधे, नर्सरी आदि पर भी हमला कर सकती हैं। हमें उनके हमले से नुकसान की आशंका है। इसी को देखते हुए दिल्ली के कृषि और हाॅर्टिकल्चर समेत अन्य विभागों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। हमने अधिकारियों के साथ बैठक भी की है। बैठक में कई निर्देश दिए गए हैं। विभागों के अधिकारियों को इसका नोडल अधिकारी बनाया गया है। वह अधिकारी सभी के संपर्क में रहेंगे। इसके साथ ही हम पूरी तैयारियों की निगरानी कर रहे हैं। ताकि दिल्ली के किसानों और दिल्ली के लोगों को इनके हमलों से बचाया जा सके। कृषि विभाग और संबंधित विभाग के लोगों को निर्देशित किया गया है कि वे किसानों को जागरूक भी करेंगे।***
Maurya/

WCD Minister Shri Rajendra Pal Gautam and DCPCR launched “Menstrual Hygiene Campaign” #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Office of Women & Child Development MinisterGovernment of Delhi ***

*- WCD Minister Shri Rajendra Pal Gautam and DCPCR launched “Menstrual Hygiene Campaign”.**- Distributing 1 lakh sanitary Napkins to women in East and North East Districts of Delhi**- Public awareness through the participation of NGO’s and Civil Society Organisations*
New Delhi: 28th May 2020
On the occasion of Menstrual Hygiene Day, WCD Minister  Shri Rajendra Pal Gautam and DCPCR launched “Menstrual Hygiene Campaign”.  In this week-long campaign, DCPCR will reach out to East and North East Districts of Delhi to distribute sanitary napkins to women and adolescent girls living in various JJ clusters. 
Through this campaign, DCPCR aims to reach out to maximum households to create awareness about menstrual hygiene with the help of civil society organizations. The focus here is to see the participation of not just women but also men in this conversation around menstruation and women’s health. 
“Awareness regarding menstrual health and hygiene needs to begin at the level of the family. Due to various socio-economic barriers, women especially adolescent girls living in slums and JJ clusters have bare minimum access to clean toilets and sanitation. Our aim through this campaign is to not only distribute sanitary napkins but to also create awareness among families regarding menstrual hygiene. We need to get rid of the stigma which is attached to menstruation to have a society where both men and women have equal participation in public life” – Rajendra Pal Gautam 
In India, there is a lot of stigma around menstruation. Women are not allowed access to public spaces if they menstruating. In many cases, girls have to drop out of school or women have to quit their job due to lack of clean toilets and sanitation facilities which is essential during menstruation. Through this campaign, the WCD Department aims to address all these issues through massive public participation and social awareness.****
Maurya/***
महिला एवं बाल विकास मंत्री कार्यालयएनसीटी, दिल्ली सरकार***

*- महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम और डीसीपीसीआर ने शुरू किया “मासिक धर्म स्वच्छता अभियान”*
*- अभियान के दौरान दिल्ली के पूर्व और उत्तर पूर्व जिलों में महिलाओं को 1 लाख सैनिटरी नैपकिन वितरित करेगी दिल्ली सरकार*
*- गैर सरकारी संगठन और सिविल सोसायटी संगठनों की भागीदारी के माध्यम से सार्वजनिक जागरूकता है सरकार का लक्ष्य*
*नई दिल्ली, 28 मई, 2020*

मासिक धर्म स्वच्छता दिवस के अवसर पर महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम और दिल्ली बाल संरक्षण आयोग ने “मासिक धर्म स्वच्छता अभियान” को लॉन्च किया। सप्ताह भर चलने वाले इस अभियान में आयोग, दिल्ली के पूर्व और उत्तर पूर्व जिलों की विभिन्न क्लस्टर में रहने वाली महिलाओं और बालिकाओं को एक लाख से अधिक सैनिटरी नैपकिन वितरित करेगा।
आयोग का उद्देश्य है कि इस अभियान के माध्यम से दिल्ली सरकार, सामाजिक संगठनों की मदद से मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में जागरूकता लाए और अधिक से अधिक घरों तक जागरूकता पहुंचाई जा सके। इस अभियान में केवल महिलाएं ही नहीं, बल्कि पुरुषों की भी भागीदारी होगी।
कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने कहा कि “मासिक धर्म स्वच्छता” के बारे में जागरूकता पारिवारिक स्तर पर शुरू करने की आवश्यकता है। विभिन्न सामाजिक-आर्थिक बाधाओं के कारण, विशेष रूप से झुग्गी-झोपड़ी और जेजे क्लस्टर में रहने वाली महिलाओं को साफ शौचालय तक उपलब्ध नहीं है । इस अभियान के माध्यम से हमारा उद्देश्य सिर्फ यह नहीं है कि हम केवल सैनिटरी नैपकिन वितरित करें, बल्कि मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में परिवारों के बीच जागरूकता पैदा भी करें। हमें उस कलंक से छुटकारा पाने की जरूरत है, जो मासिक धर्म स्वच्छता से जुड़ा हुआ है। जिससे सार्वजनिक जीवन में पुरुषों और महिलाओं दोनों की समान भागीदारी बने।
कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने आगे कहा कि भारत में मासिक धर्म स्वच्छता को लेकर छुआछूत है। कई बार तो इसकी वजह से महिलाओं को सार्वजनिक स्थानों पर जाने की अनुमति नहीं दी जाती है। कई मामलों में, लड़कियों को अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ती है या महिलाओं को स्वच्छ शौचालय और सुविधाओं की कमी के कारण अपनी नौकरी भी छोड़नी पड़ जाती है। इस अभियान के माध्यम से, महिला एवं बाल विकास विभाग का उद्देश्य इन सभी मुद्दों को बड़े पैमाने पर सार्वजनिक भागीदारी और सामाजिक जागरूकता के माध्यम से संबोधित किया जाए।****
Maurya/

Delhi Government asks its school principals to prepare their school opening plan #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Office of the Deputy Chief MinisterGovt. Of NCT of Delhi
***
Dated: May 27th, 2020
Delhi Government asks its school principals to prepare their school opening plan
“We cannot have one common plan for all schools to re-open them this year”- says  Manish Sisodia while interacting with 1000 Delhi Government school principals to start the planning process for re-opening of schools.
“The reason we are following an elaborate planning process is because we need to keep many factors in mind before taking a decision. It is not just about maintaining social distancing or sanitization alone or calling one set of classes to school and not the others. Any decision will have far reaching implications on children and their families because school is an integral part of our social life. It is not just about learning a few lessons from the textbooks but the lessons of life itself. Therefore, any plan should keep in mind all possible situations.” – Manish Sisodia, Deputy Chief Minister
“It is a nostalgic moment for all of us because when we first met with all the school principals after forming the Government in 2015, we talked about taking our schools to new heights where sky is the limit. Today when I meet all my principals together for the first time after forming the government again in 2020, we are talking just about re-opening the school. However, I am hopeful that despite change in the circumstances, together we will set new standards of school education again”- Manish Sisodia while interacting with 1000 Delhi Govt. School Principals
New Delhi
The COVID-19 pandemic and the Lockdown has caused closure of schools since March 2020. Deputy Chief Minister and Education Minister of Delhi, Shri Manish Sisodia on Wednesday, interacted with 1000+ principals of govt. schools and asked them to start preparing a school level plan, keeping their context in mind for reopening of schools, whenever a decision is taken in this regard.
The agenda of his meeting was twofold:1. How should we stay connected with our children and their parents in this time when lockdown is impacting different people differently? This will help us to directly understand their situation and prepare better? 
2. How do we plan the reopening of schools whenever we get the go ahead.
Unfolding the agenda, the Deputy Chief Minister asked the Principals to do two things:1. First, reach out to all children through phone to see if they are in Delhi or have gone back to their native place. Also check if they were able to use online classes, SMS/IVR and what is their feedback about it.
2. Second, start the planning process for reopening of the school based on the context of your own school.
 “School is a very important part of the society, and every school has different issues and aspects to work upon. Hence I appeal to you to lead an in-depth brainstorming at school level involving all key stakeholders and come up with a micro-plan on how to lead the transition when the time comes. We cannot have a common plan to re-open for all schools this year as the context of every school is different.”, Education Minister Manish Sisodia said.
Planning the reopening of school is a challenging task because apart from academic we have to keep many other factors in mind. Like health, safety, trust, emotional well being, and so on. And the other challenge is that all these have to be done without extra financial resources from the government. 
To help the schools do that, a “Preparatory Planning Framework for Heads of Schools” has been issued by the DoE yesterday. As per this framework, all HoS will first meet in a cluster of about 10 to discuss about the issues that they need to keep in mind while planning for their school. This small group meeting will be between May 28-30 as per the schedule given by DoE. The meeting will be facilitated by senior HoS, DIET Principals etc as per the practice of last few years.
After this cluster meeting, when the HoS have fully understood the planning framework, they would go back to their respective schools, discuss about it with their teachers, parents, SMC members. Take help from TDCs and Mentor Teachers and then come up with their school level plan.
Principals have been asked to submit their school level plan to your DDE (Zone) and DDE (District) should study it. DDE (District) shall present a district wise plan to Deputy Chief Minister after 5th June 2020.
Explaining the planning framework, the Deputy Chief Minister said, it has 3 broad components:1. What we need to keep in mind before we reopen the schools?
2. What we need to put in place before schools starts? This will require planning backwards.
3. What is the basis on which school makes its plan? For example strengths, limitations, overall context, etc 
Deputy Chief Minister emphasized that school should keep the following points in mind while preparing their plan:a. How should we provide social-emotional support to all our children?
b. How should we ensure that we stay in touch with all our children and support them so that they do not drop out from school and join the work force? 
c. Which classes should come for daily teaching-learning when school reopens?
d. How should online method (internet enabled used) be used? What should be the mix, if any, between online and direct teaching learning? 
e. Which regular activities that were conducted till last year should not be conducted this year?
f. What should be academic goal and focus for children in primary, upper primary, secondary and Sr. Secondary classes?
g. How are we going to raise the resource for our schools in order to implement our plan considering the fact that government funding will not be available for any additional activities? 
On being asked about their initial thoughts on reopening schools, Atul Kumar, principal of SV Kakrola said, “We should call children of smaller classes to school regularly otherwise they might be stranded alone at home, if both parents are working”. He added that for older children, we can use online method. Another School Principal, Sunita Dahiya of SV Jaidev Park said, “The Social emotional need of all three key stakeholders- children, parents and teachers should be considered before opening the schools. Effort should be made to strengthen the bonding among them. School opening should be gradual.” Ritu Singhal, Principal of SKV Laxmi Nagar said, “Children in primary classes require regular reinforcement hence they should be called to school at least once a week”.****
Maurya/**
उपमुख्यमंत्री कार्यालयएन.सी.टी, दिल्ली सरकार***
27 मई, 2020
सभी प्राचार्य अपने स्कूल खोलने की अपनी योजना बनाएं : मनीष सिसोदिया
इस साल हर स्कूल पर एक किस्म की योजना तर्कसंगत नहीं होगी : मनीष सिसोदिया ने 1000 प्राचार्यों के साथ संवाद के दौरान कहा
“हमें स्कूल खोलने से पहले हर चीज को ध्यान में रखना होगा। हम एक विस्तृत योजना प्रक्रिया का पालन कर रहे हैं। यह केवल सोशल डिस्टेंसिंग या सैनिटाइजेशन का मामला नहीं है। हर निर्णय का बच्चों और उनके परिवारों पर प्रभाव पड़ेगा, क्योंकि स्कूल हमारे सामाजिक जीवन का एक अभिन्न अंग है। यह केवल पाठ्यपुस्तकों से कुछ सबक सीखने का नहीं बल्कि जीवन से जुड़े सवाल भी हैं। इसलिए हर योजना सभी चीजों को ध्यान में रखकर बनाई जाएगी। ” – मनीष सिसोदिया, उपमुख्यमंत्री
“यह हम सबके लिए एक अलग किस्म का दौर है। जब हम 2015 में सरकार बनाने के बाद पहली बार सभी प्रिंसिपलों से मिले थे, तो हमने अपने स्कूलों को नई ऊंचाइयों पर ले जाने की बात की थी। लेकिन आज जब 2020 में फिर से सरकार बनाने के बाद हम मिल रहें हैं तो सिर्फ यह बात कर रहें हैं कि स्कूल को फिर से कैसे खोला जाए। इस विपरीत दौर के बावजूद मुझे पूरी उम्मीद है कि नई परिस्थितियों में भी हम सब मिलकर स्कूली शिक्षा के नए मानकों को फिर से स्थापित करेंगे ”- मनीष सिसोदिया ने दिल्ली सरकार के स्कूलों के 1000 प्राचार्यों के साथ बातचीत करते हुए कहा। 
नई दिल्ली
दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को सरकार के 1000 प्रिंसिपलों के साथ संवाद किया। उन्होंने स्कूलों को फिर से खोलने के लिए प्रत्येक स्कूल स्तर की योजना बनाने का सुझाव दिया।
बैठक का दो एजेंडा था -1. इस समय हमें अपने बच्चों और उनके माता-पिता के साथ कैसे जुड़े रहना चाहिए, जब लॉकडाउन अलग-अलग लोगों को अलग-अलग तरीके से प्रभावित कर रहा है? यह हमें उनकी स्थिति को सीधे समझने और बेहतर तरीके से तैयार करने में मदद करेगा?2. जब भी हम स्कूलों को फिर से खोेंलें तो उसकी योजना कैसे बनाएं।
उपमुख्यमंत्री ने प्रधानाचार्यों को दो सुझाव दिए-1. फोन के माध्यम से सभी बच्चों का पता लगाएं कि वे दिल्ली में हैं या अपने मूल स्थान पर वापस चले गए हैं। यह भी जांचें कि क्या वे ऑनलाइन कक्षाएं, एसएमएस, आईवीआर का उपयोग करने में सक्षम थे और इसके बारे में उनकी प्रतिक्रिया क्या है। 
2. दूसरा, अपने स्कूल को फिर से खोलने के लिए अपनी योजना बनाने की प्रक्रिया शुरू करें।
 “स्कूल हमारे समाज का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। हर स्कूल के अपनें अलग-अलग मुद्दे और पहलू होते हैं। इसलिए मैं आपसे अपील करता हूं कि सभी प्रमुख हितधारकों को शामिल करते हुए स्कूल स्तर पर गहन विचार-मंथन का नेतृत्व करें। शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस साल सभी स्कूलों के लिए फिर से खोलने की हमारी कोई एक सामान योजना नहीं हो सकती है।
स्कूल को फिर से खोलने की योजना बनाना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है क्योंकि शैक्षणिक के अलावा हमें कई अन्य कारकों को भी ध्यान में रखना होगा। जैसे स्वास्थ्य, सुरक्षा, विश्वास, भावनात्मक भलाई, इत्यादि। दूसरी चुनौती यह है कि इन सभी को सरकार से अतिरिक्त वित्तीय संसाधनों के बिना किया जाना है।
स्कूलों को ऐसा करने में मदद करने के लिए, कल स्कूलों के प्रमुखों के लिए एक गाइडलाइन जारी की गई है। इसके अनुसार, सभी प्राचार्य पहले अपने स्कूल के लिए योजना बनाते समय उन मुद्दों के बारे में चर्चा करेंगे, जिन्हें ध्यान में रखने की आवश्यकता है। यह छोटा समूह बैठक कार्यक्रम के अनुसार 28-30 मई के बीच होगा। बैठक में पिछले कुछ वर्षों के अभ्यास के अनुसार वरिष्ठ स्कूल प्रमुख, डाइट प्राचार्यों आदि द्वारा सुविधा प्रदान की जाएगी।
इस क्लस्टर बैठक के बाद, जब स्कूल प्रमुख ने योजना ढांचे को पूरी तरह से समझ लिया है, तो वे अपने स्कूल के सन्दर्भ में अपने शिक्षकों, माता-पिता, एसएमसी सदस्यों के साथ इस बारे में चर्चा करेंगे। टीडीसी और मेंटर टीचर्स से मदद लें और फिर अपने स्कूल स्तर की योजना के साथ आएं।
प्रधानाध्यापकों को अपने स्कूल स्तर की योजना को आपके डीडीई (जोन) को जमा करने के लिए कहा गया है और डीडीई (जिला) को इसका अध्ययन करेंगे। डीडीई (जिला) 5 जून 2020 के बाद उपमुख्यमंत्री को एक जिलावार योजना प्रस्तुत करेगा।
उपमुख्यमंत्री ने योजना की रूपरेखा बताते हुए कहा, इसके 3 व्यापक घटक हैं1. स्कूलों को फिर से खोलने से पहले हमें किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए?
2. स्कूलों के शुरू होने से पहले हमें क्या करना होगा? इसके लिए पीछे की योजना बनाने की आवश्यकता होगी।
3. किस आधार पर स्कूल अपनी योजना बनाता है? उदाहरण के लिए संसाधन, सीमाएं, समग्र संदर्भ, आदि
उपमुख्यमंत्री ने जोर दिया कि स्कूल को अपनी योजना तैयार करते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए-
क. हमें अपने सभी बच्चों को सामाजिक-भावनात्मक सहायता कैसे प्रदान करनी चाहिए?
ख. हमें यह कैसे सुनिश्चित करना चाहिए कि हम अपने सभी बच्चों के साथ संपर्क में रहें और उनका समर्थन करें ताकि वे स्कूल न छोड़ें।
ग. स्कूल के फिर से खुलने पर दैनिक शिक्षण-अधिगम के लिए कौन सी कक्षाएं आनी चाहिए?
घ. ऑनलाइन विधि (इंटरनेट सक्षम) का उपयोग कैसे किया जाना चाहिए? ऑनलाइन और सीधे शिक्षण शिक्षण के बीच तालमेल किस तरह होना चाहिए?
च. पिछले साल तक कौन सी नियमित गतिविधियाँ आयोजित की गई थीं, जो इस वर्ष नहीं होंगी। 
ज. प्राथमिक, उच्च प्राथमिक, माध्यमिक और सीनियर सेकेंडरी कक्षाओं में बच्चों के लिए शैक्षिक लक्ष्य और ध्यान क्या होना चाहिए?
झ. हम इन योजनाओं को लागू करने के लिए अपने स्कूलों के लिए संसाधन कैसे बढ़ा सकते हैं क्योंकि किसी भी अतिरिक्त गतिविधियों के लिए सरकारी धन उपलब्ध नहीं होगा।
स्कूलों को फिर से खोलने के बारे में बोलते हुए सर्वोदय विद्यालय ककरोला के प्रिंसिपल अतुल कुमार ने कहा कि हमें निचली कक्षाओं के बच्चों को नियमित रूप से स्कूल में बुलाना चाहिए, अन्यथा अगर  उनके माता-पिता दोनों काम कर रहे हैं, तो वे घर पर अकेले फंसे रह सकते हैं। उन्होंने कहा कि बड़े बच्चों के लिए, हम ऑनलाइन विधि का उपयोग कर सकते हैं। सर्वोदय विद्यालय जयदेव पार्क की एक अन्य स्कूल प्रिंसिपल सुनीता दहिया ने कहा, “स्कूल खोलने से पहले सभी तीन प्रमुख हितधारकों- बच्चों, अभिभावकों और शिक्षकों की सामाजिक भावनात्मक आवश्यकता पर विचार किया जाना चाहिए। उनके बीच के संबंध को मजबूत करने का प्रयास किया जाना चाहिए। स्कूल खोलने की प्रकिया क्रमिक होना चाहिए।” 
एसकेवी लक्ष्मी नगर की प्रिंसिपल रितु सिंघल ने कहा- प्राथमिक कक्षाओं में बच्चों को नियमित रूप से सुदृढीकरण की आवश्यकता होती है। इसलिए उन्हें सप्ताह में कम से कम एक बार स्कूल जरूर बुलाया जाना चाहिए।***
Maurya/

*CM Arvind Kejriwal salutes #DilliKeHeroes, thanks them for their efforts during the lockdown* #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

मुख्यमंत्री कार्यालयएनसीटी दिल्ली सरकार—————

‘दिल्ली के हीरो’ को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का सलाम
– अपनी जान की परवाह किए बिना डाॅक्टर, नर्स, पुलिस, माॅर्शल, हंगर सेंटर कर्मी समेत कई अन्य दिन रात कर रहे काम, यही हैं दिल्ली के हीरो  – अरविंद केजरीवाल
–  दिल्ली कोरोना की सबसे मुश्किल जंग इन योद्धाओं की वजह से इतनी मजबूती से सफलतापूर्वक लड़ पा रहा है – अरविंद केजरीवाल
– मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना योद्धाओं का धन्यवाद दिया, अधिकारिक ट्वीटर हैंडल से वीडियो ट्वीट कर जताया आभार
नई दिल्ली, 27 मई, 2020
कोरोना और लाॅकडाउन के दौरान कुछ ऐसे भी लोग हैं, जो अपने जान की परवाह किए बगैर रात-दिन काम कर रहे हैं, ताकि हमारी दिल्ली सुरक्षित रहे, दिल्ली के लोग सुरक्षित रहें। ऐसे कोरोना योद्धा हैं, डाॅक्टर्स, नर्स, प्रिंसिपल और शिक्षक (राशन वितरण), सिविल डिफेंस वालेंटियर्स, पुलिस, आशा वर्कर्स, बस ड्राइवर्स, कंडक्टर्स व माॅर्शल्स।  जिन्हें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ‘दिल्ली के हीरो‘ नाम दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि आज दिल्ली सबसे मुश्किल जंग अपने दिल्ली के इन योद्धाओं की वजह से इतनी मजबूती से लड़ रही है। इन योद्धाओं की वजह से ही कोरोना के ठीक हो रहे मरीजो की संख्या में भारी इजाफा हुआ है। इनकी वजह से ही दिल्ली में 10 लाख लोगों को प्रतिदिन खाना खिलाया जा रहा है। इनकी वजह से ही लाखों प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजा जा रहा है। दिल्ली के यह हीरो, अपना घर-बार छोड़कर रात-दिन बस दिल्ली को सुरक्षित करने की जंग लड़ रहे हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इनका धन्यवाद किया, उन्हें सलाम किया और अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से दिल्ली के हंगर रिलीफ सेंटर के कूक विजय यादव का वीडियो ट्वीट कर कहा कि महामारी के दौरान हमारे हंगर रिलीफ सेंटर के रसोइए जरूरतमंदों के लिए खाना बना कर पुण्य का काम कर रहे हैं। रोजाना 10 लाख लोगों की भूख मिटाने का काम करते हैं ये दिल्ली के हीरो। दिल्ली इन कोरोना योद्धाओं के जज़्बे को सलाम करती है। एक अन्य ट्वीट कर सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोविड महामारी के दौरान हम में से ज्यादातर लोग अपने अपने घरों में बंद थे लेकिन कुछ दिल्लीवासी अपने जान की परवाह किए बिना, हमारे शहर और देश की सेवा में तैनात थे। इन दिल्ली के हीरो को पूरी दिल्ली सलाम करती है। ऐसे कुछ हीरो की कहानियां मैं आज से सोशल मीडिया पर शेयर कर रहा हूँ। 

————————————————————‘दिल्ली के हीरो’ की कहानी, उनकी ही जुबानी, इनकी कहानी इस सप्ताह सीएम अपने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट भी करेंगे—————————————————————
लाॅकडाउन में 22 घंटे कर रहे काम, ताकी भूखा न रहे 30 से 35 हजार परिवार – विजय यादव

हंगर रिलीफ सेंटर के कूक विजय यादव (37) ने बताया कि जब से लाॅकडाउन हुआ है, तब से आराम सिर्फ 2 घंटे का मिल रहा है। इस समय बहुत मेहनत करनी पड़ रही है। जब मिड-डे-मील होता था, तब काम कम था। अब हमें 22 घंटे तक काम करना पड़ रहा है। मेरे यहां से प्रतिदिन 36 हजार लोगों का खाना बनता है। हमारे पास 60 से 70 हंगर रिलीफ सेंटर है। रात के 2 बजे से खाना बनाने का काम शुरू हो जाता है और सुबह 8 बजे तक बनता है। इसके बाद सफाई होनी शुरू हो जाती है और दोपहर 12 बजे से फिर शाम का खाना बनने लगता है। दिल्ली सरकार में इतनी हिम्मत है कि इतने लोगों के लिए कर रही है। 10 से 12 लाख लोगों को खाना खिलाना, उनको ठहराना, उनके सोने का इंतजाम और शारीरिक दूरी का पालन कराना, यह आसान काम नहीं है। यह सरकार का बहुत बड़ा काम है। परिवार वाले बहुत परेशान हैं। वे बुला रहे हैं कि आ आओ, लेकिन सबके लिए सोचना पड़ रहा है। हम परिवार को देखेंगे, तो यहां 30 से 35 हजार लोग भूखे हैं, उनको कौन देखेगा। परिवार से यही कहना है कि वे यही सोचें कि यहां हम एक और परिवार को पाल रहे हैं। ऐसा समझो कि अब हमारा 30 से 35 हजार लोगों का परिवार है।—–
दिल्ली सरकार का भूखे लोगों को खाना खिलाने का फैसला सही – राजेंद्र
27 वर्षीय सिविल डिफेंस वालेंटियर राजेंद्र कालकाजी में स्थिति दिल्ली सरकार के हंगर रिलीफ सेंटर में सोशल डिस्टेसिंग सुनिश्चित कराने का काम कर रहे हैं। उनका कहना है कि दिल्ली सरकार के सिविल डिफेंस वालेंटियर्स यह सुनिश्चित कर रहे है कि हंगर रिलीफ सेंटर्स में अच्छी तरह से सभी को खाना परोसा जाए। हम सभी सिविल डिफेंस वालेंटियर का फर्ज बनता है कि लोगों की रक्षा करें। मेरी यहां पर माॅर्शल के तौर पर ड्यूटी लगी है। जितने लोग यहां आते हैं, उनमें सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करता हूं। सभी को अच्छी तरह खाना उपलब्ध करवाता हूं। दिल्ली सरकार ने बहुत अच्छा फैसला लिया है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जो लोग भूखे मर रहे हैं, उनको बहुत अच्छे तरीके से खाने प्रबंध कराया है। हर व्यक्ति को सुबह-शाम अच्छे तरीके से खाना मिल रहा है। अगर उनके परिवार में चार सदस्य हैं, तो उन चारों को खाना मिल रहा है। किसी को भी कोई परेशानी नहीं हो रही है। चाहे वे बाहर ही क्यों न आए हों। 21 मार्च को लाॅकडाउन हुआ था, उसके एक सप्ताह बाद से ही स्कूलों में खाना शुरू करा दिया गया था। मैं अपने परिवार को बहुत कम समय दे पा रहा हूं। मैं कभी घर जाता हूं, तो कभी नहीं जाता हूं। यदि घर जाता हूं तो पूरा चेकअप करा कर जाता हूं। बाहर ही स्नान करने के बाद घर में प्रवेश करता हूं। हम सभी सिविल डिफेंस के वालेंटियर्स अपने आप पर गर्व महसूस कर रहे हैं। हम अपनी जान के बारे में कुछ नहीं सोच रहे हैं। हमें अपने देश को बचाना है।——
महीने भर से घर नहीं गई, फोन से अपने परिवार के संपर्क में रहती हूं – आशा
एलएनजेपी अस्पताल की नर्स आशा का कहना है कि हमें अभी 14 दिनों तक लगातार ड्यूटी करनी है। हमारी तीन शिफ्ट सुबह, शाम और रात की ड्यूटी है। सुबह और शाम की ड्यूटी 6-6 घंटे की है और रात की ड्यूटी 12 घंटे की है। इस तरह 14 दिन लगातार ड्यूटी करनी है और कोई अवकाश नहीं मिलेगा। इसके बाद 14 दिन क्वारंटाइन में रहना है। फिलहाल अभी हमें जो भी समय मिलता है, उसमें फोन या वीडियो काॅल करके परिवार के संपर्क में रहते हैं। वीडियो काॅल से ही बात हो पाती है। हमें अस्पताल में सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं, हम अपने घर नहीं जा सकते है, क्योंकि हमारे परिवार को खतरा है। दिल्ली सरकार हमारे परिवार की सभी जरूरतों का ख्याल रख रही है। इसके लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी को धन्यवाद करना चाहती हूं। दिल्ली के लोगों से कहना चाहती हूं कि आप लोग अपने घर पर ही रहिए। सुरक्षित रहिए और हमारी मदद कीजिए। यह मत सोचिए कि आप घर पर हैं, तो आप पर बहुत बड़ा जुल्म हो रहा है। यह भी एक सौभग्य की बात है कि आप घर पर हैं और अपने परिवार को समय दें रहे हैं। आप हमसे पूछिए की घर पर रहना क्या होता है? महीने भर से हम लोग अपने घर नहीं गए हैं।—–
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में जितना संभव हो सकता था, उतना सभी को सहूलियतें दीं – डा. अजीत जैन 

राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी हाॅस्पिटल के काॅर्डियक सर्जरी विभाग के प्रमुख डाॅ. अजीत जैन (52) का कहना है कि हम लोग पिछले दो महीने से अधिक हो गए, अस्पताल में ही हैं, घर नहीं गए। हम लोग अस्पताल में ही देखरेख करते हैं। रात के 2 से 3 बजे तक हम लोग होटल जाते हैं और अगले दिन सुबह 7-8 बजे तक तैयार होकर अस्पताल आ जाते हैं। होटल में जाने के बाद भी हम लोग फ्री नहीं होते हैं। वहां पर जाने के बाद भी लगातार फोन आते रहते हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी ने हम सभी के साथ बैठक की थीे। जब लाॅकडाउन था, सबकुछ बंद था और आने-जाने में समस्या हो सकती थी। उन्होंने दिल्ली में जितना संभव हो सकता था, उतना सभी को सहूलियतें दीं। हम सभी को अस्पताल से होटल और होटल से अस्पताल पहुंचाने के लिए परिवहन की सुविधा प्रदान की। लाॅकडाउन के दौरान हमारे किसी भी स्टाॅफ को कहीं पर भी आने-जाने में कोई दिक्कत नहीं हुईं। परिवार से फोन पर बात करते हैं। पत्नी को हमारी समस्या समझती है, क्योंकि वह भी एक डाॅक्टर हैं, लेकिन बच्चों को समझाना मुश्किल होता है। उनसे कुछ कहना भी बहुत कठिन होता है। फिर भी हम सब वापस जाॅब पर आते हैं। हम सोचते हैं कि देश भर में अभी आपदा की स्थिति है। हमारा मानना है कि एक बार जब हम इस पर जीत हासिल कर लेंगे, तो सभी चीजें अच्छी हो जाएंगी।

——
यह हैं दिल्ली के हीरो——————– कम्युनिटी किचन कूक- सिविल डिफेंस वालेंटियर्स- प्रिंसिपल और शिक्षक (राशन वितरण)- पुलिस- आशा वर्कर्स- डाॅक्टर्स- नर्स- बस ड्राइवर्स, कंडक्टर्स, माॅर्शल्स****
Maurya/***

OFFICE OF THE CHIEF MINISTER
GOVT. OF NCT OF DELHI****

*CM Arvind Kejriwal salutes #DilliKeHeroes, thanks them for their efforts during the lockdown*
*Nurses, doctors, marshals, police, civil defense volunteers, and many others are working day and night without caring for their lives, these are the real heroes of Delhi: CM Arvind Kejriwal*
*Delhi is fighting its toughest war against Corona because of the hard work and efforts of the Corona warriors: CM Arvind Kejriwal*
*Chief Minister Arvind Kejriwal thanks Corona Warriors, tweets video from official twitter handle expressing gratitude*

New Delhi: 27th May 2020

 In the wake of the COVID-19 pandemic, Delhi has witnessed people like doctors, nurses, bus marshals, civil defense volunteers, emerging as real heroes, and assisting the Delhi government in helping people in need during the Corona lockdown. CM Shri Arvind Kejriwal took to twitter to address these people as #DilliKeHeroes. He thanked all the heroes for their efforts and bravery and said that these people are the biggest strength behind Delhi’s fight against the Corona pandemic. 
CM  Arvind Kejriwal tweeted, “Most of us were locked in our homes during the COVID epidemic. But some Delhiites were serving the people of the city and the country. The entire Delhi salutes these #DilliKeHeroes. I will begin sharing the stories of such heroes on social media from today.”
CM Kejriwal tweeted a video of Vijay, who is working as a cook in a hunger relief centre in Delhi. His tweet read, “Our cooks in the Hunger Relief Centres are working for a noble cause and feeding the people in this pandemic. They feed around 10 lakh people daily. The entire Delhi salutes the bravery of these #DilliKeHeroes”
*If we go back home, who will feed 30-35000 people daily? – Vijay Yadav, Hunger Relief Centre cook*
36-year-old Vijay Yadav is working as a cook in a hunger relief center in Delhi. Depicting his experience of working for the people during all this lockdown, Vijay said, “I work in the hunger relief center the whole day, and can only find 2 hours a day for myself. When I used to work in the mid-day meal center before the lockdown, the work was much less, but now I am working for straight 22 hours. We have 60-70 centres with us, and we cook food for around 30-35000 people. Our first phase of cooking continues from around 2 AM till 8 AM. Then the second phase of cooking starts from 12 noon after all the supplies have reached our kitchen.” 
Vijay lauded the Delhi government for its efforts to feed the poor during this lockdown. “The Delhi government endeavors to feed 10-12 lakh people on a daily basis, along with making arrangements for their stay and maintaining social distancing.” 
“Our families have been calling us back home, but we have to think about all the people. If we go back home, who will feed 30-35000 people daily who are in need? I would like to tell my family to not worry because I am taking care of another family of around 35000 members,” he added.
*We have to think about our country right now without caring about our lives – Rajendra, Civil Defense Volunteer* 
27-year-old Rajendra has been serving the people of Delhi as a Civil Defence Volunteer. In this lockdown period, Rajendra has been working to ensure that the food distribution in the designated hunger relief centres in Delhi is done in a smooth manner. He has been deployed as a CDV at an HRC in Kalkaji. He said, “It is our responsibility to protect the people of Delhi. My duty is to ensure that people follow all social distancing norms and that food distribution is done in a proper manner. The Delhi government is feeding the poor and the needy, and every family here is getting lunch and dinner daily, irrespective of their family members. The cooked food distribution began in Delhi after a week of the first phase of lockdown that began on March 21.” 
Rajendra said that he does not visit his home regularly, and so he is not able to devote much time to his family. Even when he visits, he prefers getting his body temperature checked before entering his home to meet his family. “I feel proud to be working for the people of Delhi, without caring for my own life,” said Rajendra. 
*It has been a month since I have been home. Our duty is more important to us right now – Asha, Nurse, LNJP Hospital* 
34-year-old Asha works as a nurse in the LNJP Hospital. She said, “We are required to work for continuous shifts for 14 days, in the morning, evening, and night. Our morning and evening shifts are for 6 hours and the night shift is for 12 hours. We do not have any leaves, and there will be continuous duties for 14 days and then quarantine for 14 days.”
“Because this is a pandemic, I am staying away from my family. I stay in touch with my family and my kids through video calls. Our duty is more important to us right now. Considering the circumstances, we cannot go back home. But, arrangements for our accommodation, food and all other facilities have been made.” she said. Asha thanked Arvind Kejriwal-led Delhi government for making all the necessary arrangements for the healthcare staff.
“I would like to advise the people of Delhi to stay at home because by staying at home, you will be helping us as well. Please do not think that staying at home is unfair, it is a blessing to be home right now and spend time with your family. I have not been home for a month now,” she added. 
*It has been 2 months since I have met my family, my kids start crying whenever I talk to them on phone – Dr. Ajit Jain, Cardiac Surgeon, Rajiv Gandhi Super Specialty Hospital*
Dr. Ajit is working as a nodal officer at the Rajiv Gandhi Super Specialty Hospital, and also as the head of the Cardiac Surgery department. Dr. Ajit said, “I have not been home for the past two months. I am in the hospital only and all our necessities are taken care of. We reach our hotel at around 2 AM and come back on duty in the morning at around 7-8 AM.” 
Depicting the arrangements made by the Delhi government for the accommodation of the healthcare staff, Dr. Ajit said, “CM Arvind Kejriwal held a zoom call with all of us during the lockdown and arranged the best possible staying arrangements for us in the hotels because traveling would have been a problem for us. Transport arrangements have also been made for healthcare staff to travel to and fro hospitals and hotels.” 
“My wife is a doctor too and she is understanding, but my kids start crying whenever I talk to them on phone or video call. It then becomes difficult for me to have a conversation with them. But, once I come back to my job and think about the disastrous situation that we are in, I feel everything will be back on track after we overcome this pandemic,” said Dr. Ajit. 

*These are the real heroes of Delhi:*
1. Community Kitchen Cooks2. Civil Defence Volunteers3. Teachers and Principals (Ration distribution)4. Police5. ASHA Workers6. Doctors7. Nurses8. Bus drivers, conductors, marshals***
Maurya/

*Dy CM Sisodia assures that Delhi Govt. is taking up all necessary steps to send migrant workers back to their hometowns* #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

उपमुख्यमंत्री कार्यालयएनसीटी, दिल्ली सरकार…………………………

-प्रवासी मजदूर पैदल यात्रा न करें, सभी के लिए निशुल्क रेलयात्रा की व्यवस्था : उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया
– जिन लोगों ने पंजीकरण कराया है, सभी को दिल्ली सरकार ट्रेन से घर भेजने का इंतजाम कर रही- मनीष सिसोदिया
– आज 18 ट्रेनों की मदद से 30 हजार प्रवासी श्रमिकों को घर भेजा गया, 11 ट्रेन बिहार व 6 ट्रेन उत्तर प्रदेश भेजी गई- मनीष सिसोदिया
– अब तक दिल्ली सरकार 2,71,169 लोगों को उनके घर भेज चुकी है, जिसमें सबसे ज्यादा यूपी और बिहार के लोग शामिल थे – मनीष सिसोदिया
– मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की देखरेख में रखा जा रहा है सबकी जरूरतों का ख्याल : मनीष सिसोदिया
नई दिल्ली, 26 मई, 2020 :
दिल्ली के उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने प्रवासी मजदूरों से पैदल यात्रा न करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि सबकी निशुल्क रेलयात्रा का प्रबंध दिल्ली सरकार ने किया है। सात मई से 25 मई तक 196 ट्रेनों से 2,41,169 लोगों को उनके घर भेजा गया है। इनमें सर्वाधिक बिहार के 1,25,711 लोग हैं, जबकि यूपी के 96,610 मजदूर हैं। इसके साथ ही, झारखंड के 3132, पश्चिम बंगाल के 3864, मध्यप्रदेश के 9196 प्रवासी श्रमिकों को भेजा गया है। आज भी 18 ट्रेन से 30,000 लोगों को भेजा गया है। इनमें 11 ट्रेनें बिहार तथा 6 ट्रेनें यूपी भेजी गई हैं।
श्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि लाॅकडाउन के कारण दिहाड़ी मजदूरों और गरीबों का ज्यादा नुकसान नहीं हो, इसके लिए दिल्ली सरकार ने कई ठोस कदम उठाए हैं। प्रत्येक गतिविधि पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल स्वयं लगातार नजर रख रहे हैं। श्री केजरीवाल ने पहले ही कह दिया था कि जो प्रवासी मजदूर दिल्ली में हैं, वे भी दिल्ली के ही लोग हैं, दिल्ली ही उनका घर है। उन्हें कहीं जाने की जरूरत नहीं है। हमने सबका इंतजाम किया है। इसके बावजूद काम बंद होने और घर-परिवार की चिंता या अन्य कारणों से बहुत से लोग अपने गांव लौटने लगे। यहां तक कि बहुत से लोग पैदल जाने को मजबूर हुए। इस बीच रेलयात्रा प्रारंभ होने पर हमने सबको निशुल्क भेजने का इंतजाम किया।
श्री सिसोदिया ने कहा कि पंजीकृत प्रवासी मजदूरों को किसी स्कूल में स्थित राहत शिविर में बुलाकर सबकी स्क्रीनिंग की जाती है। टेंपरेचर और अन्य स्वास्थ्य जांच के बाद यात्रा के लिए उपयुक्त लोगों को बस से स्टेशन भेजा जाता है। सबको रास्ते के लिए पानी बोतल, केक, केला, ड्राई फ्रूट इत्यादि खाद्य सामग्री दी जाती है। गर्मी में खराब होने के भय से पका हुआ भोजन नहीं दिया जाता है। किसी मजदूर को टिकट के पैसे नहीं देने पड़ते हैं। सबको अच्छी तरह उनके घर भेजा जाता है। श्री सिसोदिया ने अपील की है कि कोई भी मजदूर पैदल या अन्य तरीकों से जाने की कोशिश न करे। जिनका भी पंजीयन हुआ है, सबको भेजने का इंतजाम किया जा रहा है।
श्री सिसोदिया के अनुसार, दिल्ली में लगभग 2500 राहत शिविर चल रहे हैं। इनमें दस लाख लोगों को भोजन कराया जा रहा था, हालांकि अभी इस संख्या में कुछ कमी आई है। लगभग 72 लाख परिवारों को पीडीएस राशन और 38 लाख परिवारों को नॉन-पीडीएस राशन दिया जा रहा है।
श्री सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली वासियों तथा प्रवासियों, किसी पर भी लाॅकडाउन के कारण ज्यादा आर्थिक दबाव न आए, इसके लिए आम आदमी पार्टी की सरकार हर संभव कदम उठा रही है। मुख्यमंत्री  श्री अरविंद केजरीवाल हर गतिविधि, हर योजना और हर डाटा पर लगातार नजर रखकर इन्हें बखूबी लागू करने के निर्देश दे रहे हैं।————–
तुगलकाबाद स्थित झुग्गियों में लगी आग से प्रभावित परिवार को 25-25 हजार रुपये की सहायता राशि दी जाएगी- मनीष सिसोदिया
उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने एक अन्य घटना की जानकारी देते हुए बताया कि बीती रात तुगलकाबाद स्थित झुग्गियों में आग लग गई थी। इस अग्निकांड से लगभग 500 परिवार प्रभावित हुए हैं। मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने इस घटना को गंभीरता से लिया है और अग्निकांड से प्रभावित लोगों को आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने प्रत्येक परिवार को 25000 रूपये की सहायता राशि देने का निर्देश दिए है। साथ ही, प्रभावित लोगों को समीप के स्कूल में उनके रहने की व्यवस्था हो रही है।****
Maurya/

Office of the Deputy CMGovt. Of NCT of Delhi****
*Dy CM Sisodia assures that Delhi Govt. is taking up all necessary steps to send migrant workers back to their hometowns*
*Delhi Govt. sent 2,71,169 migrant workers to their hometowns by Special Shramik trains- Dy CM Sisodia*
*It’s my appeal to all to have faith in our efforts as we will take you back home safely. Please do not set out on foot- Dy CM Sisodia*
*CM Arvind Kejriwal has announced monetary compensation of Rs 25000 for each family affected by JJ cluster fire at Tughlakabad.*

New Delhi: 26-05-2020
Addressing a Press Conference here on Tuesday, Deputy Chief Minister and Education Minister of Delhi, Shri Manish Sisodia appealed to the migrants to not set out on foot for their hometowns as Delhi Government is arranging for their travel through Special Shramik Trains. The Delhi Government is also bearing the travel costs of the migrant workers who are heading back to their hometowns during the lockdown situation in the wake of the pandemic COVID 19. 
“196 Special Shramik trains have carried 2,41,169 people (migrant workers) back to their hometowns till May 25,” said Dy CM Manish Sisodia. “Out of these, 93 trains carried 1.25 lakh migrant workers to various districts of Bihar and 84 trains carried 96,000 migrant workers to Uttar Pradesh,” he added. 
As the Deputy Chief Minister of Delhi addressed the Press Conference, another 18 trains carried 30,000 migrants, for states (primarily Bihar and UP) across the country, today. Delhi Govt. has sent  2,71,169 migrant workers to their hometowns by Special Shramik trains uptill now.
Talking about the strict procedure being followed by the Delhi Govt. in preparing lists of people fit enough to travel, Shri Manish Sisodia said, “People are being screened at their nearby schools. Their body temperature is being checked and lists are prepared of those people not showing any symptoms of COVID 19. Food and snacks are being provided to those who are travelling.”
He also appealed to the people to have faith in the efforts of the Delhi Government and highlighted how CM Shri Arvind Kejriwal is keeping a keen eye on the migrants’ data and requesting other states to allow trains to carry those who want to return to their hometowns. “As I have already said, everyone in Delhi will be treated as a citizen of Delhi. And we would take care of their food and shelter requirements. 2500 camps have been set up in schools all over Delhi to provide meals to 10 lakh people almost everyday (lunch and dinner). Almost 70 lakh people under PDS category have been provided ration. And 38 lakh under non PDS have been provided ration via e coupons.”noted Shri Manish Sisodia 

Taking stock of the last night’s fire that broke out at a JJ colony in Tughlakabad, Delhi which affected almost 500 families, the Deputy Chief Minister of Delhi informed that Delhi Government will provide a monetary compensation of Rs 25000 to each family affected by the incident. “We are making arrangements to provide monetary relief of Rs 25000 to the affected families as soon as possible,” he said.****
Maurya/ 

*Currently, there are 2500 beds available in government hospitals and 2000 beds available in private hospitals in Delhi: CM Kejriwal* #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

मुख्यमंत्री कार्यालय,एनसीटी, दिल्ली सरकार————–
आज भी दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में 2500 और प्राइवेट अस्पतालों में 2000 कोविड बेड खाली और उपलब्ध हैं – अरविंद केजरीवाल 

117 प्राइवेट अस्पतालों को 20 प्रतिशत बेड कोविड के लिए सुरक्षित रखने के आदेश- अरविंद केजरीवाल

– दिल्ली में स्थिति नियंत्रण में, लाॅकडाउन में ढील देने के एक सप्ताह बाद बढ़े 3500 मरीज और 2500 ठीक भी हुए- अरविंद केजरीवाल

– कोई भी अस्पताल कोविड मरीज को अपने हाल पर नहीं छोड़ सकता, दूसरे अस्पताल में बेड दिलाने की जिम्मेदारी अस्पताल की- अरविंद केजरीवाल
– दिल्ली सरकार कोविड बेड को लेकर सिस्टम तैयार कर रही, मरीजों को आसानी से पता चल जाएगा, कहां बेड उपलब्ध है- अरविंद केजरीवाल
नई दिल्ली, 25 मई, 2020
दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि लाॅकडाउन में ढील देने के बाद दिल्ली में कोरोना के केस जरूर बढ़े हैं, लेकिन स्थिति नियंत्रण में है और घबराने की कोई बात नहीं है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार ने आदेश जारी कर 117 प्राइवेट अस्पतालों में 20 प्रतिशत बेड को कोविड के लिए रिजर्व कर दिया है। अब भी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कुल 4500 बेड खाली और उपलब्ध हैं। इसके अलावा जीटीबी अस्पताल में भी 1500 आॅक्सीजन बेड तैयार किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि लाॅकडाउन में ढील देने के बाद पिछले एक सप्ताह में करीब 3500 नए केस आए हैं और 2500 लोग ठीक होकर घर भी गए हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी अस्पताल किसी कोविड मरीज को उसके हाल पर नहीं छोड़ सकता है। यदि उसके पास कोविड बेड नहीं है, तो दूसरे अस्पताल में बेड दिलाने की उसकी जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार एक सिस्टम बना रही है, जिससे लोगों को आसानी से पता चल जाएगा कि कहां पर बेड उपलब्ध है।
लाॅकडाउन में ढील देने के बाद मरीज बढ़े, लेकिन स्थिति नियंत्रण में- अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री श्रीअरविंद केजरीवाल ने कहा कि बीते 17 मई को लाॅकडाउन में काफी ढील दी गई थी। इसे एक सप्ताह हो गया है। एक सप्ताह बाद यह कह सकता हूं कि स्थिति नियंत्रण में हैं और कोई भी घबराने वाली बात नहीं है। जब लाॅकडाउन में ढील दी गई थी। तब हमें यह उम्मीद थी कि केस में थोड़ी बढ़ोत्तरी होगी और थोड़ी बढ़ोत्तरी हुई भी है, लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है। मुझे चिंता तब होगी, जब दो बातें होंगी। एक, अगर मौत का आंकड़ा बहुत तेजी बढ़ने लगेगा। जैसा कि मै बार-बार कहता रहा हूं कि कोरोना आज या कल में जाने वाला नहीं है। अभी कोरोना तो रहेगा। अगर कोरोना होता रहे और लोग ठीक होकर अपने घर जाते रहें, तो चिंता करने का कोई विषय नहीं है। मौत के आंकड़े को हम कम से कम रख सकें, यह जरूरी है। दूसरा, जो केस हो रहे हैं, वह इतने गंभीर केस न हों कि हमारे अस्पतालों का पूरा सिस्टम बैठ जाए। अगर हमारे अस्पतालों में इतने मरीज आने लगे कि बेड, आॅक्सीजन और वेंटिलेटर नहीं मिलेंगे, तब चिंता का विषय होगा। कल तक दिल्ली में कुल 13418 केस पाॅजिटिव आए थे। इनमें से 6540 ठीक हो गए और 6617 लोग अभी बीमार हैं। जितने ठीक हुए हैं, लगभग उतने ही बीमार हैं, जबकि 261 लोगों की मौत हो गई है।
दिल्ली के निजी अस्पतालों में 2 हजार अतिरिक्त बेड़ का इंतजाम कर दिया गया है – अरविंद केजरीवाल
मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में अस्पतालों की स्थिति के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोरोना के सरकारी अस्पतालों में कुल 3829 बेड हैं। जिसमें 3164 बेड में आॅक्सीजन उपलब्ध है। यहां बार-बार आॅक्सीजन की बात इसलिए कही जा रही है, क्योंकि कोरोना की कोई दवा नहीं है। जिस मरीज को कोरोना हो जाता है, उसे आॅक्सीजन की कमी हो जाती है और आॅक्सीजन की कमी की वजह से उसकी सांसे तेज हो जाती है। इसलिए उसे आॅक्सीजन देनी पड़ जाती है। कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए आॅक्सीजन की जरूरत पड़ती है। मामूली लक्षणों वालों को आॅक्सीजन देने की जरूरत नहीं पड़ती है। सरकारी अस्पतालों के 3829 बेड में से अभी तक केवल 1478 बेड ही इस्तेमाल किए जा रहे हैं। अभी भी सरकारी अस्पतालों के करीब 2500 बेड खाली हैं। सरकार के पास 250 वेंटिलेटर हैं। उनमें से केवल 11 वेंटिलेटर भी इस्तेमाल हो रहे हैं और करीब 240 वेंटिलेटर अभी खाली हैं। इसलिए अभी घबराने की कोई बात नहीं है। इसी तरह, निजी क्षेत्र में कुल 677 बेड हैं और उनमें से अभी 509 इस्तेमाल किए जा रहे हैं। अभी 168 बेड खाली हैं। इसीलिए कल सरकार ने आदेश जारी कर दिल्ली के 117 निजी अस्पतालों को अपने 20 प्रतिशत बेड कोरोना के लिए रिजर्व रखने का निर्देश दिया है। इससे प्राइवेट अस्पतालों के अंदर आज से करीब 2 हजार नए बेड उपलब्ध हो गए हैं। अभी तक प्राइवेट अस्पतालों में 677 बेड थे। अब 2000 और बेड उपलब्ध हो गए हैं। प्राइवेट अस्पतालों में 72 वेंटिलेटर हैं, जिसमें सिर्फ 15 इस्तेमाल हो रहे हैं। 

मामूली लक्षणों वाले 3314 कोरोना मरीजों का घर हो रहा इलाज- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री श्रीअरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में आ रहे अधिकतर कोरोना के केस मामूली लक्षणों वाले हैं। मरीजों में मामूली खांसी या बुखार है। कइयों में कोई लक्षण नहीं है। उन्हें पता ही नहीं चलता है कि उन्हें कोरोना हैं। जब जांच कराई तब उन्हें जानकारी हुई। उनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। अधिकतर केस ऐसे आ रहे हैं और इन्हें अस्पतालों में भर्ती करने की जरूरत नहीं पड़ती है। ऐसे लोगों को हम होम आइसोलेशन में रखते हैं। दिल्ली सरकार की एक हेल्थकेयर की टीम उनसे प्रतिदिन बात करती है। उनके परिवार के लोगों से बात कर उन्हें सलाह देती रहती है। उन पर हम लोग नजर रखते रहते हैं कि कहीं कोरोना बढ़ गया, तो उन्हें अस्पताल में शिफ्ट कर देंगे। वर्तमान में दिल्ली के अंदर 3314 लोगों का घर पर ही इलाज चल रहा है। जैसा हमने बताया कि हमने 117 प्राइवेट अस्पतालों में अब 20 प्रतिशत बेड कोरोना के लिए होंगे। इसी तरह, हम जीटीबी अस्पताल को तैयार कर रहे हैं। जीटीबी अस्पताल के 1500 बेड होंगे। यह सभी आॅक्सीजन बेड होंगे। अब हमारे पास 1500 और बेड कोरोना के लिए तैयार हो जाएंगे। इस तरह सरकार में करीब 4500 बेड पूरी तरह से कोरोना के लिए हो जाएंगे। दिल्ली सरकार ने कल करीब 2 हजार और बेड को आॅक्सीजन बेड में बदलने का आदेश दिया है। एक तरह से हमारी पूरी तैयारी है कि अगर कोरोना बीमारी के गंभीर मरीजों में अचानक वृद्धि होती है, तो हम तैयार हैं।

मुख्यमंत्री श्रीअरविंद केजरीवाल ने एक सप्ताह पहले जब लाॅकडाउन में ढील दी गई थी, तब और आज की स्थिति के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि 17 मई को लाॅकडाउन में ढील दी गई थी। उस दौरान दिल्ली में कुल 9755 केस थे और आज 13418 हैं। एक सप्ताह के अंदर करीब साढ़े तीन हजार मरीज बढ़ गए हैं। इसी के साथ एक सप्ताह के अंदर 2500 लोग ठीक होकर घर चले गए। लोग बीमार भी हो रहे हैं, लेकिन साथ-साथ ठीक भी होते जा रहे हैं। महत्वपूर्ण यह है कि पिछले एक सप्ताह में करीब 3500 नए मरीज आए और 17 मई को अस्पतालों में 1750 मरीज भर्ती थे और आज 2 हजार बेड ही भरे हैं। इस तरह करीब 250 नए मरीज अस्पतालों में भर्ती हुए हैं।
कोविड मरीज का इलाज करने से इन्कार करने पर निजी अस्पताल को नोटिस दिया- अरविंद केजरीवाल
मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दो दिन पहले पता चला है कि एक प्राइवेट अस्पताल में एक मरीज गया। उस मरीज को सांस की तकलीफ हो रही थी। दो दिन बाद अस्पताल ने उसकी जांच कराई और दो दिन बाद रिपोर्ट पाॅजिटिव आई। इसके बाद अस्पताल ने कहा कि आप कोविड-19 के मरीज हैं और हम आपका इलाज नहीं करेंगे। आप अपने लिए बेड ढूंढ लीजिए। ऐसे में मरीज अपना बेड कहां तलाशेगा और वह कहां जाएंगा। कोई भी अस्पताल इस तरह किसी भी मरीज को बाहर नहीं निकाल सकता है। हमने उस प्राइवेट अस्पताल को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उससे पूछा गया कि आपका लाइसेंस क्यों न रद किया जाए। अगर किसी भी अस्पताल में कोई भी मरीज आता है और वह कोविड निकलता है, तो उस अस्पताल की जिम्मेदारी है कि वह अपनी एंबुलेंस में भेज कर किसी सरकारी या निजी अस्पताल में उसे कोविड बेड दिलवाएगा। अस्पताल किसी भी मरीज को इस तरह अपने हाल पर नहीं छोड़ सकते हैं।मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कई बार लोगों को कोविड बेड तलाशने में दिक्कतें आती हैं। जैसा कि हमने बताया कि अभी सरकारी अस्पतालों में 2500 बेड खाली पड़े हैं और अब 2000 प्राइवेट अस्पतालों में भी बेड खाली मिलेंगे। इस तरह कुल 4500 बेड खाली हैं, लेकिन लोगों को पता ही नहीं चलता है कि किस अस्पताल में बेड खाली है। लोगों को यह पता नहीं चल पाता है कि वे कहां जाएं। इस समस्या के निदान के लिए दिल्ली सरकार एक सिस्टम बना रही है। अगले दो-तीन दिन के अंदर हम उस सिस्टम को सामने लाएंगे। जिसमें कोई भी कोविड का गंभीर मरीज है, उसको बेड चाहिए, तो उसे तुरंत पता चल जाएगा कि कहां जाना चाहिए। इसका हम पूरा सिस्टम बना रहे हैं। फिलहाल दिल्ली में स्थिति नियंत्रण में है। केस थोड़े बढ़ रहे हैं, लेकिन जितने केस बढ़ रहे हैं, उसमें अधिकतर मामूली लक्षणों वाले हैं। उनका घर में ही इलाज चल रहा है और उनकी भी हम देखभाल कर रहे हैं और जो केस अस्पतालों में आ रहे हैं, उनका भी हम पूरा ख्याल रख रहे हैं।****
Maurya/***
OFFICE OF THE CHIEF MINISTER
GOVT. OF NCT OF DELHI****
*Currently, there are 2500 beds available in government hospitals and 2000 beds available in private hospitals in Delhi: CM Kejriwal*
*Around 2000 new beds have been added in 117 private hospitals, along with 2500 beds currently available in the government hospitals: CM Kejriwal*
*117 private hospitals of Delhi should save at least 20% of their beds for the treatment of Corona patients: CM Kejriwal*
*There have been 3500 new Corona cases and 2500 new recoveries in the last one week since lockdown relaxations were announced: CM Kejriwal*
*There were 13418 cases in Delhi till yesterday, out of which 6540 cases have recovered and 6617 are active cases: CM Kejriwal*
*Today, 3314 people are being treated through home isolation as against 2000 people treated in hospitals: CM Kejriwal*
*We are creating a system through which a serious Corona patient will be able to know which hospital to go to for treatment: CM Kejriwal*
*We are fully prepared to handle the Corona crisis; there is nothing to panic and worry: CM Kejriwal*
New Delhi:  25th May 2020
CM Shri Arvind Kejriwal on Monday said that there have been 3500 new Corona cases and around 2500 patients have recovered in the last week since the relaxations on the Corona lockdown have been announced. He also said that around 2000 new beds have been added in 117 private hospitals, along with 2500 beds currently available in the government hospitals in Delhi. Yesterday, the Delhi government had issued an order that 117 private hospitals of Delhi should save at least 20% of their beds for the treatment of Corona patients. There are currently 2000 beds available in government hospitals and 2500 beds available in private hospitals in Delhi.
Addressing a digital press conference in Delhi, CM Shri Arvind Kejriwal said, “It has been a week since some relaxations were given on May 17 and after a period of one week, I can say that the situation is under control and there is no need to worry. We had expected a sudden rise in the number of cases after the relaxations and the same has happened, but there is no need to worry. The situation will get worrisome in two cases, first, if there is a steady rise in the death rate, and second if the cases are so severe that it leads to the collapsing of our whole healthcare system. I have been saying this time and again, there should be no deaths and people should recover and go back to their homes as soon as possible. It would be a troublesome situation if the number of severe patients increases to the extent that there is a non-availability of beds, oxygen, ventilators, and other healthcare infrastructure.” 
CM Shri Kejriwal said that there were 13418 cases in Delhi till yesterday, out of which 6540 cases have recovered and 6617 are active cases. There have been 261 deaths. 
He said that for the status of COVID dedicated hospitals in Delhi, there are 3829 beds in government COVID hospitals, out of which 3164 beds have oxygen availability. CM Kejriwal said, “I stress the term oxygen, because there is no cure to COVDI-19 currently, and there is a need to supply oxygen to severe COVID-19 patients as their respiratory rate decreases when they become infected. Only 1478 beds out of 3829 beds are currently occupied. Around 2500 beds are still unoccupied. There are 250 ventilators available in the government hospitals, out of which 11 ventilators are being currently used and around 240 remain unused.” 
He said that there are currently 677 beds in private hospitals, out of which 509 have been occupied. The Delhi government has issued an order yesterday, that 117 private hospitals of Delhi should save at least 20% beds for the treatment of Corona patients, which implies that around 2000 new beds have been made available in the private hospitals from today, which gives a huge convenience to people who want to be treated in private hospitals. There are currently 72 ventilators in private hospitals, out of which only 15 are being used until now.”
“Most of the new cases of COVID-19 have mild symptoms such as a mild fever and cough, and many of them are asymptomatic. These cases do not need to be admitted into the hospitals and are advised to follow home isolation. My team stays in regular touch with them and their families for monitoring their symptoms,” added the CM.  
CM Shri Kejriwal said, “Today, 3314 people are being treated through home isolation and around 2000 people are being treated in the hospitals. We are also preparing around 1500 beds fully equipped with oxygen facilities in GTB Hospital. This will lead to a total of 5500 beds available for Corona treatment in Delhi. We are fully prepared to handle the surge in serious cases of Corona.” 
Announcing the change in the number of cases in the last one week since some relaxations on Corona lockdown were given, CM Kejriwal said that there were 9755 COVID+ve patients in Delhi as on May 17, and there are 13418 cases today, which means that there has been a rise of around 3500 patients in the last week. 
He said, “Around 2500 patients have also recovered in the last week, which is a positive development for Delhi. Similarly, there were 1750 patients in the hospitals on May 17, and today there are 2000 patients in the hospitals, which means that the occupancy of only 250 beds has increased in the last week.” 
CM Shri Kejriwal warned hospitals of serious action in case they deny treatment to any Corona positive patient. “A patient visited the private hospital a few days back because of some breathing issues, and his test was conducted two days later. When the results came out to be positive, he was denied treatment in the same private hospital because he was found to be Corona positive. Where will the patient go? No hospital can deny treatment to any patient. We have issued a show-cause notice to the private hospital. It is the responsibility of the hospital that if any patient is found to be positive, the hospital ambulance should take the patient to any private and government hospital to ensure that he is being treated,” said the CM. 
CM Shri Arvind Kejriwal said that a system will be developed to help people locate the hospitals for treatment. “Even when we have 2500 vacant beds in government hospitals and 2000 beds in private hospitals, people face difficulties while trying to locate the hospitals that have beds available with them. We are creating a system through which a serious Corona patient will be able to know which hospital to go to for treatment. This system will be fully developed within 2-3 days,” added the CM. 
CM Kejriwal said, “There has been a surge in cases, but the situation is under control as most of the cases have mild symptoms or are asymptomatic. They are being treated under home isolation, and patients in hospitals are also being taken care of.”***
Maurya/

Rajendra Pal Gautam along with DCPCR and revenue department evacuated children’s home from Nabikarim to Peeragarhi. #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Office of Women & Child Development MinisterGovernment of Delhi***

*- Rajendra Pal Gautam along with DCPCR and revenue department evacuated children’s home from Nabikarim to Peeragarhi.*
*-Vishwajeet Ghoshal, the Director of Prayas JAC Society, thanked Minister Rajendra Pal Gautam for timely action.*
New Delhi: 23rd May 2020
On Friday, WCD Minister, Rajendra Pal Gautam received a complaint from Vishwajeet Ghoshal, the Director of Prayas JAC Society which stated that the children residing in one of their shelter homes located in Nabikarim area live on the first floor of the building where an instance of a COVID positive case has been reported. The complaint also stated inadequate water supply and hardships children are facing since the area has been declared as a containment zone. Within 15 minutes of the receipt of the representation, the Hon’ble Minister directed Delhi Commission for Protection of Child Rights (DCPCR), Government of NCT of Delhi to promptly act on the complaint. 
In the light of this health emergency among children, the Cabinet Minister directed DCPCR to immediately made arrangements to shift the children to another shelter home in Peeragarhi. 
Vishwajeet Ghoshal, the Director of Prayas JAC Society who personally thanked Minister Rajendra Pal Gautam for the timely response and action in the matter. 
He wrote, “We place our sincere thanks on records for your timely support in making it possible, the shifting of children from Nabikarim to Peeragarhi shelter home.”
“Nabikarim is a containment zone which posed a health emergency to the children living in the shelter home. Timely evacuation by DCPCR with the help of the District Magistrate and other local bodies was needed. It is our duty to ensure safety and protection of children” – Rajendra Pal Gautam
The instance of how Sh Rajendra Pal Gautam coordinated with 4 different stakeholders and ensured the full safety of the children within less than 10 working hours is an example of how Government of Delhi is committed to ensuring the safety and good health of its children and is working promptly to address every challenge which arises amidst the pandemic to safeguard its citizens.****
Maurya/***
महिला एवं बाल विकास मंत्री कार्यालय, एनसीटी, दिल्ली सरकार
–—————–

*- कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम के निर्देश पर डीसीपीसीर व राजस्व विभाग ने नबी करीम से पीरागढ़ी में बच्चों को शिफ्ट कराया*
*- नबीकरीम स्थित आश्रय गृह की बिल्डिंग में कोविड-19 का केस मिलने पर मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम से बच्चों को दूसरे स्थान पर शिफ्ट करने की मांग की गई थी*
*- जेएसी सोसायटी के निदेशक विजयजीत घोषाल ने शिकायत मिलने के तुरंत बाद कार्रवाई के लिए मंत्री राजेंद्र पाल गौतम को धन्यवाद दिया*

नई दिल्ली : 23 मई 2020
 महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने नबीकरीम इलाके में स्थित एक आश्रय गृह की बिल्डिंग में कोविड-19 पॉजिटिव का एक केस मिलने पर ऐहतियात के तौर पर आश्रय गृह में रह रहे बच्चों को पीरागढ़ी इलाके में स्थित दूसरे आश्रय गृह में शिफ्ट करा दिया है। वहां बच्चों को पानी की भी दिक्कत हो रही थी। जेएसी सोसायटी के निदेशक से मिली एक शिकायत पर यह कार्रवाई की गई।
दरअसल, महिला एवं बाल विकास मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने शुक्रवार को जेएसी सोसाइटी के निदेशक विश्वजीत घोषाल से एक शिकायत प्राप्त की। घोषाल ने कहा था कि नबीकरीम इलाके में स्थित उनके एक आश्रय गृह की बिल्डिंग में कोविड-19 पॉजिटिव एक केस पाया गया है। शिकायत में यह भी उल्लेख किया गया था कि पानी की अनापूर्ति की वजह से बच्चों को कई कठिनायों का सामना करना पड़ रहा है। जिसके चलते उन्हें दूसरे स्थान पर शिफ्ट कराना जरूरी है। यह इलाका अप्रैल 2020 से कंटेन्मेंट जोन घोषित है।
कोरोना महामारी जैसे इस वैश्विक आपातकाल में कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग को निर्देश दिया कि वह तुरंत बच्चों को पीरागढ़ी स्थित दूसरे आश्रय गृह में शिफ्ट करने की व्यवस्था करें।
जेएसी सोसाइटी के निदेशक विश्वजीत घोषाल ने व्यक्तिगत रूप से मामले में त्वरित कार्यवाही करने के लिए मंत्री राजेंद्र पाल गौतम को धन्यवाद दिया है।
उन्होंने लिखा, “हम आपका आभार व्यक्त करना चाहते हैं कि आपने हमारी शिकायत मिलने के तुरंत बाद संज्ञान लेते हुए आवश्यक कार्रवाई की, जिसकी वजह से हमारे शेल्टर होम के बच्चों को नबीकरीम से पीरगढ़ी आश्रय गृह में स्थानांतरित करना संभव हो सका। 
कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम ने कहा कि नबी करीम इलाका कंटेन्मेंट जोन घोषित होने की वजह से यहां रहने वाले बच्चों के लिए काफी संवेदनशील था, जिससे बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर चिंता बढ़ी थी। ऐसे आपातकालीन स्थिति में हमने जिला मजिस्ट्रेट और अन्य स्थानीय निकायों की मदद से दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा समय पर बच्चों को शिफ्ट कराया है। बच्चों की सेहत का ख्याल रखना हमारे लिए सबसे ज़्यादा महत्पूर्ण है। इसके लिए दिल्ली सरकार सभी कदम उठाने के लिए तैयार है।
राजेंद्र पाल गौतम ने इस शिकायत को मात्र 10 घंटे के अंदर सुलझाया और यह साबित कर दिया कि दिल्ली सरकार इस महामारी के दौर में गवर्नेंस की एक नई मिसाल कायम कर रही है।****
Maurya/