Deputy Chief Minister reaches SKV, Chirag Delhi to hold a fourth review meeting with teachers and parents on online education model #DelhiGovernance #AAPatWork #DelhiFightsCorona

OFFICE OF THE DEPUTY CHIEF MINISTERGOVT. OF NCT OF DELHI
31-07-2020
*Deputy Chief Minister reaches SKV, Chirag Delhi to hold a fourth review meeting with teachers and parents on online education model
-*Soon there will be a vaccine to cure Corona, but there is no vaccine for the loss of education: Mr. Sisodia
-*Delhi created history with 98% result, but instead of being complacent we need to set new goal: Deputy Chief Minister
-*Online education has helped parents to connect more with their children, such experiments should continue even after schools re-open: A parent suggested
-*Once we thought of achieving 90% result, now even 98% seems less: Mr. Sisodia

Deputy Chief Shri Minister Manish Sisodia today interacted with teachers and parents at SKV School, Chirag Delhi. This was the fourth review meeting on online and semi-online education in Delhi government schools. 
Giving credit for this success to parents and teachers, Mr. Sisodia said that the government has only provided the platform, all the hard work has been done by the teachers and parents. He said that the corona epidemic is the worst crisis mankind has seen. We have to keep up the learning process even when everything else is closed.
Mr. Sisodia said, “Soon there will be a vaccine to cure Corona, but there is no vaccine for the loss of education. Therefore, we have to reduce our other expenses so that we continue with our children’s education. If there is a loss in education, it will not only be the loss of that child or family, but it will be a loss for the entire country. Our prudence is to recognize that no matter how difficult it may get, it should not affect our child’s education.” Mr. Sisodia thanked parents for their support and said, “You have transformed your home as a school, this is a big deal.”
Mr. Sisodia said that students who did not have online resources were contacted through the phone call. A semi-online pattern was introduced for them and the material was given. There was a child who did not have access to Online Education, a teacher came forward to help him. She took the help of his neighbor and arranged that facility for him. Only a teacher can do this miracle.
Mr. Sisodia said, “Online education is not an alternative to school. Going to school helps in the all-round development of a child. So we want the school to re-open as soon as possible. We did this experiment so that children do not lose their precious time.” He also spoke about the importance of activities in online education. He said Finland’s education system is considered to be the best in the world. Even in Finland, a lot is taught through various activities.
Mr. Sisodia said, “We had to implement online education suddenly without proper planning. But we can say our experiment has been successful. Parental involvement during these online sessions has been like a blessing in disguise.”
Sisodia said that the government schools of Delhi have created history this time by getting a 98% result. He said, “Five years ago when we got 88% result, we gave ourselves the target of achieving 90%. Today, the result has reached 98 percent. But let us not be complacent, but instead, let’s think of moving forward.” He said, “In a car, the front mirror is bigger, the rearview mirror is smaller. While driving, we look at the front mirror rather than looking at the rearview mirror. Similarly, in life, we have to look forward. If an organization or a family becomes happy and satisfied with its progress and stops working hard for the future, then it cannot move forward.”

A mother said that children are enjoying this form of education a lot. School teachers have worked extremely hard and this is a good opportunity for children to learn and grow. Teachers said that till now we used to connect only with children, but now we are getting the opportunity to interact with parents more. This interaction was not possible during the PTMs. Parents described online education as a useful tool and said teachers guide their children properly throughout these sessions.
The process of reviewing online education in different schools of every district will continue. The rules of social distancing were fully taken care of during the interaction.
***Maurya/

उप मुख्यमंत्री कार्यालयएनसीटी, दिल्ली सरकार
31 जुलाई 2020
ऑनलाइन शिक्षा की चौथी समीक्षा बैठक के लिए एसकेवी, चिराग दिल्ली पहुंचे उपमुख्यमंत्री, शिक्षकों अभिभावकों से लिया फीडबैक 
कोरोना का वैक्सीन बन जाएगा, लेकिन शिक्षा के नुकसान का कोई वैक्सीन नहीं : श्री सिसोदिया
98% रिजल्ट से दिल्ली ने इतिहास रचा, लेकिन इस पर आत्ममुग्ध होने के बदले अब अगला लक्ष्य निर्धारित करना होगा : उपमुख्यमंत्री
ऑनलाइन ने पेरेंट्स को भी शिक्षा से जोड़ा, स्कूल खुलने के बाद भी ऐसे प्रयोग हों : अभिभावक का सुझाव
कभी 90% रिजल्ट की सोचते थे, अब 98% भी कम लगता है : श्री सिसोदिया

उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने आज एसकेवी, चिराग दिल्ली में शिक्षकों और अभिभावकों के साथ संवाद किया। दिल्ली सरकार के स्कूलों में सेमी आॅनलाइन शिक्षा पर यह चौथी समीक्षा बैठक हुई। 
श्री सिसोदिया ने कोरोना संकट में ऑनलाइन शिक्षा की सफलता का श्रेय अभिभावकों और शिक्षकों को देते हुए कहा कि सरकार ने सिर्फ सुविधा बढ़ाई है, सारी मेहनत तो आपने की है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी मानव जाति का सबसे बड़ा संकट है। जब सारी चीजें बंद हैं, तब भी हमें बच्चों को पढ़ाना है।
श्री सिसोदिया ने कहा कि कोरोना का वैक्सीन बन जाएगा, लेकिन शिक्षा में नुकसान की भरपाई किसी वैक्सीन से नहीं हो सकती। इसलिए हम अपने अन्य खर्च कम करके किसी भी तरह बच्चों की पढ़ाई जारी रखें। अगर पढ़ाई में नुकसान हुआ तो यह बच्चे या परिवार का नहीं, बल्कि पूरे देश का नुकसान होगा। हमारी समझदारी की पहचान यह है कि कितनी भी मुश्किल क्यों न हो, हम अपने बच्चों को जरूर पढ़ाएंगे। श्री सिसोदिया ने पेरेंट्स से मिले सहयोग के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि आपने अपने घर को स्कूल बना दिया, यह बड़ी बात है। 
श्री सिसोदिया ने कहा कि जिन बच्चों के पास ऑनलाइन साधन नहीं थे, उनके लिए सेमी ऑनलाइन व्यवस्था करते हुए स्कूल में मैटेरीयल दिया गया, फोन पर संपर्क किया गया। 
श्री सिसोदिया ने कहा कि स्कूल का कोई विकल्प नहीं है। स्कूल जाने से बच्चों का सर्वांगीण विकास होता है। इसलिए हम चाहते हैं कि स्कूल जल्द से जल्द खुले। अभी बच्चों को नुकसान ना हो, इसके लिए हमने यह प्रयोग किया। उन्होंने ऑनलाइन शिक्षा में एक्टिविटीज का महत्व भी बताया। कहा कि फिनलैंड की दुनिया में सबसे अच्छा माना जाता है। वहां भी एक्टिविटीज के जरिए काफी कुछ सिखाया जाता है।
श्री सिसोदिया ने कहा कि ऑनलाइन का प्रयोग हमें बगैर योजना के अचानक करना पड़ा। बगैर योजना इतना अच्छा प्रयोग बड़ी सफलता है। इसमें पेरेंट्स का जुड़ना ब्लेसिंग इन डिसगाइस है। 
श्री सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों ने इस बार 98% रिजल्ट ला कर इतिहास कायम किया है। पांच साल पहले जब 84% से बढ़कर 88% रिजल्ट आया था, तब हमने 90% का टारगेट रखा था। आज रिजल्ट 98 प्रतिशत पहुंच गया। लेकिन हम इससे आत्ममुग्ध न हों, बल्कि और आगे बढ़ने की सोचें। उन्होंने कहा कि कुछ अच्छा होने पर हम खुश हों, लेकिन हमेशा आगे की तरफ सोचना चाहिए। जब हम कार चलाते हैं, तो आगे की तरफ देखने का शीशा बड़ा होता है, पीछे का छोटा। हमें आगे की ओर देखते जाना है। कोई संस्था या परिवार अपनी तरक्की पर खुश होकर इत्मीनान हो जाए, तब आगे नहीं बढ़ सकती।

संवाद के दौरान शिक्षकों और अभिभावकों ने विस्तार से अपने अनुभव शेयर किए।
एक पेरेंट ने कहा कि ऑनलाइन शिक्षा ने पेरेंट्स को भी पढ़ाई से जोड़ा और हमें भी शिक्षा का मतलब समझ में आ रहा है। इसलिए स्कूल खुलने के बाद भी ऐसे प्रयोग जारी रखे जाएं।
एक पेरेंट ने कहा कि बच्चे इस पढ़ाई को खूब इंजॉय कर रहे हैं। स्कूल के टीचर्स ने बच्चों पर काफी मेहनत की है तथा बच्चों को सीखने का अच्छा अवसर मिल रहा है। टीचर्स ने कहा कि अब तक हम सिर्फ बच्चों से जुड़ते थे, लेकिन अब पेरेंट्स से भी जुड़ने का अवसर मिल रहा है। यह बात पीटीएम में इतनी अच्छी नहीं हो पाती। पेरेंट्स ने ऑनलाइन शिक्षा को काफी उपयोगी बताते हुए कहा कि शिक्षकों ने बच्चों का अच्छा मार्गदर्शन किया। 
हर जिले के विभिन्न स्कूलों में आॅनलाइन शिक्षा की समीक्षा का सिलसिला जारी रहेगा। संवाद के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरा ध्यान रखा गया।

Social Welfare Minister Shri Rajendra Pal Gautam hands over cheques for loans under various schemes of DSFDC #DelhiGovernance #AAPatWork #10PointGuarantee

Office of Minister of Social WelfareGovernment of NCT of Delhi**** 
Social Welfare Minister Shri Rajendra Pal Gautam hands over cheques for loans under various schemes of DSFDC
102 beneficiaries receive loans of amount worth 80 lakhs NEW DELHI :  July 31 2020
Delhi Social Welfare Minister Shri Rajendra Pal Gautam on Friday distributed cheques for loans under various schemes of DSFDC. Nearly 94 beneficiaries received a loan of upto Rs.50,000 and 8 beneficiaries received a loan of up to Rs.3,00,000. The minister on Friday disbursed a total amount of 80 lakhs as loans to the beneficiaries. 
The DSFDC provides need-based loans at concessional rates to people belonging to SC, ST, OB or Minority communities or are specially-abled and are living below the poverty line in Delhi.  The Corporation also extends the loan for starting or expanding the income-generating activity.  There is a provision of a moratorium of six months, which helps these poor persons to start their ventures systematically.
In order to benefit small time vendors who sell fruits, vegetables and other items in the weekly bazaar and have been adversely affected due to corona pandemic, the department is planning to disburse loans of upto Rs.20,000 at a low rate of interest of 4% per annum. This scheme will help these people to avoid money lenders (Mahajans).****
Maurya/****

*समाज कल्याण मंत्री कार्यालय**एनसीटी, दिल्ली सरकार*————— 

*-समाज कल्याण मंत्री ने डीएसएफडीसी योजना के तहत ऋण वितरित किए*
*- 102 व्यक्तियों को कुल 80,00,000 रुपए धनराशि का ऋण वितरण किया गया*
*नई दिल्ली, 31 जुलाई, 2020*
दिल्ली के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने आज आयोजित एक कार्यक्रम में दिल्ली सरकार के उपक्रम, दिल्ली अनुसूचित जाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वित्तीय एवं विकास निगम (डीएसएफडीसी) की तरफ से संचालित की जा रही योजनाओं के तहत 94 व्यक्तियों को 50,000 रूपए और 08 लोगों को 3,00,000 रुपए की धनराशि ऋण के तौर पर प्रदान किए। इस कार्यक्रम में कुल 80,00,000 रुपए धनराशि के ऋण वितरित किए गए।
दिल्ली अनुसूचित जाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वित्तीय एवं विकास निगम दिल्ली में निवास करने वाले व गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग व्यक्तियों को सस्ते ब्याज दर पर ऋण प्रदान करता है। निगम आवेदकों को यह ऋण कोई भी आय सृजन करने वाले व्यवसाय को शुरू करने अथवा उसके विस्तार के लिए प्रदान करता है। ऋण में छह माह का विलम्बकाल भी होता है, जिससे ऋण लेने वालों को अपना व्यवसाय सुचारू रूप से आरंभ करने में मदद मिलती है। दिल्ली अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वित्तीय एवं विकास निगम कोरोना महामारी से प्रभावित अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, विकलांग वर्ग के व्यक्तियों, जो रेहड़ी अथवा पटरी पर फल, सब्जी बेचते हैं या किसी साप्ताहिक बाजार में अपना माल बेचते हैं, उनको 20,000 रूपए का ऋण 4 प्रतिशत ब्याज की दर पर देने का विचार कर रहा है। इसके अतिरिक्त, निगम बेरोजगार युवाओं को अपना रोजगार आरम्भ करके आजीविका कमाने के हिसाब से कई योजनाओं को शुरू करने जा रहा है।****
Maurya/

CM Arvind Kejriwal provides Rs 1 crore financial assistance to the family of Corona warrior Dr Javed Ali #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

OFFICE OF THE CHIEF MINISTER

GOVT. OF NCT OF DELHI

***

CM Arvind Kejriwal provides Rs 1 crore financial assistance to the family of Corona warrior Dr Javed Ali

Dr Javed Ali contracted Corona while serving and helping the people of Delhi: CM Arvind Kejriwal

We salute Dr Ali’s sacrifice, and people of Delhi are proud of him: CM Arvind Kejriwal

The Delhi government will do whatever it can to support the family of  Dr Ali: CM Arvind Kejriwal

NEW DELHI:  30 July 2020

Chief Minister Arvind Kejriwal on Thursday met with the family of Corona warrior Late Dr Javed Ali and offered them a financial assistance of Rs. 1 crore. CM Kejriwal also said that the Delhi government will do whatever it can to support the family. Dr Javed Ali, a National Health Mission (NHM) doctor had succumbed to COVID-19. CM Arvind Kejriwal said that the people of Delhi salutes the martyrdom and bravery of Dr Ali.

“Dr Javed Ali, 42, had contracted the infection in the line of duty. He contracted COVID in June while performing his duties in a coronavirus facility. Without caring for his own life, he kept helping people. The people of Delhi salutes his service. Today I met his family members and handed over financial assistance of Rs 1 crore. This money cannot compensate for the value of life but it will at least bring some relief to his family. It is a message that we care for our Corona warriors and every citizen of Delhi stands with them. We have now controlled COVID situation in Delhi due to the relentless work of our Corona warriors. This compensation amount announced by the Delhi government is giving confidence to these warriors that the government is with them and will look after their family. These warriors are working with more energy and compassion. All medical staff, doctors, nurses and the sanitation workers are working very hard and we are confident that in future the situation will improve further,” said Delhi CM Arvind Kejriwal.

The CM also tweeted, “In the Corona period, our doctors are treating patients day and night without caring for their lives. One such Corona Warrior Dr Javed Ali ji had recently succumbed to death due to COVID. Today I met his family and handed over Rs 1 crore to his family as financial assistance and we will help his family in future also.”

Dr Javed Ali had been on the frontline in the fight against the highly contagious illness since March. He tested positive for coronavirus on June 24 and was on ventilator for the last 10 days. He is survived by his wife and two children.

****

Maurya/

***

*मुख्यमंत्री कार्यालय,*

*एनसीटी, दिल्ली सरकार।*

****

————– 

*मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना योद्धा डाॅ. जावेद के परिजनों को एक करोड़ की सहायता राशि दी*

*- पूरी दिल्ली के लोग डाॅ. जावेद की शहादत को सलाम करते हैं और हमेशा उनके परिवार के साथ खड़े हैं- अरविंद केजरीवाल*

*- सहायता राशि का एक महत्व है, इससे कर्मचारियों व अधिकारियों में विश्वास पैदा होता है कि सरकार उनका ख्याल रख रही है- अरविंद केजरीवाल*

*नई दिल्ली, 30 जुलाई, 2020*

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना योद्धा डाॅक्टर जावेद अली के निधन पर बृहस्पतिवार को उनके परिवार को एक करोड़ रुपये की सहायता राशि का चेक सौंपा। संविदा पर तैनात करीब 42 वर्षीय डॉक्टर जावेद अली का कोविड-19 के चलते 20 जून को निधन हो गया था। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘कोरोना काल में हमारे डाॅक्टर्स अपनी जान की परवाह किए बगैर दिन- रात मरीजों का इलाज कर रहे हैं। ऐसे ही एक कोरोना योद्धा डाॅक्टर जावेद अली का हाल ही में कोरोना से निधन हो गया था। आज उनके परिवार से मिल कर एक करोड़ रुपये की सहायता राशि दी। भविष्य में भी उनके परिवार का ख्याल रखेंगे।’’ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पूरे देश में केवल दिल्ली सरकार ही है, जो कोरोना योद्धाओं को इस तरह आर्थिक मदद कर रही है। 

डाॅ. जावेद के मालवीय नगर स्थित घर जाकर परिजनों से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से कहा कि डाॅक्टर जावेद अली हमारे दिल्ली सरकार में डाॅक्टर थे। उन्होंने अपनी जान की परवाह किए बिना कोरोना के मरीजों का इलाज किया। उन्होंने कोरोना के मरीजों की सेवा में पिछले तीन-चार महीने में काफी मेहनत की थी। लोगों की सेवा करने के दौरान उनको भी कोरोना हो गया। इस बीमारी से हम उन्हें बचा नहीं पाए और उनकी मौत हो गई। उनकी मौत का हमें बहुत ज्यादा अफसोस और दुख है। पूरी दिल्ली के लोग उनकी शहादत को सलाम करते हैं और उनके परिवार के साथ हम लोग खड़े हैं। आज मैने उनके परिवार के लोगों से मुलाकात की। हमने उनके परिवार को एक करोड़ रुपये की सहायता दी है। वैसे तो किसी की जान की कोई कीमत नहीं होती है, लेकिन यह छोटी सी एक राशि है। हम उनके परिवार की परवाह करते हैं और पूरी दिल्ली व पूरा समाज उनके साथ खड़ा है। मैंने उन्हें भरोसा दिया है कि भविष्य में भी यदि कोई जरूरत पड़े तो हमें बताएं। 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के अंदर कोरोना से निपटने में थोडे-थोड़े हम लोग कामयाब नजर आ रहे हैं। उसमें हम लोग अपने कोरोना योद्धाओं को एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि देते हैं। इसका भी अपना एक महत्व है। क्योंकि सभी कोरोना पर काम करने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों को यह लगता है कि सरकार हमारा ख्याल रखती है और वे बढ़-चढ़ कर काम कर रहे हैं। सभी डाॅक्टर्स, नर्सेंज और कर्मचारी सभी लोग बढ़ चढ़ कर मेहनत कर रहे हैं। पूरे देश में कोई भी राज्य सरकार ऐसा नहीं कर रही है। केवल दिल्ली सरकार आर्थिक मदद कर रही है। मैं उम्मीद करता हूं कि आने वाले समय में कोरोना को कम करने में कामयाब होंगे। 

उल्लेखनीय है कि डॉ. जावेद अली मूलरूप से उत्तर प्रदेश के चंदौसी जिले के रहने वाले थे। उनके परिवार में उनका 6 साल का बेटा और 12 साल की बेटी है. जबकि उनकी पत्नी डाॅ. हीना कौसर एक नर्सिंग होम में बतौर डॉक्टर कार्यरत हैं। मार्च महीने से डाॅ. जावेद कोविड-19 की ड्यूटी पर थे। उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि 24 जून को हुई थी और उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया। एम्स ट्रॉमा सेंटर में 20 जून को इलाज के दौरान उनका निधन हो गया।

****

Maurya/

Deputy Chief Minister reviews semi-online education in schools, takes feedback from teachers and parents #DelhiGovernance #AAPatWork #10PointGuarantee

OFFICE OF THE DEPUTY CHIEF MINISTERGOVT. OF NCT OF DELHI
30-07-2020
*Deputy Chief Minister reviews semi-online education in schools, takes feedback from teachers and parents
*Soon there will be a vaccine to cure Corona, but there is no vaccine for the loss of education: Mr. Sisodia
*Delhi created history with 98% result, but instead of being complacent we need to move ahead: Deputy Chief Minister
*Once we thought of achieving 90% result, now even 98% seems less: Mr. Sisodia
*Parents have a big role in online education, who have converted their homes as a school: Shri Sisodia
New Delhi
Deputy Chief Minister, Shri Manish Sisodia today interacted with teachers and parents at SKV, Shankar Nagar. During this interaction, he reviewed the online education of Delhi government schools and sought suggestions to improve it. Describing online education as very useful, mostly parents said their children were guided well. Aam Aadmi Party MLA of Krishna Nagar, Mr. S.K. Bagga, and Officials of Education Department were also present at this session.
Sisodia said that Delhi’s government schools have created history this time by getting a 98% result. He said, “Five years ago when we got 88% result, we gave ourselves the target of achieving 90%. Today, the result has reached 98 percent. But let us not be complacent, but instead, let’s think of moving forward.” He said, “In a car, the front mirror is bigger, the rearview mirror is smaller. While driving, we look at the front mirror rather than looking at the rearview mirror. Similarly, in life, we have to look forward. If an organization or a family becomes happy and satisfied with its progress and stops working hard for the future, then it cannot move forward.”
Giving credit for this success to parents and teachers, Mr. Sisodia said that the government has only provided the platform, all the hard work has been done by the teachers and parents. He said that the corona epidemic is the worst crisis mankind has seen. We have to keep up the learning process even when everything else is closed.
Mr. Sisodia said, “Soon there will be a vaccine to cure Corona, but there is no vaccine for the loss of education. Therefore, we have to reduce our other expenses so that we continue with our children’s education. If there is a loss in education, it will not only be the loss of that child or family, but it will be a loss for the entire country. Our prudence is to recognize that no matter how difficult it may get, it should not affect our child’s education.” Mr. Sisodia thanked parents for their support and said, “You have transformed your home as a school, this is a big deal.”
Mr. Sisodia said that students who did not have online resources were contacted through the phone call. A semi-online pattern was introduced for them and the material was given. There was a child who did not have access to Online Education, a teacher came forward to help him. She took the help of his neighbor and arranged that facility for him. Only a teacher can do this miracle.
Mr. Sisodia said, “Online education is not an alternative to school. Going to school helps in the all-round development of a child. So we want the school to re-open as soon as possible. We did this experiment so that children do not lose their precious time.” He also spoke about the importance of activities in online education. He said Finland’s education system is considered to be the best in the world. Even in Finland, a lot is taught through various activities.
Mr. Sisodia said, “We had to implement online education suddenly without proper planning. But we can say our experiment has been successful. Parental involvement during these online sessions has been like a blessing in disguise.”
Stating the need for new experiments in the field of education, Shri Sisodia said, “Even today we are following the education system which was introduced during the British Era. Only the criticism has been done in the name of reforming that system. Now, the time has come to bring-in some substantial changes.”
During the interaction, teachers and parents shared their experiences in detail. Parents said that the children are enjoying this education pattern. School teachers have worked extremely hard and this is a good opportunity for children to learn and grow. Teachers said that till now we used to connect only with children, but now we are getting the opportunity to interact with parents more. This interaction was not possible during the PTMs.
The rules of social distancing were fully taken care of during the interaction. The process of reviewing online education in different schools of every district will continue.***Maurya/

उप मुख्यमंत्री कार्यालयएनसीटी, दिल्ली सरकार

उपमुख्यमंत्री ने स्कूलों में सेमी -ऑनलाइन शिक्षा की समीक्षा की, शिक्षकों अभिभावकों से लिया फीडबैक 
कोरोना का वैक्सीन बन जाएगा, लेकिन शिक्षा के नुकसान का कोई वैक्सीन नहीं : श्री सिसोदिया
98% रिजल्ट से दिल्ली ने इतिहास रचा, लेकिन इस पर आत्ममुग्ध होने के बदले आगे बढ़ें : उपमुख्यमंत्री
सेमी ऑनलाइन माध्यम से हमनें सभी बच्चों से जुड़ने का प्रयास किया : श्री सिसोदिया
कभी 90% रिजल्ट की सोचते थे, अब 98% भी कम लगता है : श्री सिसोदिया
ऑनलाइन शिक्षा में पेरेंट्स की बड़ी भूमिका है जिन्होंने घर को ही स्कूल बना दिया : श्री सिसोदिया

नई दिल्ली, 30 जुलाई 2020
उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने आज एसकेवी, शंकर नगर में शिक्षकों और अभिभावकों के साथ संवाद किया। इस दौरान उन्होंने दिल्ली सरकार के स्कूलों में जारी सेमी आॅनलाइन शिक्षा की समीक्षा करते हुए इसे बेहतर करने के सुझाव मांगे। संवाद में अधिकांश पेरेंट्स में ऑनलाइन शिक्षा को काफी उपयोगी बताते हुए कहा कि शिक्षकों ने बच्चों का अच्छा मार्गदर्शन किया। 
श्री सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों ने इस बार 98% रिजल्ट ला कर इतिहास कायम किया है। पांच साल पहले जब 88% रिजल्ट आया था, तब हमने 90% का टारगेट रखा था। आज रिजल्ट 98 प्रतिशत पहुंच गया। लेकिन हम इससे आत्ममुग्ध न हों, बल्कि और आगे बढ़ने की सोचें। उन्होंने कहा कि कुछ अच्छा होने पर हम खुश हों, लेकिन हमेशा आगे की तरफ सोचना चाहिए। जब हम कार चलाते हैं, तो आगे की तरफ देखने का शीशा बड़ा होता है, पीछे का छोटा। हमें आगे की ओर देखते जाना है। कोई संस्था या परिवार अपनी तरक्की पर खुश होकर इत्मीनान हो जाए, तब आगे नहीं बढ़ सकती।
श्री सिसोदिया ने इस सफलता का श्रेय अभिभावकों और शिक्षकों को देते हुए कहा कि सरकार ने सिर्फ सुविधा बढ़ाई है, सारी मेहनत तो आपने की है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी मानव जाति का सबसे बड़ा संकट है। जब सारी चीजें बंद हैं, तब भी हमें बच्चों को पढ़ाना है।
श्री सिसोदिया ने कहा कि कोरोना का वैक्सीन बन जाएगा, लेकिन शिक्षा में नुकसान की भरपाई किसी वैक्सीन से नहीं हो सकती। इसलिए हम अपने अन्य खर्च कम करके किसी भी तरह बच्चों की पढ़ाई जारी रखें। अगर पढ़ाई में नुकसान हुआ तो यह बच्चे या परिवार का नहीं, बल्कि पूरे देश का नुकसान होगा। हमारी समझदारी की पहचान यह है कि कितनी भी मुश्किल क्यों न हो, हम अपने बच्चों को जरूर पढ़ाएंगे। श्री सिसोदिया ने पेरेंट्स से मिले सहयोग के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि आपने अपने घर को स्कूल बना दिया, यह बड़ी बात है। 
श्री सिसोदिया ने कहा कि जिन बच्चों के पास ऑनलाइन साधन नहीं थे, उनके लिए सेमी ऑनलाइन व्यवस्था करते हुए स्कूल में मैटेरीयल दिया गया, फोन पर संपर्क किया गया। एक बच्चे के पास ऑनलाइन की सुविधा मौजूद नहीं थी तो एक शिक्षक ने पड़ोस के बच्चे से उसकी उसे मदद दिलाई। यह करिश्मा शिक्षक ही कर सकते हैं।
श्री सिसोदिया ने कहा कि स्कूल का कोई विकल्प नहीं है। स्कूल जाने से बच्चों का सर्वांगीण विकास होता है। इसलिए हम चाहते हैं कि स्कूल जल्द से जल्द खुले। अभी बच्चों को नुकसान ना हो, इसके लिए हमने यह प्रयोग किया। उन्होंने ऑनलाइन शिक्षा में एक्टिविटीज का महत्व भी बताया। कहा कि फिनलैंड की दुनिया में सबसे अच्छा माना जाता है। वहां भी एक्टिविटीज के जरिए काफी कुछ सिखाया जाता है।
श्री सिसोदिया ने कहा कि ऑनलाइन का प्रयोग हमें बगैर योजना के अचानक करना पड़ा। बगैर योजना इतना अच्छा प्रयोग बड़ी सफलता है। इसमें पेरेंट्स का जुड़ना ब्लेसिंग इन डिसगाइस है। 
श्री सिसोदिया ने शिक्षा के क्षेत्र में नए प्रयोगों की जरूरत बताते हुए कहा कि अब तक देश में अंग्रेजों के जमाने का शिक्षा सिस्टम चलता रहा है।  सुधार के नाम पर सिर्फ आलोचना हुई है। अब हमें व्यापक प्रयोग करना है।
संवाद के दौरान शिक्षकों और अभिभावकों ने विस्तार से अपने अनुभव शेयर किए। अभिभावकों ने कहा कि बच्चे इस पढ़ाई को खूब इंजॉय कर रहे हैं। स्कूल के टीचर्स ने बच्चों पर काफी मेहनत की है तथा बच्चों को सीखने का अच्छा अवसर मिल रहा है। टीचर्स ने कहा कि अब तक हम सिर्फ बच्चों से जुड़ते थे, लेकिन अब पेरेंट्स से भी जुड़ने का अवसर मिल रहा है। यह बात पीटीएम में इतनी अच्छी नहीं हो पाती।
संवाद के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरा ध्यान रखा गया। हर जिले के विभिन्न स्कूलों में आॅनलाइन शिक्षा की समीक्षा का सिलसिला जारी रहेगा।

Delhi Government decides to end night curfew, allow hotels and hospitality services and street hawkers #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

*OFFICE OF THE CHIEF MINISTER*

*GOVT OF NCT OF DELHI*

***

*CM Arvind Kejriwal takes important decisions to open up Delhi’s economy under Unlock-3 phase*

*- Delhi govt decides to end night curfew, allow hotels and hospitality services and street hawkers*

*- Weekly bazaars to be allowed on a trial basis for a week with social distancing norms*

*- CM Arvind Kejriwal has taken several steps in the last few days to revive Delhi’s economy*

New Delhi:  30 July 2020

CM Arvind Kejriwal on Thursday took several important decisions to open up Delhi’s economy under the Unlock 3 guidelines issued by Central Government. These decisions are in continuation of several important decisions taken by CM Arvind Kejriwal in the past few days to ensure Delhi’s economy, which was impacted severely by the lockdown, gets back on track.

Earlier in the week, CM Arvind Kejriwal launched ‘Rozgar Bazaar’ jobs portal to ensure synchronisation between businesses looking to hire and job-seekers looking for job, permitted street hawkers to start operating on a trial basis for a week and de-linked hotels from Covid hospitals so that they could start functioning normally.

As part of the decisions taken today under Unlock 3 guidelines, Delhi government has decided to end the night curfew that was earlier in operation from 10 PM to 5 AM. Since hotels of Delhi are no longer linked to hospitals, Delhi government has also decided to allow normal functioning of hotels and hospitality services, as already permitted under Centre’s unlock guidelines.

As part of the order passed on Monday, Delhi government had allowed street hawkers to function in Delhi on a trial basis for a week from 10am to 8pm. It was decided today that the street hawkers will be permitted to function in the future without any limitations on operating hours. Delhi government has also allowed Weekly Bazaars to function on a trial basis for a week with social distancing and all necessary precautionary measures.

****

Maurya/

*मुख्यमंत्री कार्यालय,*

*एनसीटी, दिल्ली सरकार।*

————-

*सीएम अरविंद केजरीवाल ने अनलॉक -3 के तहत दिल्ली की अर्थव्यवस्था को खोलने के लिए महत्वपूर्ण फैसले लिए*

*- दिल्ली सरकार ने रात के कर्फ्यू को समाप्त करने का फैसला किया, होटल, हाॅस्पिटलिटी सेवाओं और स्ट्रीट हाॅकर्स को काम करने की अनुमति दी*

*- सोशल डिस्टेंसिंग और आवश्यक एहतियातों के साथ ट्रायल के आधार पर एक हफ्ते के लिए साप्ताहिक बजारों को खोलने की अनुमति दी*

*- मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए पिछले कुछ दिनों में कई महत्वपूर्ण कदम उठाए*

*नई दिल्ली: *30 जुलाई 2020*

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को केंद्र सरकार द्वारा जारी अनलॉक-3 के दिशा-निर्देशों के तहत दिल्ली की अर्थ व्यवस्था को खोलने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए। पिछले कुछ दिनों में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा लगातार कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए, ताकि लाॅकडाउन के दौरान बुरी तरह से प्रभावित हुई दिल्ली की अर्थ व्यवस्था को वापस पटरी पर लाने के लिए सुनिश्चित किया जा सके। 

पिछले पहले सप्ताह, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जाॅब की तलाश कर रहे लोगों और जाॅब देने वाले कारोबारियों के बीच तालमेल सुनिश्चित करने के लिए ‘‘रोजगार बाजार’’ जॉब्स पोर्टल लांच किया था। स्ट्रीट हाॅकर को ट्राॅयल के आधार पर एक सप्ताह के लिए अपना काम शुरू करने की अनुमति दी गई थी। साथ ही कोविड अस्पतालो ंसे अटैच होटलों को डी-लिंक किया, ताकि वे सामान्य रूप से काम करना शुरू कर सकें। 

अनलॉक-3 के दिशा-निर्देशों के तहत आज लिए गए निर्णयों के तहत, दिल्ली सरकार ने रात के कफ्र्यू को समाप्त करने का फैसला लिया है, जो पहले रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक रहता था। चूंकि दिल्ली के होटल अब अस्पतालों से जुड़े हुए नहीं हैं, इसलिए दिल्ली सरकार ने होटलों में समान्य कामकाज शुरू करने करने की अनुमति देने का फैसला किया है और जैसा कि पहले से ही हाॅस्पिटलिटी सेवाओं की अनुमति केंद्र सरकार के अनलॉक गाइड लाइंस के अनुसार दी गई है।

सोमवार को पारित आदेश के तहत, दिल्ली सरकार ने एक सप्ताह के लिए सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक ट्रायल के आधार पर दिल्ली में स्ट्रीट हॉकर्स को काम करने की अनुमति दी थी। आज निर्णय लिया गया कि भविष्य में सड़क पर चलने वाले फेरीवालों को भविष्य में बिना किसी समय सीमा अंदर अपना काम करने की अनुमति दी जाएगी। दिल्ली सरकार ने ट्राॅयल के आधार पर साप्ताहिक बाजारों को एक सप्ताह के लिए सोशल डिस्टेंसिंग और सभी आवश्यक एहतियाती उपायों के साथ काम करने की अनुमति दी है।

****

Maurya/

****

Lieutenant Governor rejects Delhi cabinet’s decision and issues orders to implement the lawyer panel of Delhi Police to represent Delhi riot cases #DelhiGovernance #AAPatWork

*GOVT. OF NCT OF DELHI*

****

*Lieutenant Governor rejects Delhi cabinet’s decision and issues orders to implement the lawyer panel of Delhi Police to represent Delhi riot cases*

 *- Under Article 239AA(4) of the Constitution, the Delhi Government is bound to follow the orders issued by the LG*

 *- On Tuesday, the Delhi government’s cabinet rejected the panel suggested by the Delhi Police to represent Delhi riot cases citing serious concerns*

 *- LG overturned Delhi government’s cabinet decision by using his special powers*

New Delhi:  30 July 2020

The Hon’ble Lieutenant Governor of Delhi Shri Anil Baijal on Thursday rejected the decision of the Delhi Cabinet on the selection of lawyer panel to represent Delhi riots and anti-CAA protest cases in the Hon’ble High Court and Hon’ble Supreme Court. The Hon’ble LG has issued orders to the Delhi government to notify the panel of lawyers suggested by the Delhi police, instead of the panel of lawyers selected by Home Department of Delhi government. Under the Constitution, the Delhi government is now bound to implement this order by the Hon’ble LG.

*LG has rejected the Cabinet decision by exercising his special power under Article 239AA(4) of the Constitution*

The Delhi government held its Cabinet meeting on Tuesday to decide on the matter of appointment of a panel of lawyers in the Hon’ble Supreme Court and Hon’ble High Court for cases related to riots in north-east Delhi and anti-CAA protests. In this meeting, the Delhi Cabinet rejected the panel of lawyers proposed by the Delhi Police. The Delhi Cabinet has observed that the courts have already raised serious questions on the fairness of investigations done by the Delhi Police in the riot cases. The Cabinet has also observed that in such a situation a free and fair trial of these cases would not be possible by a panel of lawyers selected by the Delhi Police itself. Keeping in mind the principles of the criminal justice system and the need to ensure independence between investigation and prosecution, the Delhi Cabinet has directed the Home Department to form an impartial panel of the best possible lawyers in the country for the cases related to the Delhi riots. The Hon’ble Lieutenant Governor of Delhi has rejected the decision of the Cabinet Delhi by exercising his special powers under Article 239AA(4) of the Constitution. Following this development, the Delhi government is compelled to issue an interim order to approve the panel of Delhi Police.

 *Delhi government wanted the approval of panel of impartial lawyers*

The Cabinet on Tuesday observed that at the same time there should not be any punishment or harassment of innocent people but the criminals should be punished severely. The Delhi Cabinet rejected the suggestion of the Hon’ble LG to approve the Delhi Police’s panel of lawyers. During the meeting, the Delhi Cabinet noted that Hon’ble Justice Mr Suresh Kait of the Hon’ble Delhi HC has earlier observed that the Delhi Police is taking the entire judicial system on a ride on the Delhi riot cases. The Cabinet has also noted that various session courts and media have questioned the role of the Delhi Police during the riot and its investigation. The Delhi Cabinet has observed that in such a situation the panel of lawyers of the Delhi Police would not be able to ensure justice in these cases. The Delhi Cabinet observed that these cases are very important and the Delhi government’s panel of lawyers should represent these cases. 

*Principle of any criminal justice system is that the investigation should be completely independent and the investigation should not interfere*

Cabinet of the Delhi Government had also observed the fundamental principle of any criminal justice system is that the investigation should be completely independent and the investigation should not interfere with the rest of the judicial process. Keeping this principle in mind, the Delhi Cabinet has observed that under such circumstances, it is not possible to expect a free and fair trial by lawyers appointed by Delhi Police. The Cabinet of the Delhi Government has noted that the investigating agency should not be allowed to decide the lawyers.

****

Maurya/

****

 मुख्यमंत्री कार्यालय

 एनसीटी दिल्ली सरकार

***

 *दिल्ली सरकार के कैबिनेट के निर्णय को उप राज्यपाल ने खारिज किया, दिल्ली पुलिस के पैनल को लागू करने के दिए आदेश* 

 *- संविधान के तहत एलजी का यह आदेश मानने के लिए दिल्ली सरकार बाध्य,  दिल्ली सरकार को यह आदेश हर हाल में लागू करना होगा* 

 *- मंगलवार को दिल्ली सरकार की कैबिनेट ने दिल्ली पुलिस के पैनल को कर दिया था अस्वीकार* 

 *- संविधान से मिले विशेष अधिकार का इस्तेमाल कर एलजी ने पलटा दिल्ली सरकार के कैबिनेट का निर्णय* 

नई दिल्ली – 30/07/2020

दिल्ली दंगों के लिए सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में वकीलों का पैनल नियुक्त करने को लेकर मंगलवार को लिए गए दिल्ली सरकार की कैबिनेट के निर्णय को उप राज्यपाल अनिल बैजल ने खारिज कर दिया है। संविधान से मिले विशेष अधिकार का इस्तेमाल कर एलजी ने ऐसा किया। साथ ही दिल्ली सरकार के गृह विभाग को आदेश दिया है कि दिल्ली पुलिस के पैनल को मंजूरी दें। अब संविधान के तहत एलजी का यह आदेश दिल्ली सरकार पर बाध्य होगा और दिल्ली सरकार को यह आदेश हर हाल में लागू करना होगा। 

दिल्ली दंगों के लिए सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में वकीलों का पैनल नियुक्त करने को लेकर मंगलवार को दिल्ली सरकार की कैबिनेट की बैठक हुई थी। जिसमें दिल्ली सरकार ने दिल्ली पुलिस के वकीलों के पैनल को खारिज कर दिया था। दिल्ली कैबिनेट का मानना था कि दिल्ली दंगों के संबंध में दिल्ली पुलिस की जांच को कोर्ट ने निष्पक्ष नहीं माना है। ऐसे में दिल्ली पुलिस के पैनल को मंजूरी देने से केस की निष्पक्ष सुनवाई संभव नहीं है। दिल्ली के उप राज्यपाल ने संविधान के अनुच्छेद 239(एए)(4) के तहत मिले अधिकार का इस्तेमाल कर दिल्ली सरकार के कैबिनेट के निर्णय को खारिज कर दिया। साथ ही इस अनुच्छेद से मिले अधिकार के तहत दिल्ली सरकार को अंतरिम आदेश जारी किया है कि दिल्ली पुलिस के पैनल को मंजूरी दी जाए। 

 *दिल्ली सरकार चाह रही थी निष्पक्ष वकीलों के पैनल को मिले मंजूरी* 

मंगलवार शाम को हुई दिल्ली कैबिनेट की बैठक में  दिल्ली पुलिस के प्रस्ताव के साथ दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल के सुझाव पर विचार किया गया था। इस दौरान यह तय हुआ था कि दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा पैदा करने के लिए जो भी दोषी हैं, उन्हें सख्त सजा मिलनी चाहिए। साथ ही यह भी तय हुआ था कि निर्दोष को परेशान या दंडित नहीं किया जाना चाहिए। इस कारण दिल्ली कैबिनेट ने दिल्ली सरकार के वकीलों के पैनल की नियुक्ति पर सहमति जताई थी। साथ ही दिल्ली पुलिस के वकील पैनल को मंजूरी देने के उपराज्यपाल के सुझाव को अस्वीकार कर दिया था। इसके पीछे का कारण यह था कि दिल्ली पुलिस की जांच पर विभिन्न न्यायालय की ओर से पिछले दिनों उंगली उठाई गई है। दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायधीश सुरेश कुमार ने दिल्ली दंगे के संबंध में दिल्ली पुलिस पर टिप्पणी की थी, “दिल्ली पुलिस न्यायिक प्रक्रिया का गलत इस्तेमाल कर रही है।” सेशन कोर्ट ने भी दिल्ली पुलिस की निष्पक्षता पर सवाल खड़े किए थे। इसके अलावा कुछ मीडिया रिपोर्ट में भी दिल्ली पुलिस की निष्पक्षता पर सवाल खड़े किए गए थे। इस स्थिति में दिल्ली पुलिस के वकीलों के पैनल को मंजूरी देने से दिल्ली दंगों की निष्पक्ष जांच पर संदेह था। इस कारण दिल्ली सरकार की कैबिनेट ने दिल्ली पुलिस के पैनल को मंजूरी नहीं दी थी। दिल्ली सरकार का मानना था कि दिल्ली दंगों का केस बेहद महत्वपूर्ण है, इस कारण सरकारी अधिवक्ता निष्पक्ष होना चाहिए। केजरीवाल सरकार दिल्ली दंगों की निष्पक्ष जांच के लिए हर कदम पर लड़ती रही, सरकार ने हर वह कदम उठाए जिससे दिल्ली दंगों में दोषियों को सख्त सजा मिले। साथ ही निर्दोषों के साथ अन्याय न हो। लेकिन अब एलजी के आदेश के बाद दिल्ली सरकार के हाथ बंध गए हैं। 

इसके अलावा दिल्ली सरकार की कैबिनेट का मानना था कि क्रिमिनल जस्टिस का मूल सिद्धांत है कि जांच पूरी तरह से अभियोजन से स्वतंत्र होनी चाहिए। दिल्ली पुलिस दिल्ली दंगों की जांच एजेंसी रही है, ऐसे में उनके वकीलों के पैनल को मंजूरी देने से निष्पक्षता पर सवाल खड़े हो सकते हैं। दिल्ली सरकार की कैबिनेट का मानना था कि जांच एजेंसी को वकीलों को तय करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। वकीलों को जांच एजेंसी से स्वतंत्र होना चाहिए। पूरे देश और दुनिया में यह सिद्धांत सबसे अहम माना जाता है और इसका उल्लंघन दिल्ली में नहीं होने देना चाहिए। जिसे दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने अस्वीकार कर दिया और दिल्ली सरकार के गृह विभाग को आदेश दे दिया है कि दिल्ली पुलिस के पैनल को नोटिफाइड करें।

****

Maurya/

****

Delhi Government organizes live entrepreneurship mindset interaction program to make school students job providers, not job seekers #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

OFFICE OF CHIEF MINISTER

GOVT. OF NCT OF DELHI

****

*It is our endeavor that our education system should be such that our children become job-providers, instead of job-seekers – Arvind Kejriwal*

*In Delhi schools, we are training children on different ways of entrepreneurship to become successful entrepreneurs: Arvind Kejriwal*

*It is a skill to learn any other language, but we should be proud of mother tongue Hindi- DY CM Manish Sisodia*

*Behind any successful person is his value system, the value system itself takes that person to different levels – Arjun Malhotra*

*Delhi Government organizes live entrepreneurship mindset interaction program to make school students job providers, not job seekers*

New Delhi, July 29, 2020

Schools across the country are closed due to the Corona pandemic, but through online education, the learning process is still on in the government schools of Delhi. A live interaction session was held today for classes 9th to 12th on Entrepreneurship Mindset. In this session, Chief Minister Arvind Kejriwal, Deputy Chief Minister Manish Sisodia, and Businessman Arjun Malhotra participated and shared their experiences with children. They answered the queries raised by the Principal and students of the schools participating in the program.

*Chief Minister Arvind Kejriwal said, “It is our endeavor that our education system should be such that our children become job-providers, instead of job-seekers*.”

Chief Minister Arvind Kejriwal said, “This is my first program. In the last one and a half years, ever since this Entrepreneurship Mindset program started, a lot of eminent people have come to address the children, but I am attending this program for the first time. I was elated when I came to know that Shri Arjun Mehrotra is coming. I have a personal relationship with him. We are also from the same college, IIT Kharagpur. I feel proud that Mr. Arjun Mehrotra, my fellow IITian, has earned respect and has done such good work in the world of business.”

In Delhi schools, we are training children different ways of entrepreneurship so that children can become successful entrepreneurs: Arvind Kejriwal

Chief Minister Arvind Kejriwal said, “We believe that the people of our country are very intelligent. We are full of ideas and have a brilliant entrepreneurship mindset. A rickshaw puller is also an entrepreneur, a paan-wala is also an entrepreneur; every citizen of this country knows how to run a business. But there is some problem with our education system. The moment we exit from our school, we start looking for jobs. We want to change this mindset. We want that while being in school, our students should start thinking in a direction where they do not have to find a job after leaving school, rather they should start thinking about their business propositions.” He told students, “You don’t have to be a job seeker, but you have to become a job provider. We want to inculcate this in the mindsets of children. This cannot be taught in theory. This is the reason, we call small, medium, and big entrepreneurs to take these sessions and inspire students.”

It is possible to do all the work in our mother tongue Hindi, but not feasible in today’s conditions- Arvind Kejriwal

A student asked that in Japan and China, all the work is done in their mother tongue. But why in India it is not done?

Chief Minister Arvind Kejriwal agreed with the student and said, “Yes, all work should be done in our mother tongue but we cannot ignore the current situation. The British left the country, but the British system continued. We did not even change the education system. The system that Macaulay built in 1830 continues till date. There are few like Shri Arjun Malhotra who go against the system and create their unique identity. Otherwise, our system is such that we can only produce clerks. Secondly, today a child who knows English has a better chance of landing with a good job with global exposure. Therefore, it is not possible to change this system in a day and implement Hindi everywhere. But yes, if everyone tries together, it will surely happen one day. Today parents expect their children to speak fluent English. I hope there will be a day when the entire system will start working in our mother tongue Hindi.”

*It is a skill to learn any other language, but we should be proud of mother tongue Hindi- DY CM Manish Sisodia*

Deputy CM Manish Sisodia agreed with the student and said, “Yes, all work can be done in our mother tongue, but we cannot ignore the current situation. During the interaction, Mr. Sisodia said that after the Corona crisis subsides, a variety of new opportunities will arise in the field of entrepreneurship. Mr. Sisodia said that Chief Minister Arvind Kejriwal and Mr. Arjun Malhotra both did their engineering from IIT Kharagpur and both of them achieved great success in their life. He told students, “This is the right opportunity for all of you to learn entrepreneurship mindset from both of them.” Mr. Sisodia said, “Three years ago, CM Sir and I interacted with a few IIT students. Most of them praised our work done in the field of Science and thanked us for their improved Science Labs. But at the same time, they requested us to emphasize more on English.” Mr. Sisodia said, “learning any language is a skill, but our mother tongue Hindi is our pride. We should not feel shy to speak in our mother tongue.”

Chief Guest Arjun Malhotra said, “behind any successful person is his value system. It is his value system that takes that person to different levels. Mr. Malhotra said, “I wanted to go to NASA and become a researcher after IIT. But since I got a job in DCM, I did not go. Later, we left our job to make computer microprocessors and formed our company. At that time, my uncle did not approve of my decision to leave the job but later when he saw me succeed, he became happy.” Mr. Malhotra said, “Parents are your well-wishers. This is the reason they stop you from taking risks. But if you have the passion for something, go for it. Try to understand your parent’s point of view. Everyone cannot understand your passion.”

Expressing gratitude to guest entrepreneur Arjun Malhotra, Chief Minister Arvind Kejriwal described his experiences as fruitful. Mr. Kejriwal said, “Mr. Malhotra’s experiences show that nothing is impossible. If you are determined towards something, then there is always a way out. During your entire interaction session, our students got to learn a lot of good things. We hope to call you at regular intervals to keep this interaction going.”

*****

Maurya/

****

मुख्यमंत्री कार्यालय,

एनसीटी, दिल्ली सरकार

————— 

*हमारा प्रयास है कि हमारी शिक्षा प्रणाली रोज़गार देने वाली होनी चाहिए ताकि हमारे बच्चे नौकरी देने वाले बनें, नौकरी तलाशने वाले नहीं- अरविंद केजरीवाल*

*दिल्ली के स्कूलों में हम बच्चों को नए तरीके से एंटरप्रिन्योरशिप की ट्रेनिंग दे रहे हैं ताकि बच्चे एक सफल उद्यमी बन सकें : अरविंद केजरीवाल*

*किसी भी भाषा को सीखना एक स्किल है, लेकिन मातृभाषा हिंदी हमारा गर्व है, किसी को भी अपनी मातृभाषा हिंदी बोलने में शर्माना नहीं चाहिए- मनीष सिसोदिया*

*किसी भी सफल व्यक्ति के पीछे उसका वैल्यू सिस्टम होता है, वैल्यू सिस्टम ही उस व्यक्ति को अलग-अलग स्तर पर लेकर जाता है- अर्जुन मल्होत्रा*

*दिल्ली सरकार ने स्कूली बच्चों को नौकरी तलाशने वाला नहीं, बल्कि नौकरी देने वाला बनाने के उद्देश्य से लाइव एंटरप्रिन्योर इंटरेक्शन कार्यक्रम आयोजित किया*

नई दिल्ली, 29 जुलाई, 2020

दिल्ली सरकार ने सरकारी स्कूलों के बच्चों को नौकरी तलाशने वाला नहीं, बल्कि नौकरी देने वाला बनाने के उद्देश्य से लाइव एंटरप्रिन्योर बातचीत की। लाइव कार्यक्रम में मुख्य अतिथि एंटरप्रिन्योरशिप के क्षेत्र में ख्याति प्राप्त अर्जुन मल्होत्रा के साथ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने हिस्सा लिया। साथ ही कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले स्कूलों के प्रधानाचार्य और छात्रों के सवालों का मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और अर्जुन मल्होत्रा ने जवाब दिया। 

*मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारी शिक्षा प्रणाली में और भी सुधार की जरूरत है. हम बच्चों को उस दिशा में सोचने के लिए प्रेरित करना चाहते हैं कि जब वे स्कूल से निकलें, तो नौकरी तलाशने वाले नहीं, बल्कि नौकरी देने वाले बनें।  वहीं, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोई भी भाषा सीखना एक स्किल है, लेकिन मातृभाषा हिंदी गर्व करने वाली चीज है*। हमें हिंदी बोलने में कभी शर्माना नहीं चाहिए। वहीं, मुख्य अतिथि अर्जुन मल्होत्रा ने कहा किसी भी सफल व्यक्ति के पीछे उसका वैल्यू सिस्टम है। यह वैल्यू सिस्टम ही है, जो उस व्यक्ति को अलग-अलग स्तर पर लेकर जाता है।

लाइव एंटरप्रिन्योर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अर्जुन मल्होत्रा जी को आज के कार्यक्रम में बहुत-बहुत बधाई देना चाहता हूं। आप अपना बहुत ही कीमती समय निकाल कर हमारे बच्चों को अपनी यात्रा के बारे में बताने और उन्हें मोटिवेट करने के लिए आए हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मेरा यह पहला कार्यक्रम है। पिछले एक-डेढ़ साल से, जब से यह एंटरप्रिन्योरशिप माइंडसेट का कार्यक्रम शुरू हुआ, तब से कई सारे प्रतिष्ठित लोग बच्चों को संबोधित करने के लिए आए, लेकिन मैं पहली बार इस कार्यक्रम में भाग ले रहा हूं। मुझे जब पता चला कि अर्जुन मल्होत्रा जी आ रहे हैं, तो बहुत खुशी हुई। उनसे मेरे व्यक्तिगत संबंध भी हैं। हम दोनों एक ही काॅलेज से भी हैं। मल्होत्रा जी भी आईआईटी खड़गपुर से हैं और मै भी आईआईटी खड़गपुर से हूं। हमारा काॅलेज से भी एक रिश्ता है। मुझे गर्व है कि हमारे काॅलेज से निकले हुए अर्जुन मल्होत्रा जी ने बिजनेस और एंटरप्रिन्योरशिप की दुनिया में इतना नाम कमाया है और इतना अच्छा काम किया। 

*दिल्ली के स्कूलों में हम बच्चों को नए तरीके से इंटरप्रेन्योरशिप की ट्रेनिंग दे रहे हैं ताकि बच्चे एक सफल उद्यमी बन सकें : अरविंद केजरीवाल*

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारा विश्वास है कि हमारे देश के लोग बहुत ही बुद्धिमान हैं। हमारे देश के बच्चे बहुत बुद्धिमान हैं। दूसरी बात यह कि हमारे देश के लोगों में एंटरप्रिंन्योरशिप कूट-कूट कर भरी हुई है। एक रिक्शा वाला भी एंटरप्रिन्योर है, एक पान वाला भी एंटरपिन्योर है और हमारे देश के अंदर हर एक को धंधा करने आता है। लेकिन हमारी शिक्षा प्रणाली में कुछ न कुछ समस्या है। क्योंकि हमारी शिक्षा प्रणाली से जितना प्रोडक्ट निकलता है, वह बाहर निकलने के बाद सबसे पहले नौकरी ढूंढता है। हम इस माइंडसेट को बदलना चाहते हैं, ताकि हम अपने बच्चों को, जब वे स्कूल में होते हैं, उसी वक्त हम उनको उस दिशा में सोचने के लिए प्रेरित करना चाहते हैं कि आपको स्कूल से निकलने के बाद नौकरी नहीं ढूंढनी है, बल्कि आपको स्कूल से निकलने के बाद कुछ न कुछ अपना काम करने को सोचना है। आपको नौकरी तलाशने वाला नहीं बनना है, बल्कि आपको नौकरी देने वाला बनना है। हम यह बच्चें के माइंडसेट में डालने चाहते हैं। दिल्ली के स्कूलों में हम अपने बच्चों को इंटरप्रेन्योरशिप की ट्रेनिंग दे रहे हैं ताकि हमारे बच्चे देश के इंटरप्रेन्योर बन सकें।  इसमें हम छोटे, मध्यम और बड़े बिजनेसमैन, सभी को बुलाते हैं और उनकी कहानियां जब बच्चे सुनते हैं, तो वे प्रेरित होते हैं। 

— 

सभी प्रयास करें, तो सभी कार्य मातृभाषा हिंदी में करना संभव, लेकिन आज की परिस्थितियों में आसान नहीं- अरविंद केजरीवाल

एक छात्र ने सवाल करते हुए कहा कि सरकारी स्कूलों में इंग्लिश में सुधार आया है, लेकिन हमारी मातृभाषा हिंदी है, उसके लिए भी कुछ होना चाहिए। हम देखते हैं कि जापान और चीन में उनकी मातृभाषा में उनका सारा काम होता है। क्या यहां पर भी ऐसा नहीं हो सकता है कि हमारा सारा काम हिंदी में हो, तो ज्यादा अच्छे से विकास हो सकता है?

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जवाब देते हुए कहा कि आपकी बात बिल्कुल सही है कि अपनी मातृभाषा में सारा काम होना चाहिए। इसमें दो बातें हैं। एक, जो परिस्थिति है, उससे हम भाग नहीं सकते हैं। हमारे यहां पहले अंग्रेजों का राज था। देश से अंग्रेज चले गए, लेकिन अंग्रेजियट का सिस्टम और अंग्रेजी भाषा जारी रही। इसका हमारे देश के उपर काफी बड़ा प्रभाव पड़ा। अंग्रेजी भाषा को छोड़िए, हमारे देश के अंदर जो शिक्षा का सिस्टम है, वो भी हमने बदला नहीं है। 1830 में मैकाले ने जो सिस्टम बनाया था, आज तक वही चला आ रहा है। यह तो अर्जुन मल्होत्रा जी जैसे बहुत कम लोग हैं, जो सिस्टम से बाहर निकल कर अपनी एक अलग पहचान बनाते हैं, अन्यथा हमारे देश के अंदर वो लोग जो सिस्टम बना कर गए थे, कि ऐसा सिस्टम बनाओ, जो क्र्लक पैदा करे। स्कूल से निकलने के बाद लोग नौकरियां ढूंढें, वही सिस्टम आज तक हमारे देश में चला आ रहा है। 

दूसरी बात, आज परिस्थितियां यह है कि जो बच्चा अंग्रेजी बोलता है और अंग्रेजी सीखता है, उसको अच्छी नौकरी मिलती है और उसका अच्छा भविष्य बनता है और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उसको अच्छा अवसर मिलता है। आज के हालात को देखते हुए हम इस सिस्टम को तुरंत बदले कि भारत सरकार और राज्य सरकारों में एकदम से हिंदी लागू हो जाए, तो ऐसा अभी नहीं हो सकता है। मैं समझता हूं कि अगर सभी मिल कर इस दिशा में प्रयास करेंगे, तो जरूर एक दिन ऐसा हो पाएगा। लेकिन आज की परिस्थिति ऐसी है कि अंग्रेजी सिस्टम भी है और अंग्रेजी भाषा के तौर पर चलती भी है। ज्यादातर पैरेंट्स से बात करें, तो सभी कहेंगे कि हमारे बच्चे अंग्रेजी सीखें, बोलें और आगे बढ़ें। फिलहाल तो यही सिस्टम है। लेकिन मैं जरूरत उम्मीद करता हूं कि एक दिन ऐसा आएगा कि जब सारा सिस्टम मातृभाषा हिंदी में काम करेगा। 

*हमें कभी भी अपनी मातृभाषा में बोलने में झीझक नहीं होनी चाहिए- मनीष सिसोदिया*

छात्रा मेघा के प्रश्न पर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि मैने और मुख्यमंत्री जी ने तीन साल पहले हमारे दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बच्चे, जो आईआईटी में चयनित हुए थे, उनसे संवाद किया था। उसमें से ज्यादातर बच्चों ने कहा था कि आपने साइंस बहुत अच्छी कर दी, आपने साइंस लैब बहुत अच्छी करवा दी, जिससे हम आईआईटी जा पा रहे हैं। लेकिन उन बच्चों ने खुद कहा था कि आप हमें अंग्रेजी सीखाने के लिए कुछ कीजिए। वह एक बड़ा कारण था, जिसके बाद हम लोगों ने अंग्रेजी पर ज्यादा जोर दिया। हांलाकि आपके सवाल की तह को मैं समझ रहा हूं और मैं बार-बार कहता हूं कि हमें अपनी मातृभाषा बोलने में कहीं भी शर्माना नहीं चाहिए। कई बार लोग सोचते हैं कि मुझे अच्छी अंग्रेजी नहीं आती है, तो मैं शायद उतना अच्छा आदमी नहीं बन पाउंगा। मैं कहना चाहता हूं कि अंग्रेजी सीखना एक स्कील है, लेकिन अपनी मातृभाषा गर्व करने की चीज है। हमें कभी भी अपनी मातृभाषा में बोलने में झीझक नहीं होनी चाहिए। 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कार्यक्रम के मुख्यमं अतिथि अर्जुन मल्होत्रा का आभार जतातेे कहा कि आपने आज हमारे बच्चों को अपनी यात्रा के बारे में बताया। आपके इस बातचीत में कई ऐसे बिंदू वैल्यू सिस्टम से संबंधित थे। आपने कहा कि सब बच्चों के मन में होता है कि पैरेंट्स को कुछ नहीं पता है और हमें सब कुछ पता है, यह जेनरेशन गैप है। आपने इसे बहुत मार्मिक तरीके से समझाया। आपने कहा कि कुछ भी असंभव नहीं है। अगर आप ठान लें कि मुझे यह करना है, तो उसके रास्ते निकलते हैं। आपने अपनी कहानी बताई, जो आपका एक्साइज इंस्पेक्टर के साथ बातचीत हुआ। मैं समझता हूं कि किसी भी सफल व्यक्ति के पीछे चाहे वह बिजनेस या किसी भी क्षेत्र में सफल हो, उसका वैल्यू सिस्टम है, जो उसके लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है। वह वैल्यू सिस्टम ही है, जो उसे अलग अलग स्तर पर लेकर जाता है। आपके पूरे बातचीत के दौरान बहुत सारी अच्छी चीजें हमारें बच्चों को सीखने को मिलीं। मैं उम्मीद करता हूं कि समय-समय पर आपको बच्चों के साथ संवाद के लिए बुलाते रहेंगे।

****

Maurya/

Delhi Govt launches awareness campaign to protect people from earthquakes: CM Arvind Kejriwal #DelhiGovernance #AAPatWork #10PointGuarantee

OFFICE OF THE CHIEF MINISTER

GOVT. OF NCT OF DELHI

****

*Delhi Govt launches awareness campaign to protect people from earthquakes: CM Arvind Kejriwal*

*Around 18 mild tremors have taken place in and around Delhi since April, two registered above 4 on the Richter scale: CM Arvind Kejriwal*

*As your Chief Minister, it is my firm belief that Delhi must always be prepared and aware of any crisis: CM Arvind Kejriwal*

*Delhi government is making people of Delhi aware about precautions to be taken during and after an earthquake*

New Delhi: *29th July 2020*  

Considering the frequency of earthquakes in Delhi since April this year, the Delhi government has launched an awareness campaign on the steps to be taken by the people during and after an earthquake. The campaign aims at making homes, offices, schools, and other commercial and residential spaces fully prepared and efficiently deal with earthquakes. Since April 2020, a total of 18 very mild tremors have been felt across Delhi. The campaign of the Delhi government will also help people be well-prepared and take measures to minimize the damage and effects of the earthquakes. 

CM Arvind Kejriwal said, “The last few weeks have taught us the importance of awareness, preparation, and timely action. That is why your government is announcing a new campaign to prepare the people of Delhi for the unlikely event of an earthquake. Since April 2020, 18 very mild tremors have taken place in and around Delhi. Only two of these have registered above 4, or mild intensity, on the Richter Scale. However, as your Chief Minister, it is my firm belief that Delhi must always be prepared and aware of any crisis. My policy is simple: prepare today to save lives tomorrow. We have compiled useful information that will prepare homes, schools, and workplaces in Delhi, to react to an earthquake emergency with calm and efficiency. Together let us build a Delhi that is prepared to face any crisis.” 

*Do’s and Dont’s if an earthquake strikes -* 

*WHAT TO DO BEFORE EARTHQUAKE*

– Check the sturdiness of your home and workplace.

– Consult with a structural engineer if necessary and fix cracks and any weaknesses.

– Check that all furniture in your home and office is securely fastened to the floor, walls, or ceiling. Take particular care that wheeled furniture or storage is locked in place when not being moved.

– Scan all your important documents such as passport, ration card, Aadhaar card, prescriptions, medical records, etc. and store copies online or in your email address.

– Ensure all the members of your household, including children, and employees in your office are aware of the Disaster Management Helpline, Govt. of NCT of Delhi: 1077. Save this number on your mobile phone, and display this number in a prominent place.

– Teach yourself and others the Drop-Cover-Hold technique in case of tremors.

*WHAT TO DO AFTER EARTHQUAKE* 

– Be alert, and prepare for aftershocks.

– Stay away from windows, tall buildings, or other precarious structures.

– Carefully check yourself and your family for injuries before moving. Be particularly careful when moving anyone with head or neck injuries. When in doubt stay put

– If in a multi-story building always use stairs.

– If you are trapped or isolated try to conserve energy, and minimize the use of mobile phones and other devices that require battery power.

– If you are trapped, instead of shouting, try to use objects around you to make noise safely.

*BE PREPARED WITH EMERGENCY KIT*

– Torch

– Power Bank and charging cables

– Essential drugs

– A small amount of cash

– Photocopies of important identification documents

– Information on blood group and any allergy information

– First aid kit

– Bottle of water

*IF YOU ARE INDOORS*

– Practice DROP-COVER-HOLD. DROP (bend) under a strong table or an elevated bed, COVER your head with one hand and HOLD furniture with the other.

– Stay away from windows, bookcases, book shelves, heavy mirrors, hanging plants, fans and other heavy objects. Stay under cover till the shaking stops.

– After the tremors subside, exit your home or school building and move to open fields.

– Do not push others.

*IF YOU ARE OUTDOORS*

– Move to an open area, away from trees, signboard, building, electric wires, and poles.

*IF YOU ARE IN A HIGH-RISE BUILDING*

– Move away from the exterior wall immediately and protect your head. If you have a helmet, wear it. 

– Do not use the lift. Stay away from the windows.

*IF YOU ARE DRIVING* 

– Move to the side of the road and stop

– Move away from flyovers, power lines, and advertisement boards, jump out of the car and crouch on its side.

– Do not sit inside the car.

*IF YOU ARE IN A STADIUM, THEATRE, OR AUDITORIUM*

– Stay inside. Do not rush out towards the exit. Stay in your seat and cover your head with our arms and stay calm till the shaking is over. Then move out in an orderly manner.

– Let younger children, elderly, and disabled people leave first. 

– Do not panic.

*AFTER THE TREMORS SUBSIDE*

– Check for injuries and first treat yourself. Then help others.

– Remain calm and self-assured and help others who are distressed.

– Check for fire. Call the Fire Service (101) or Police Control Room (100) and Disaster helpline (1077).

****

Maurya/

****

*मुख्यमंत्री कार्यालय,*

*एनसीटी, दिल्ली सरकार।*

————– 

*सरकार ने दिल्ली वासियों को भूकंप जैसी आपदा से बचाने के लिए जागरूकता अभियान शुरू किया- अरविंद केजरीवाल*

*- अप्रैल से अब तक दिल्ली व उसके आसपास भूकंप के करीब 18 हल्के झटके आए, दो बार रिक्टर पैमाने पर 4 या इससे अधिक की तीव्रता दर्ज की गई- अरविंद केजरीवाल*

*- आपके मुख्यमंत्री के रूप में मेरी यह जिम्मेदारी है कि किसी भी संकट के लिए दिल्ली को हमेशा तैयार और जागरूक रखूं – अरविंद केजरीवाल*

*- दिल्लीवासियों को भूकंप आने की स्थिति में सुरक्षित रखने के प्रति दिल्ली सरकार कर रही जागरूक*

*नई दिल्ली, 29 जुलाई, 2020*

दिल्ली सरकार ने भूकंप से बचने के लिए दिल्ली निवासियों को जागरूक करने के लिए अभियान की शुरूआत की है। इस अभियान के दौरान दिल्ली निवासियों को भूकंप आने की दशा में बचाव और ऐहतियात बरने के संबंध में जागरूक किया जा रहा है। दिल्ली में अप्रैल से अब तक करीब 18 बार में भूकंप के झटके आ चुके हैं। हालांकि इसकी तीव्रता ज्यादा नहीं थी, इसलिए किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ। फिर भी दिल्ली सरकार ने दिल्ली निवासियों को भूकंप आने की दशा में खुद को और परिवार को सुरक्षित रखने के प्रति जागरूक कर रही है। 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बीते कुछ हफ्तों ने हमें जागरूकता, तैयारियां और अलर्ट रहते हुए समय पर कार्रवाई का जीवन में महत्व सिखाया है। इसीलिए सरकार, भूकंप जैसी आपदा के प्रति दिल्ली वासियों को तैयार करने के लिए एक नया अभियान शुरु कर रही है। अप्रैल 2020 से दिल्ली और उसके आसपास भूकंप के करीब 18 हल्के झटके आ चुके हैं। इनमें से दो बार रिक्टर पैमाने पर 4 या उससे अधिक की तीव्रता दर्ज की गई है। ऐसे में आपके मुख्यमंत्री के रूप में मेरी यह जिम्मेदारी है कि किसी भी संकट के लिए दिल्ली को हमेशा तैयार और जागरूक रखूं। मेरे सिद्धांत बिल्कुल स्पष्ट हैं, आने वाले कल में दिल्ली वासियों के जीवन को सुरक्षित रखने के लिए तैयारी आज से ही शुरू करनी है। 

*भूकंप के पहले क्या करना चाहिए-*

– अपने घर और काम करने वाली जगह की मजबूती की जांच करवाएं।

– अगर जरूरत पड़े तो स्ट्रक्चरल इंजीनियर से सलाह लें और दरार व

अन्य खािमयों को सही करवाएं।

– जांच कर लें कि आपके घर या ऑफिस के सभी फर्निचर जमीन, दीवार व छत से मजबूती के साथ सटे हों या बंधे हों। पहियों वाले फर्निचर व

कोई स्टोरेज उपकरण आदि जमीन पर जहाॅं रखें हों, वहॉं वो अच्छे

तरीके से लॉक किए गए हों।

– अपने सभी जरूरी महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे पासपोर्ट, राशन कार्ड, आधार

कार्ड, प्रिस्क्रिप्शन, मेडिकल रिकॉड्र्स आदि को स्कैन करके ऑनलाइन

या अपने ईमेल एड्रेस पर सुरिक्षत रख लें।

– यह सुिनश्चित करें कि आपके घर के लोगों खासकर बच्चे व ऑफिस

के कर्मिर्यों को आपदा प्रबंधन हेल्पलाइन, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, दिल्ली सरकार, 1077 के बारे में पता रहे। इस नंबर को अपने मोबाइल में सेव कर लें और सही जगह पर इसे लगा भी दें।

– भूकंप का बेहतर सामना करने के लिए खुद को और दूसरों को ड्रॉप कवर-होल्ड तकनीक सिखाएं।

—-

*भूकंप के बाद क्या करना चाहिए*

– भूकंप के बाद के झटकों से सावधान व सचेत रहें।

– खड़िकयों, ऊंची इमारतों और दूसरे ढ़ाचों से दूरी बनाए रखें।

– अपनी जगह छोड़ने से पहले खुद व परिवार वालों को देख लें कि कहीं चोट तो नहीं आई है। अगर किसी को सिर या गदर्न पर चोट आई हो, तो जगह छोड़ने से पहले पूरी सावधानी

बरतें। अगर कोई शंका हो, तो अपनी जगह पर बने रहें।

– अगर आप किसी बहुमंजिला इमारत में हैं, तो उतरने के लिए हमेशा सीढ़ियों का इस्तेमाल करें।

– अगर आप कहीं फंसे हैं या सुनसान जगह पर हैं, तो अपनी ऊर्जा बचाएं रखें और मोबाइल व बैटरी से चलने वाले दूसरे उपकरण का कम से कम इस्तेमाल करें।

– अगर आप फंसे हैं, तो खुद आवाज लगाने की जगह आसपास की चीजों से आवाज करने का प्रयास करें।

——-

*आपातकालीन किट तैयार रखें-*

-टॉच, पाॅवर बैंक व चार्जिंग कंबल, जरूरी दवाइयां, एलर्जी की बीमारी से सम्बंधित जानकारी, थोड़ा बहुत कैश, जरूरी पहचान पत्रों की फोटो कॉपी, अपने ब्लड ग्रुप की जानकारी व एलर्जी संबंधित जानकारी, फस्र्ट ऐड किट, पानी की बोतल आदि।

—–

*अगर आप आपदा वाली जगह फंस गए हों, तो ऐसा करें-*

– यदि अंदर हैं तो, ड्रॉप-कवर-होल्ड का अभ्यास करें। किसी मजबूत मेज या बेड के नीचे चले जाएं। एक हाथ अपने सिर पर रखकर उसे सुरिक्षत करें और दूसरे हाथ से फर्निचर को थाम लें। खिड़कियों, बुककेस, बुकशेल्फ, बड़े आकार के शीशे, लटकते हुए पौधे, पंखे और दूसरी भारी चीजों से दूर रहें। भूकंप के झटके रुकने तक अपने आपको इन चीजों से बचाए रखें। जब झटके रुक जाएं, तो अपने घर या स्कूल की इमारत से बाहर निकल कर खुले मैदान की ओर जाएं। दूसरों को धक्का ना दें।

– यदि आप बाहर हैं तो, खुली जगह पर जाएं और पेड़, साइन बोर्ड, बिल्डिंग, बिजली के तार व खंभों से दूर रहें।

-ऊंची इमारत में हैं तो, बाहरी दीवार से तुरंत दूर हट जाएं और अपना सिर बचाएं। अगर आपके पास हेल्मेट हो तो उसे पहन लें। लिफ्ट का इस्तेमाल न करें और खिड़िकयों से दूर रहें।

– ड्राइविंग कर रहे हैं, तो गाड़ी को सड़क के  किनारे रोक कर इंजन को बंद कर दें। फ्लाई ओवर, पाॅवर लाइन व विज्ञापन बोर्ड से दूर रहें। कार से बाहर निकलकर उसके साइड में नीचे लेट जाएं। किसी भी स्थित में कार के अंदर न रहें।

– किसी स्टेडियम, ऑडिटोरियम या थियेटर में हैं तो, अंदर रहें और बाहर की ओर दौड़कर भागने की कोशिश न करें। अपनी कुर्सी पर रहें और अपने हाथों से सिर को ढंक लें। भूकंप के झटके रुकने तक शांत रहें। उसके बाद सही तरीके से वहां से बाहर निकलें। बच्चों, बुजुर्ग व दिव्यांगों को पहले निकलने दें। परेशान न हों।

-झटके रूक जाने के बाद, सुिनश्चित करें लें कि कहीं चोट तो नहीं आई है। सबसे पहले खुद को देखें, फिर दूसरों की मदद करें। शांत रहें और अपना आत्म-विश्वास बनाए रखें। जो संकट में हैं, उनकी मदद करें। आग की जांच करें व जरूरत पड़ने पर फायर सर्विस 101 या पुिलस कंट्रोल रूम 100 या आपदा प्रबंधन हेल्पलाइन 1077 पर कॉल करें।

——

Maurya/

In view of the improving situation and all hotel beds lying vacant for the last many days, these hotels are now being released: CM Arvind Kejriwal #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

OFFICE OF THE CHIEF MINISTER

GOVT. OF NCT OF DELHI

****

*In view of the improving situation and all hotel beds lying vacant for the last many days, these hotels are now being released: CM Arvind Kejriwal*

*Delhi government had attached several hotels as Covid Care Centres to hospitals considering the increasing number of Covid patients in Delhi*

*If any patient’s antigen test is negative but has symptoms, RT-PCR test must be done on him: CM Arvind Kejriwal*

New Delhi: 29-07-2020

Chief Minister Arvind Kejriwal on Wednesday ordered the de-linking of the hotels attached to the hospitals in Delhi for the availability of beds for COVID patients. He said that the hotels are now being released given the improving COVID-19 situation in Delhi. Delhi now has less than 11,000 active cases in the city, and more than 88% of cases have recovered. 

CM Arvind Kejriwal tweeted, “Some hotels were attached to hospitals to increase the number of COVID beds. In view of the improving situation and all hotel beds lying vacant for the last many days, these hotels are now being released.”

In early June, around 40 hotels were attached with the Delhi government, after orders were issued to the DMs of the 11 districts to attach hotels such as Hyatt Regency, Pullman, and others. The linking of the hotels enhanced the capacity of the COVID-19 beds by 4600. 

In another tweet, CM Arvind Kejriwal said, “Existing guidelines say that if any patient’s antigen test is negative but has symptoms, RT-PCR test must be done on him. I directed the officers today to ensure strict compliance of these guidelines.”

The number of Corona cases in Delhi were increasing in early June. In view of this, the Delhi Government had established Covid Care Centers in about three dozen hotels, besides increasing the Covid beds in government and private hospitals. Although some hotel owners initially went to court against the decision of the Delhi government, the Delhi government won the case. During the surge in Corona cases, many patients were kept in hotels. With the efforts of Chief Minister Arvind Kejriwal, the condition of Corona in Delhi has improved significantly and at present only about 10,000 cases are active. The Delhi government has more than 15,000 Covid beds, out of which more than 12000 remain vacant.

****

Maurya/

***

*मुख्यमंत्री कार्यालय,*

*एनसीटी, दिल्ली सरकार*

————- 

*- दिल्ली में कोविड की स्थिति में सुधार व होटलों में खाली पड़े बेड को देखते हुए होटलों में बने कोविड केयर सेंटरों को डी-लिंक किया जा रहा- अरविंद केजरीवाल*

*- दिल्ली सरकार ने कोविड के मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर कई होटलों में केयर सेंटर स्थापित कर अस्पतालों से अटैच किया था*

 *- यदि किसी मरीज का एंटीजन टेस्ट निगेटिव है, लेकिन उसमें कोविड का लक्षण हैं, तो उसका आरटी- पीसीआर टेस्ट किया जाएगा- अरविंद केजरीवाल* 

*नई दिल्ली, 29 जुलाई, 2020*

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोविड मरीजों के लिए अस्पतालों से अटैच कर विभिन्न होटलों में बनाए गए कोविड केयर सेंटरों को अब डी-लिंक करने का फैसला किया है। दिल्ली में लगातार नियंत्रित हो रहे कोरोना के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने यह फैसला लिया है। कोरोना को नियंत्रित होने की वजह से होटलों में बनाए गए केयर सेंटरों में मरीज नहीं हैं, इसलिए होटल संचालकों ने इन कोविड केयर सेंटरों को डी-लिंक करने की अपील की थी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोविड की स्थिति में सुधार और कई दिनों से खाली पड़े होटलों के बेड को देखते हुए इन्हें डी-लिंक किया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर किसी मरीज का एंटीजन टेस्ट निगेटिव है, लेकिन उसमें लक्षण हैं, तो उसका आरटी- पीसीआर टेस्ट किया जाएगा। यह निर्णय मुख्यमंत्री आवास पर कोविड बेड और टेस्ट के हालात पर चर्चा के लिए बुलाई गई मीटिंग में लिया गया। 

जिसके बाद मुख्यमंत्रीअरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘कुछ होटल कोविड बेड की संख्या बढ़ाने के लिए अस्पतालों से जोड़े गए थे। दिल्ली में कोविड की स्थिति में सुधार और पिछले कई दिनों से खाली पड़े सभी होटल के बेड को देखते हुए अब इन होटलों को मुक्त किया जा रहा है।’’

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक और ट्वीट कर कहा ‘‘मौजूदा दिशा निर्देश कहते हैं कि यदि किसी भी मरीज का एंटीजन टेस्ट नकारात्मक है, लेकिन उसमें लक्षण हैं, तो आरटी- पीसीआर टेस्ट उस पर किया जाना चाहिए। मैंने आज अधिकारियों को इन दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया।’’

उल्लेखनीय है कि जून माह के शुरूआत के दौरान दिल्ली में कोरोना के केस बढ़े थे। इसी के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने सरकारी और निजी अस्पतालों में कोविड बेड बढ़ाने के साथ ही करीब तीन दर्जन होटलों में भी कोविड केयर सेंटर स्थापित किया। हालांकि शुरूआत में कुछ होटल मालिक दिल्ली सरकार के फैसले के खिलाफ कोर्ट चले गए, लेकिन वहां भी दिल्ली सरकार को जीत मिली थी। केस बढ़ने के दौरान काफी मरीजों को होटलों में रखा गया था, लेकिन अब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रयासों से दिल्ली में कोरोना की स्थिति में काफी सुधार आ गया है और फिलहाल करीब 10 हजार केस ही एक्टिव हैं। दिल्ली सरकार ने 15 हजार से अधिक कोविड बेड का इंतजाम किया है, जिसमें से 12 हजार से अधिक बेड खाली पड़े हैं। 

500 km of Delhi roads to be redesigned along the lines of European cities #Sustainability #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona

Office of Chief Minister

Govt of NCT of Delhi

****

*500 km of Delhi roads to be redesigned along the lines of European cities*

*- Under the first pilot project, approval was given for the re-designing of 7 roads of Delhi*

*- CM Arvind Kejriwal reviewed this scheme on Tuesday, directed 500 kms long roads (all 100 ft wide) to be redesigned along the lines of Chandni chowk*

*- Chief Minister Arvind Kejriwal asked for a detailed plan on redesigning of 500 km of roads from PWD department in three weeks*

*- The roads will be redesigned on Build–Operate–Transfer (BOT) model, construction company will have the responsibility to maintain the road for 15 years*

*- Deadline of the pilot project for 7 roads extended to August 2021 due to COVID, earlier December 2020 was the deadline*

NEW DELHI : July 28, 2020

Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal on Tuesday held a review meeting of the PWD department regarding redesigning of 7 roads in Delhi on the lines of European cities. During the meeting, the CM have directions for all 100-foot-wide roads of Delhi, total 500-km-long roads will be completely redesigned as per international standards and along the lines of newly redesigned Chandni Chowk’s main road. Chief Minister Arvind Kejriwal has asked for a detailed plan on redesigning of 500 km roads from PWD department in three weeks. The project will follow the Build–Operate–Transfer (BOT) model, the constitution company will have the responsibility to maintain the road for 15 years. The deadline of redesigning the first 7 roads was extended till August 2021 due to COVID, earlier December 2020 was the deadline. 

*Redesigning to solve various issues through proper planning and mapping*

People face issues because there are bottleneck roads, which create the problem of traffic congestion at various locations in the city. The wide roads in many parts of Delhi differently turn into a narrow road, and then back into a wide road after a few kms, which creates a bottleneck situation and heavy traffic at particular locations. The priority will be removing those bottlenecks first, for a smooth flow of traffic and an organized lane system. The second goal would be to increase the efficiency of the existing space of the roads in the city so that spaces are best utilized as per their abilities. There will be measured and planned spaces for vehicles, non-motorized vehicles, footpaths, and side-lanes. The footpaths will be widely mapped to an average of 10 feet for the convenience of the pedestrians. These footpaths will be redesigned and reconstructed as per a standard height for the convenience of physically handicapped.

*Roads to have separate spaces for tree plantation*

There will be separate spaces for the planting of trees on the sides of the footpaths. There will be separate parking spaces for the electric vehicles and auto-rickshaws alongside the footpaths. The slope of the roads, as well as the drains, will be redesigned to tackle the problem of waterlogging on the roads. Rainwater harvesting structures will be built inside the drainage systems to store rainwater as groundwater.

*No surface will be left unpaved or unescaped for dust control*

Not even an inch of the surface of any road or roadside will be left uncovered, in order to ensure that there is no dust on the roads. Adequate grasses and shrubs will be planted on all surfaces to ensure dust control.

*******************

CM Arvind Kejriwal said, “Delhi is the capital of the country. Through this project, it is our dream that Delhi looks like other global capital cities. This will present a better image of India in the world. The Delhi government is continuously working to improve Delhi’s roads. A large number of people come to Delhi from abroad and if the roads here are beautiful and congestion-free, then this present a different image of India in front of the world. We will also increase the greenery beside these roads which will help us to combat pollution.”

*The following facilities will be developed*

– Parking for rickshaws

– Specific parking space 

– Green Belt

–  Open spaces for public

– Cycle lanes

– Pedestrian lanes

– Different types of design will be displayed on the walls by the road

– No parks visible from the roads will be covered by walls

****

Maurya/

****

मुख्यमंत्री कार्यालय

दिल्ली सरकार, दिल्ली

———-

*यूरोपीय शहरों की तरह होंगी दिल्ली की 500 किलोमीटर सड़कें*

*- पहले पायलट प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली की 7 सड़कों के री-डिजाइन को दी गई थी मंजूरी* 

*- मंगलवार को समीक्षा के दौरान चांदनी चौक को पायलट प्रोजेक्ट मानते हुए सीएम ने दिल्ली की 100 फीट चौड़ी 500 किमी. सड़कों तक इस योजना का विस्तार किया*

*- मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तीन सप्ताह में पीडब्ल्यूडी विभाग से 500 किमी सड़कों का विस्तृत प्लान मांगा*

*- बिल्ट-आँपरेट-ट्रांसफर (बीओटी) की तर्ज पर होगा सड़कों का निर्माण, 15 साल तक मेंटिनेंस का जिम्मा होगा निर्माण कंपनी के पास*

*- पायलट प्रोजेक्ट के तहत 7 सड़कों का दिसंबर 2020 तक पूरा होना था काम, अब कोरोना के कारण अगस्त 2021 तक बढ़ाई गई समय सीमा*

*नई दिल्ली, 28 जुलाई, 2020*

देश की राजधानी दिल्ली की 100 फीट चौड़ी, 500 किलोमीटर लंबी सड़कें यूरोपीय शहरों की तरह खूबसूरत बनाई जाएंगी। पहले, पायलट प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली की 7 सड़कों के री-डिजाइन करने की योजना मंजूरी दी गई थी। इस संबंध में मंगलवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने समीक्षा बैठक की। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में पुर्न विकसित की गई चांदनी चौक सड़क को पायलट प्रोजेक्ट मानते हुए दिल्ली की 100 फीट चौड़ी करीब 500 किलोमीटर सड़कों तक इस योजना का विस्तार कर दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीडब्ल्यूडी विभाग से तीन सप्ताह में 500 किमी सड़क का विस्तृत प्लान मांगा है। इन सड़कों का विकास बिल्ट-आँपरेट-ट्रांसफर (बीओटी) की तर्ज पर होगा और निर्माण करने वाली कंपनी 15 साल तक मेंटिनेंस की जिम्मेदारी संभालेगी। पायलट प्रोजेक्ट के तहत जिन 7 सड़कों का काम दिसंबर 2020 तक पूरा होना था, उनकी समयसीमा को कोविड-19 के चलते अगस्त 2021 तक बढ़ा दी गई है। 

 *सड़कों से कई समस्याएं हो जाएंगी खत्म* 

सड़कों के री-डीजाइन से बाटलनेक खत्म होंगे। अभी कोई सड़क चार लेन से तीन लेन की हो जाती है या छह लेन से चार लेन की हो जाती है। इससे अचानक सड़क पर एक जगह दबाव बनता है और जाम लग जाता है। नई डिजाइन में इसे खत्म किया जाएगा। इससे जाम लगना खत्म हो जाएगा। सड़क व सड़क किनारे या आस-पास की सड़कों का स्पेस खत्म किया जाएगा। इसका बेहतर इस्तेमाल होगा। फुटपाथ, नाँन मोटर व्हीकल के लिए स्पेस बनाया जाएगा। कम से कम 5 फुट के फूटपाथ को अधिकतम 10 फुट का किया जाएगा। दिव्यांग के हिसाब से फूटपाथ को डिजाइन किया जाएगा। जिससे सड़क एक जैसी दिखे। साथ ही दिव्यांगों को परेशानी न हो।  

*हरियाली को बढ़ाया जाएगा, नालों में री-हार्वेस्टिंग सिस्टम लागू होगा*

अभी सड़कों के किनारे हरियाली का दायरा बहुत कम है। नई री-डिजाइन में फुटपाथ पर पेड़ के लिए जगह होगी। साथ ही ग्रीन बेल्ट के लिए जगह होगा। आटो व ई-रिक्शा के लिए अलग से स्पेस व स्टैंड होगा। सड़क के स्लोप व नालों को री-डिजाइन व री-कंस्ट्रक्ट किया जाएगा। नालों के अंदर री-हार्वेस्टिंग सिस्टम होंगे। सड़क के स्लोप को ठीक किया जाएगा। जिससे बरसात के पानी को जमीन में री-चार्ज किया जाएगा। स्ट्रीट फर्नीचर लगेंगे। जंक्शन को ठीक किया जाएगा। सड़क पर कोई ओपन स्पेस नहीं होगा। सड़क किनारे घास लगेगा या पेड़ लगेगा। सड़कों को री-सर्फेस किया जाएगा।  

*घास लगा सड़कों से खत्म किया जाएगा धूल*

सड़क के आस-पास एक इंच जमीन भी खाली नहीं होगी। जिससे सड़कों पर धूल बिल्कुल न हो। अभी सड़कों पर धूल उड़ने की समस्या है, जिससे लोगों को बेहद समस्या होती है। सड़कों के री-डिजाइन में सड़क की एक इंच जमीन भी खाली नहीं होगी। खाली जमीन पर ग्रीन बेल्ट या घास होगा। जिससे सड़कें सुंदर दिखें। साथ ही धूल उड़ने की समस्या बिल्कुल न हो। 

————————–

‘‘ दिल्ली देश की राजधानी है। वह यूरोपीय देश की राजधानी की तरह दिखे, यह हमारी कोशिश है। जिससे दुनिया में भारत की छवि बेहतर हो। दिल्ली सरकार दिल्ली की सड़कों को बेहतर करने के लिए लगातार काम कर रही है। दिल्ली में बड़ी संख्या में विदेश से लोग आते हैं। अगर यहां कि सड़क सुंदर व जाम मुक्त होंगी तो पूरी दुनिया में भारत की छवि अच्छी बनेगी। साथ ही सड़कों के किनारे व सेंट्रल वर्ज में हरियाली दिखेगी। जिससे दिल्ली में प्रदूषण भी कम करने में मदद मिलेगी व सडकें सुंदर भी दिखेंगी। सडकों की री-डिजाइन के दौरान बाटेलनेक को पूरी तरह से खत्म कर दिया जाएगा। सड़कों की पूरी जमीन का प्लानिंग के तहत इस्तेमाल किया जाएगा।’’ 

 *- अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री दिल्ली* 

—————-

*यह सुविधाएं भी होंगी-*

– रिक्शा के लिए पार्किंग 

– पार्किंग के लिए स्थान चिंहित 

– ग्रीन बेल्ट 

– पब्लिक ओपन स्पेश 

– साइकिल लेन

– पैदल पाथ लेन

– सड़क की दीवारों पर विभिन्न तरह की डिजाइन का डिस्प्ले होगा।

– सड़क के बगल में पार्क होगा तो उसे दीवार से ढका नहीं जाएगा। जिससे सड़क किनारे से पार्क व्यू हो सके। 

—————

Maurya/