With the new start-up policy, we aim to make Delhi as one of the top 5 global destinations for start-ups: CM Arvind Kejriwal #DelhiGovernance #DelhiFightsCorona #10PointGuarantee

OFFICE OF THE CHIEF MINISTER

GOVT. OF NCT OF DELHI

****

*With the new start-up policy, we aim to make Delhi as one of the top 5 global destinations for start-ups: CM Arvind Kejriwal*

*CM Arvind Kejriwal kicks off consultation process to draft new startup policy with industry leaders and young entrepreneurs*

*The new start-up policy aims to accelerate the growth of startups in Delhi and transform Delhi to the most friendly place in India for startups: CM Arvind Kejriwal*

*In the true spirit of the Delhi Model, the Delhi government will launch an online forum to seek inputs from the general public*

New Delhi:  08th August 2020

Chief Minister Arvind Kejriwal on Saturday convened a meeting with a panel of industry leaders and young entrepreneurs to kickstart the consultation process for Delhi’s new policy for startups and discuss ideas to develop Delhi as a leading choice for startups. The objective of the draft policy is to support entrepreneurs and build a robust economic and policy infrastructure that will create new jobs and bring new competitive dynamics into the current economic system.

The startup policy consultation will be conducted in two stages. Firstly, in the spirit of the Delhi Model of teamwork, the Delhi Government today invited industry leaders, entrepreneurs, and policy experts from various sectors to provide inputs in drafting the new startup policy. Prominent business leaders and entrepreneurs expressed interest and joined hands with the Delhi government in this initiative. The industry leaders who joined today’s meeting includes pioneers like  Ajai Chowdhry (Co-founder, HCL), Rajan Anandan (MD Sequoia Capital), Padmaja Ruparel (Co-founder, Indian Angel Network) and young leaders like Sriharsha Majety (Co-founder and CEO, Swiggy), Farid Ahsan (Co-founder, ShareChat), Suchita Salwan (Founder and CEO, Little Black Book), Tarun Bhalla (Founder, Avishkaar), Riyaaz Amlani, CEO & MD, Impresario Handmade Restaurants etc.

Following this, the Delhi government will soon release a draft Startup Policy and launch an online forum to seek inputs from the general public on the start-up policy. This will give the startup policy a fresh perspective and in the true spirit of the Delhi Model, cement Delhi government’s commitment to delivering results through teamwork and unity.

Referring to a report from TiE from September 2019, the Hon’ble Chief Minister highlighted that with over 7000 start-ups from the region, Delhi has the highest number of active start-ups in the country and now the valuation of the city’s start-ups is about $50 billion. The report states that Delhi-NCR is set to become one of the top five global start-up hubs with 12,000 start-ups, 30 unicorns, and a cumulative valuation of about $150 billion by 2025.

Delhi being the national capital is a hub of students, industries, and many prestigious institutions. In the last few years, the startup ecosystem here has amassed a plethora of opportunities for budding entrepreneurs. At the launch of the startup policy consultation process, CM Arvind Kejriwal said, “Right since my IIT days, I have seen some of the most brilliant minds from India go abroad looking for better opportunities. I believe Indians are the smartest entrepreneurs in the world and all they need is the right opportunity and the right conditions to help them thrive. With this start-up policy, we aim to make Delhi as one of the top 5 global destinations for start-ups.”

The industry leaders welcomed the initiative and lauded CM Arvind Kejriwal’s efforts in reducing the incidence of CoVID in the city and making continuous efforts towards reviving the economy, and lauded the government’s appetite to execute novel ideas. Mr. Rajan Anandan, Managing Director, Sequoia Capital said, “NCR is already the largest startup region in India and within NCR, Delhi has the most number of startups. We were honored to be invited by the Chief Minister of Delhi to provide suggestions on how to make Delhi one of the world’s top 5 startup destinations. The discussion was very good with many ideas on what it will take Delhi’s startup ecosystem to the next level”.

Mr. Riyaaz Amlani, CEO & MD, Impresario Handmade Restaurants said, “I am so glad that the Hon’ble CM has convened this panel. To battle the financial effects of COVID timely measures provided by the Delhi Govt would mean that we can defeat the financial effects  of COVID and come out even stronger.”

*****

Maurya/

****

*मुख्यमंत्री कार्यालय,*

*एनसीटी, दिल्ली सरकार* 

****

*नई स्टार्ट-अप नीति से हमारा लक्ष्य दिल्ली को स्टार्ट-अप के शीर्ष 5 वैश्विक स्थानों में से एक बनाना हैं- सीएम अरविंद केजरीवाल*

*- सीएम अरविंद केजरीवाल ने उद्योग जगत के सफल और युवा एंटरप्रिंन्योर्स के साथ नई स्टार्टअप नीति का मसौदा तैयार करने के लिए परामर्श किया*

*- नई स्टार्ट-अप नीति का उद्देश्य दिल्ली में स्टार्टअप्स के विकास में तेजी लाना और स्टार्टअप के लिए भारत में दिल्ली को सबसे अनुकूल स्थान में बदलना है- सीएम अरविंद केजरीवाल*

*- दिल्ली मॉडल को बढ़ावा देने के लिए दिल्ली सरकार आँनलाइन फोरम शुरू करेगी, जहां आम जनता से इनपुट लिए जाएंगे*

*नई दिल्ली:  8th August 2020*  

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को दिल्ली की नई स्टार्टअप पाॅलिसी और उसे विकसित करने को लेकर उद्योग के नेताओं और एंटरप्रिन्योर्स युवाओं के पैनल के साथ बैठक कर विचार विमर्श किया। मसौदा नीति का उद्देश्य एंटरप्रिन्योर्स की मदद करना, अर्थ व्यवस्था को दोबारा गति देना और नीति के बुनियादी ढांचे का निर्माण करना है, जो नई नौकरियां पैदा करेगा और वर्तमान आर्थिक प्रणाली में नई प्रतिस्पर्धी गतिशीलता लाएगा।

स्टार्टअप नीति परामर्श दो चरणों में आयोजित किया जाएगा। सबसे पहले, दिल्ली मॉडल की टीमवर्क की भावना को बढ़ावा देने के लिए दिल्ली सरकार ने आज नई स्टार्टअप नीति का मसौदा तैयार करने में इनपुट प्रदान करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों के उद्योग के सफल, एंटरप्रिन्योरर्स और पाॅलिसी विशेषज्ञों को आमंत्रित किया। प्रमुख व्यापारिक नेताओं और एंटरप्रिन्योर्स ने इसमें दिलचस्पी दिखाई और इस पहल में दिल्ली सरकार के साथ कदम मिला कर चलने का भरोसा दिया। आज की बैठक में शामिल होने वाले उद्योग के नेताओं में अजय चौधरी (सह-संस्थापक, एचसीएल), राजन आनंदन (एमडी सेकोइया कैपिटल), पद्मजा रूपारेल (सह-संस्थापक, इंडियन एंजल नेटवर्क) और युवा नेता श्रीहर्षा मजेटी (सह-संस्थापक सीईओ, स्विगी), फरीद अहसन (सह-संस्थापक, शेयरचैट), सुचिता सलवान (संस्थापक और सीईओ, लिटिल ब्लैक बुक), तरुण भल्ला (संस्थापक, अविश्कर), रियाज अमलानी, सीईओ और एमडी, इम्प्रेशैरियो हस्तनिर्मित रेस्तरां आदि नेता शामिल हुए।

इसके बाद, दिल्ली सरकार जल्द ही स्टार्टअप नीति का एक मसौदा जारी करेगी और स्टार्ट-अप पॉलिसी पर आम जनता से इनपुट लेने के लिए एक ऑनलाइन फोरम शुरू करेगी। इससे स्टार्टअप नीति को एक नया परिप्रेक्ष्य मिलेगा और दिल्ली मॉडल की यह सही मायने में, टीम वर्क और एकता के माध्यम से परिणाम देने के लिए दिल्ली सरकार की प्रतिबद्धता होगी।

मुख्यमंत्री ने टीआईई की सितंबर 2019 की एक रिपोर्ट का उल्लेख करते हुए प्रकाश डाला कि इस क्षेत्र से 7000 से अधिक स्टार्ट-अप आते हैं। देश के अन्य राज्यों की अपेक्षा दिल्ली में सबसे अधिक स्टार्ट-अप सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं और अब शहर में स्टार्ट-अप का कारोबार 50 बिलियन डाॅलर के करीब है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली-एनसीआर 12,000 स्टार्ट-अप, 30 यूनिकॉर्न और लगभग 150 बिलियन डॉलर के संचयी मूल्यांकन के साथ 2025 तक शीर्ष 5 वैश्विक स्टार्ट-अप हब बनने की ओर बढ़ रहा है। 

दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी होने के नाते छात्रों, उद्योगों और कई प्रतिष्ठित संस्थानों का केंद्र है। पिछले कुछ वर्षों में, यहां के स्टार्टअप इकोसिस्टम ने नवोदित उद्यमियों के लिए अवसरों को पैदा किया है। स्टार्टअप नीति परामर्श प्रक्रिया की शुरूआत करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आईआईटी करने के बाद, मैंने देखा कि भारत के कुछ मेधावी युवा विदेशों में बेहतर अवसरों की तलाश में चले गए है। मेरा मानना है कि भारतीय दुनिया के सबसे होशियार उद्यमी हैं और उन्हें कामयाब होने के लिए सही अवसर और सही परिस्थितियों में मदद की जरूरत है। इस स्टार्ट-अप नीति के साथ, हमारा लक्ष्य दिल्ली को स्टार्ट-अप के लिए शीर्ष 5 वैश्विक स्थलों में से एक बनाना है।

उद्योग जगत के सफल उद्यमियों ने इस पहल का स्वागत किया और शहर में कोविड के संक्रमण को कम करने और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए निरंतर प्रयास करने के लिए सीएम अरविंद केजरीवाल के प्रयासों की सराहना की और इस अनूठे विचारों को निष्पादित करने के लिए सरकार की भूरी भूरी सराहना की। सिकोइया कैपिटल के प्रबंध निदेशक राजन आनंदन ने कहा कि भारत में एनसीआर पहले से ही सबसे बड़ा स्टार्टअप क्षेत्र है और एनसीआर क्षेत्र में दिल्ली में सबसे अधिक स्टार्टअप हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री द्वारा दिल्ली को दुनिया के शीर्ष 5 स्टार्टअप स्थानों में से एक कैसे बनाया जाए, इस पर सुझाव देने के लिए आमंत्रित किए जाने के लिए हम सभी अभारी हैं। यह चर्चा कई विचारों के साथ बहुत अच्छी थी, जो दिल्ली के स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को अगले स्तर पर ले जाएगा।

इम्प्रेशैरियो हस्तनिर्मित रेस्तरां के सीईओ और एमडी श्री रियाज अमलानी ने कहा कि मुझे बहुत खुशी है कि माननीय मुख्यमंत्री जी ने इस पैनल को बुलाया है। दिल्ली सरकार द्वारा दिए किए गए उपायों कोविड से हुए वित्तीय प्रभावों से समय पर लड़ सकते हैं। इसका मतलब यह होगा कि हम कोविड के चलते हुए वित्तीय नुकसान की भरपाई कर सकते हैं और इसे और भी मजबूत बन सकते हैं।

****

Maurya/

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s